UP Board Solutions for Class 11 English Poetry Short Poem Chapter 10 The Palanquin Bearers

UP Board Solutions for Class 11 English Poetry Short Poem Chapter 10 The Palanquin Bearers

These Solutions are part of UP Board Solutions for Class 11 English. Here we have given UP Board Solutions for Class 11 English Poetry Short Poem Chapter 10 The Palanquin Bearers.

About the Poetess : Sarojini Naidu was born in 1879. She was educated in London and Cambridge. She started writing poetry at an early age. She was the first Indian woman of Indian National Congress. She was also the Governor of U.P. She was called The Nightingale of India. She died in 1949.

About the Poem : This poem is a song of palanquin bearers. In this poem Sarojini Naidu describes the action of the palanquin bearers. Its main characteristic is that the poem is not about the bride inside the palanquin but it is about the palanquin itself. The poetess has glorified the poem by using beautiful similes.

Central Idea
The poem is the song of palanquin bearers composed by Sarojini Naidu. These people are very simple and innocent. Their work is very hard and dull. Yet they do it very carefully and cheerfully. The movement of these people is very slow. The palanquin also moves gently and in different ways. Its movements are compared to different movements of starlight, beam of a ship, flower swinging in the wind, etc. [M. Imp.]

(यह कविता पालकी ले जाने वालों का सरोजिनी नायडू द्वारा रचित गीत है। ये लोग बहुत सीधे-सादे और नासमझ होते हैं। उनका कार्य बड़ा कठिन और नीरस है। फिर भी वे इसे सावधानीपूर्वक और प्रसन्नता से । करते हैं। ये लोग बहुत धीरे-धीरे चलते हैं। पालकी भी धीरे-धीरे हिलती है और भिन्न-भिन्न ढंग से इसके हिलने की भिन्न-भिन्न वस्तुओं से तुलना की गयी है; जैसे—सितारों के प्रकाश की गति, जहाज के शहतीर का हिलना, फूलों का, हवा में हिलना आदि।)

EXPLANATIONS (With Meanings & Hindi Translation)

1. Lightly, O lightly, we bear her along,
She sways like a flower in the wind of our song;
She skims like a bird on the foam of a stream,
She floats like a laugh from the lips of a dream.
Gaily, O gaily we glide and we sing,
We bear her along like a pearl on a string.

[ Word-meanings : lightly = धीरे-धीरे softly; bear = ले जाना carry; sways = इधर-उधर हिलना
moves to and fro; skins = हवा में धीरे-धीरे उड़ना glides along in the air; foam = झाग; stream = veoer river; gaily = आनन्दपूर्वक joyfully; glide = धीरे-धीरे चलना move along smoothly; string = डोरी; pearl = मोती।]

भावार्थ- पालकी ले जाने वाले किसी स्त्री को पालकी में लेकर जा रहे हैं और गीत गा रहे हैं। वे आपस में एक-दूसरे से कहते हैं धीरे-धीरे चलो, हम पालकी को लेकर आगे जा रहे हैं। वे गीत गाते हैं और उनके गीत को सुनकर वह पालकी इस प्रकार हिलती है जैसे हवा में कोई फूल हिलता है। जिस प्रकार नदी के झागों पर कोई चिड़िया फुदकती है उसी प्रकार पालकी भी उनके कन्धों पर धीरे-धीरे फुदक रही है। जिस प्रकार कोई बच्चा सपना देखते समय मुस्कराता है उसी प्रकार वह भी गीत को सुनकर प्रसन्न होती है। पालकी ले जाने वाले कहते हैं कि हम प्रसन्नतापूर्वक धीरे-धीरे आगे बढ़ रहे हैं और गीत गा रहे हैं। वे उस सुन्दर पालकी को इस प्रकार सावधानी से ले जा रहे हैं जैसे किसी डोरी पर मोती।)

Reference: This is the opening stanza of the poem ‘The Palanquin Bearers’
composed by Sarojini Naidu.

