UP Board Solutions for Class 11 English Prose Chapter 6 A Dialogue on Civilization

UP Board Solutions for Class 11 English Prose Chapter 6 A Dialogue on Civilization

These Solutions are part of UP Board Solutions for Class 11 English. Here we have given UP Board Solutions for Class 11 English Prose Chapter 6 A Dialogue on Civilization.

LESSON at a Glance
The author is having a conversation with a lady named Lucy and draws a line between material advancement and civilization. Lucy holds that wearing proper clothes, riding about in buses and cars, having money to buy things and shops to buy them, is civilization. The author disagrees. He argues that babies wear proper clothes but are not necessarily civilized. He feels that to be civilized, one must have some credit to oneself, something one can be
proud of.

He cites examples of Shakespeare, Raphael and Beethoven. All of them produced beautiful things such as plays, pictures and music. These people did something of which they can be proud of and which give delight to others in all ages. The author is of the view that using money and power just to get what you want and do what you like is not being civilized. In other words, civilization is not just being splendid and grand, and living in luxury like the Caliphs and Princes in the Arabian Nights. According to the author we get sick of these luxuries after using them for some time. But by seeing the beautiful things such as the pictures, we do not get tired of them. We go on liking them of in all ages.

According to the author, all new beautiful things have been invented by civilized people only when they could think freely. To think freely is very often to think differently. As a matter of fact, without free thinking there can be no civilization. For free thinking we must have security, leisure and society. All these three are also necessary for civilization.

Lastly, according to the author being good is also necessary for civilization. Being good means acting justly towards your neighbour and respecting his property and obeying the laws.

पाठ का हिन्दी अनुवाद

1. Myself :I am trying ……..con think of.

लेखक: मैं सभ्यता पर एक पुस्तक लिखने की कोशिश कर रहा हूँ और यह पता लगाना चाहता हूँ कि ‘सभ्य होने का क्या अर्थ है। तुम क्या सोचती हो?
लूसी : मैं सोचती हूँ कि उपयुक्त कपड़े पहनना, बस अथवा कारों में सवारी करना, वस्तुएँ खरीदने के लिए धन होना और उन वस्तुओं को खरीदने के लिए दुकानें होना ही ‘सभ्य होना है।
लेखक : ठीक, किन्तु बच्चे उपयुक्त ड्रेस पहनते हैं और श्रीमती एक्स, वह महिला जिसे तुम पसन्द नहीं करती हो, बसों में सवारी करती है और दुकानों पर वस्तुएँ खरीदती है। क्या तुम कहोगी कि ये बच्चे और श्रीमती एक्से सभ्य हैं?
लूसी : अरे नहीं, मैं नहीं समझती कि वे थोड़ा-सा भी सभ्य हैं। किन्तु आप देखोगे कि यदि वे चाहते तो सभ्य बन सकते थे। अब तो संसार में इतनी वस्तुएँ हैं कि यदि कोई व्यक्ति चाहे तो वह सभ्य बन सकता है।
लेखक : तुम्हारा तात्पर्य किस प्रकार की वस्तुओं से है?
लूसी : मशीनें, रेलगाड़ियाँ, तोर, टेलीफोन और सिनेमा।
लेखक : ठीक है, किन्तु मैं सोचता हूँ कि आज इन वस्तुओं का सभ्यता से कुछ सम्बन्ध अवश्य है, किन्तु मैं यह नहीं मानता कि केवल उनको प्राप्त करने और प्रयोग करने से ही कोई व्यक्ति सभ्य बन जायेगा। आखिरकार सभ्य होने से व्यक्ति को कुछ-न-कुछ श्रेय अवश्य मिलना चाहिए और कोई ऐसी बात जिस पर वह गर्व कर सके और रेलगाड़ी में सवार होने में कोई गर्व की बात नहीं है। अब हम कुछ सभ्य व्यक्तियों के बारे में सोचें और देखें कि क्या यह बात हमारी कुछ सहायता करती है। किसी ऐसे व्यक्ति का नाम लो जिसे तुम सभ्य समझती हो।