Context: In these lines the poetess describes how the ordinary people are satisfied with their ordinary work. They work hard and get joy in it. This poem is about the four men who are carrying a palanquin and singing a song with joy

Explanation : The palanquin bearers are carrying a palanquin very softly. They are singing a song very joyfully. When the four palanquin bearers sing, it moves gently like a flower moving in the wind. It moves to and fro as a bird moves on the foam of a river. It smiles like a child in dream. Thus the palanquin bearers are very happy. Simile used in every line makes the poem sweet and simple.

(पालकी ले जाने वाले पालकी को धीरे-धीरे लेकर आगे जा रहे हैं। वे बड़े आनन्द से गीत गा रहे हैं। जब चार कहार आनन्द से गीत गाते हैं तब पालकी धीरे-धीरे इस प्रकार हिलती है जैसे हवा में फूल हिलता है। वह दाएँ-बाएँ हिलती है जैसे एक पक्षी नदी के झागों पर हिलता है। यह उस बच्चे के समान मुस्कराती है जो सपने में मुस्कराता है। इस प्रकार पालकी ले जाने वाले बहुत प्रसन्न हैं। इस पंक्ति में प्रयोग की हुई उपमा इसे सुन्दर और सरल बना देती है।)

2. Softly, 0 softly we bear her along,
She hangs like a star in the dew of our song;
She springs like a beam on the brow of the tide,
She falls like a tear from the eyes of a bride.
Lightly, O lightly we glide and we sing,
We bear her along like a pearl on a string.            [Imp.]

[Word-meanings : hangs = लटकती है; dew = ओस की बूंदें dew drops; springs = अचानक कूदती है, jumps suddenly; beam = शहतीर horizontal cross timber in a ship;brow = भौंह eyebrows.]

भावार्थ- इस पद्यांश में पालकी ले जाने वाले कहते हैं कि वह पालकी को बहुत धीरे-धीरे ले जा रहे हैं। वह लटकी हुई इस प्रकार सुन्दर लगती है जैसे ओस की बूंदों में किसी सितारे की परछाईं। समुद्र में ज्वार-भाटे के समय जहाज में लगा हुआ शहतीर नीचे-ऊपर उछलता है, इसी प्रकार पालकी भी हिलती-डुलती है। वे उसे धरती पर इतनी धीरे से रखते हैं जैसे दुल्हन की आँखों से आँसू गिरता है। वे गाना गाते हुए धीरे-धीरे आगे बढ़ते हैं और वे पालकी को इतनी कोमलता से ले जाते हैं जैसे एक डोरी पर मोती।)

Reference : This is the second or concluding stanza of the poem ‘The Palanquin Bearers’
composed by Sarojini Naidu.

Context : In these lines the poetess describes how the ordinary people are satisfied with their ordinary work. They work hard and get joy in it. This poem is about the four men who are carrying a palanquin and singing a song with joy.

Explanation : The palanquin bearers say that they are going on their journey very joyfully and are singing a song. The palanquin is looking beautiful like a star in the dew drops. It appears shining like a ray of the light shining on the dancing waves of the sea. They put it on the ground very gently as the tears fall from the eyes of a bride. They carry it along gently like the pearls on a string. Thus by singing a song, the palanquin bearers want to escape from the weariness of the journey.

(पालकी ले जाने वाले कहते हैं कि वे अपनी यात्रा पर बड़े आनन्दपूर्वक जा रहे हैं और गीत गा रहे हैं। पालकी ओस की बूंद में सितारे के समान सुन्दर दिखायी दे रही है। यह प्रकाश की उस किरण के समान चमकती हुई दिखायी देती है जो समुद्र की नाचती हुई लहरों पर चमकती हुई दिखायी देती है। वे इसे पृथ्वी पर इतने धीरे से रखते हैं जैसे एक दुल्हन की आँखों से आँसू गिरते हैं। वे इसे इस प्रकार आगे ले जाते हैं जैसे एक डोरी पर मोती। इस प्रकार पालकी ले जाने वाले गीत गाकर यात्रा की थकावट से बचना चाहते हैं।)

Comments : The poetess has beautifully used similies to describe different images.

We hope the UP Board Solutions for Class 11 English Poetry Short Poem Chapter 10 The Palanquin Bearers help you. If you have any query regarding UP Board Solutions for Class 11 English Poetry Short Poem Chapter 10 The Palanquin Bearers, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

Leave a Comment