2. Lucy: Shakespeare………..they civilized.

लूसी : शेक्सपियर।
लेखक : क्यों ?
लूसी : क्योंकि वह एक महान् व्यक्ति था और लोगों को उसके लिखे हुए नाटकों पर गर्व है।
लेखक : अब मुझे लगता है कि हम उचित उत्तर के निकट आ रहे हैं। किन्तु मुझे यह बताओ कि क्या तुम शेक्सपियर के नाटकों को पसन्द करती हो?
लूसी : अधिक नहीं।
लेखक : तब तुम क्यों कहती हो कि वे महान् हैं?
लूसी : क्योंकि मैं सोचती हूँ कि एक-न-एक दिन मैं पसन्द करूंगी। कुछ भी हो, प्रौढ़ व्यक्ति उन्हें बहुत तूल देते हैं।
लेखक : ठीक, और संसार में अन्य बहुत-सी वस्तुएँ हैं; जैसे—चित्र और संगीत, जिन्हें तुम अभी तक पसन्द नहीं करती हो किन्तु प्रौढ़ व्यक्ति उन्हें तूल देते हैं। यदि शेक्सपियर के नाटक सभ्यता के प्रतीक हैं तो रैफेल के चित्र और बीथोवेन का संगीत भी उतना ही प्रसिद्ध है।
लूसी : मैं भी ऐसा ही सोचती हूँ, यद्यपि मैं उनके विषय में अधिक नहीं जानती।
लेखक : यदि सुन्दर वस्तुएँ; जैसे—नाटक, चित्र और संगीत बनाना ही सभ्य होना है तब तो शेक्सपियर, रैफेल और बीथोवेन जैसे व्यक्ति महत्त्वपूर्ण व्यक्ति हैं।
लूसी : किन्तु वे सभी प्रकार के लोग जिनके विषय में मैंने पढ़ी है; जैसे-अरेबियन नाइट्स के राजकुमार और खलीफा, जिनके पास शानदार वस्तुएँ; जैसे-महल, सिल्क तथा रेशम के कपड़े, हीरे-जवाहरात, इत्र, भड़कीले कपड़े, आश्चर्यजनक कालीन, खाने-पीने की सुन्दर वस्तुएँ थीं तथा सेवा करने के लिए नौकर थे, क्या वे सभ्य नहीं थे?

3. Myself:। am not …..they could.

लेखक: मैं निश्चित नहीं हैं। उनके पास वही था जिसे वे पसन्द करते थे और वही करते थे जो चाहते थे।
लूसी : ठीक है, किन्तु वे ऐसा क्यों नहीं करते?
लेखक : किसी बढ़िया वस्तु के विषय में सोचो जो तुम्हें पसन्द हो।
लूसी : मीठी टॉफी।
लेखक : ठीक, अब जरा कल्पना करो कि तुम बहुत धनी हो और जितना धन तुम चाहती हो उतना धन तुम्हारे पास है और तुमने हजारों-लाखों टॉफियाँ खरीद ली हैं। क्या तुम उनसे तंग आ जाओगी? लूसी : मैं भी ऐसा मानती हूँ।
लेखक : यही बात गुलेलों के साथ भी है।
लूसी : आपका क्या आशय है?
लेखक : ठीक, जॉन को गुलेले अन्य किसी भी वस्तु से अधिक पसन्द हैं। किन्तु मान लो कि वह बहुत धनी है और चूँकि वह गुलेलें अधिक पसन्द करता है, इसलिए वह अपना सारा धन गुलेल खरीदने पर व्यय कर देता है ताकि उसके पास सैकड़ों गुलेलें हों। क्या वह इतनी अधिक गुलेलों से ज्यादा धनी हो जाएगा जितना वह एक या दो गुलेलों से होता है?
लूसी: आपका कहने का अर्थ है कि वह एक समय में एक या दो से अधिक का प्रयोग नहीं कर सकता।
लेखक : हाँ, और बहुत शीघ्र ही वह इन गुलेलों से ऊब जाता है।
लूसी : मुझे भी यही आशा है कि वह उकता जाता है। किन्तु इन सब बातों का क्या आशय है?
लेखक : क्यों नहीं, जिन वस्तुओं के विषय में तुम अरेबियन नाइट्स पढ़ती हो-शानदार महल, भड़कीले कपड़े, सैकड़ों नौकर, इसी प्रकार की अन्य वस्तुएँ-ये सभी मुझे ऐसी मालूम होती हैं जैसे ये वस्तु वयस्कों के लिए टॉफियों और गुलेलों की एवज में हों। कुछ लोग राजाओं के पुत्रों के रूप में जन्म लेते हैं और बड़े होकर वे उत्तराधिकार में शक्ति और धन प्राप्त करते हैं और तब वे अपने मन में कहते हैं, “अब, वह क्या वस्तु है जो मुझे सबसे अधिक पसन्द हो’ और यह पता लगा लेने पर कि वह क्या वस्तु थी, वह अपना सारा धन अपनी उस सर्वप्रिय वस्तु को प्राप्त करने में या बहुत-सी वस्तुओं का संग्रह करने में खर्च कर देते हैं।

4. Lucy:And then ……beautiful things.

लूसी : और फिर वे इससे तंग आ जाते हैं।
लेखक : हाँ, क्योंकि जब कोई व्यक्ति जितना चाहता है, उतना ही प्राप्त कर लेता है और जिन वस्तुओं को वह पसन्द करता है, वह उनका आनन्द लेता है तब वह और अधिक उस वस्तु को प्राप्त करना नहीं चाहता।
लूसी : इसी प्रकार जैसे टॉफियों से ऊब जाते हैं। किन्तु वह व्यक्ति सदा रुक सकता है और पुनः आरम्भ कर सकता है।
लेखक: वही तो रोम के लोग करते थे। वे खूब खाना खाते थे और जब वे और अधिक नहीं खा पाते थे, तब वे बीमार होने के लिए (दस्तों के लिए) कुछ ले लेते थे और जब उनका पेट खाली हो जाता था तब वे पुन: खाना आरम्भ कर देते थे। किन्तु मैं इस बात को सभ्य होना नहीं कहता। क्या तुम कहती हो?
लूसी : नहीं, मैं भी नहीं कहती।
लेखक : आखिरकार सूअर भी यही करते हैं, यद्यपि वे बाद में बीमार होने का ज्ञान नहीं रखते।
लूसी : और सूअर तो बिल्कुल भी सभ्य नहीं होते।
लेखक: ठीक, तब हमें यह कहना चाहिए कि धन और शक्ति को वह वस्तु प्राप्त करने के लिए प्रयोग करना, जो हम चाहते हैं या करना पसन्द करते हैं, थोड़े समय के लिए अच्छा लग सकता है, किन्तु यह बात सभ्य होना नहीं है। दूसरे शब्दों में, शानदार और भव्य होना तथा विलासिता का जीवन व्यतीत करना सभ्यता नहीं है। चूंकि संसार के अधिकांश लोगों ने, जो धनी और शक्तिशाली हुए हैं, अपना धन और शक्ति इसी प्रकार प्रयोग की है, अतः वे सभ्य नहीं थे।
लूसी : क्या अरेबियन नाइट्स के खलीफा के समान चटकीली-भड़कीली वस्तुओं का रखना सभ्य होना नहीं है?
लेखक : नहीं, उसमें नाटकों तथा चित्रों जैसे वस्तुओं का होना भी आवश्यक है जिनके विषय में हम बातचीत कर रहे थे।
लुसी : आप यह कैसे पता लगाते हैं कि कौन-सी वस्तुएँ सुन्दर हैं?

5. Myself: By seeing…….ever changes.

लेखक: जिन वस्तुओं को देखते-देखते हम ऊबते नहीं, वे ही सुन्दर वस्तुएँ हैं और सदा रहती हैं। इसका अर्थ है कि लोग उन्हें सभी युगों में पसन्द करते हैं। लेकिन वयस्कों के लिए टॉफियों का स्थान लेने वाली वस्तुओं के समान अन्य वस्तुएँ थोड़े समय तक रहती हैं, क्योंकि लोग उनसे ऊब जाते हैं। अब हम थोड़ा पीछे चलें। वे दुकानें, मशीनें और कारें जिनके विषय में हम बातचीत कर रहे थे, बिल्कुल भी सुन्दर नहीं होतीं किन्तु फिर भी हमने सोचा कि सभ्य होने से उनका कुछ-न-कुछ सम्बन्ध अवश्य होगा।

लूसी: ठीक है, मैं जानती हूँ कि वह क्या है। उन सभी वस्तुओं का आविष्कार किया गया है और आविष्कार ऐसी वस्तु है जिसे लोग तभी करते हैं जब वे सभ्य होते हैं, क्योंकि जेम्स वाट ने केतली को देखा और न्यूटन ने सेब को गिरते हुए देखा और इसी प्रकार की अन्य घटनाओं को देखने से हम अब आविष्कार ही आविष्कार देखते हैं।

लेखक : ठीक जेम्स वाट और न्यूटन से पहले असंख्य लोगों ने केतली के पानी को उबलते हुए और सेबों को गिरते हुए देखा था फिर भी उन्होंने कोई आविष्कार नहीं किया। क्यों नहीं किया?

लूसी : मेरा विचार है कि उन्होंने उनके विषय में कोई नई बात नहीं देखी।

लेखक : ठीक, किन्तु न्यूटन और जेम्स वाट ने देखी। यही बात है। सेबों के गिरने ने और केतली के पानी को उबलता हुआ देखने ने उन्हें नई बात सोचने के लिए विवश कर दिया और क्योंकि उन्होंने नये-नये विचारों को सोचा, लोग इसे संसार को अधिक अच्छी तरह से समझने लगे और उन्होंने नई-नई वस्तुओं का आविष्कार किया। अब यद्यपि हमने जिन वस्तुओं का आविष्कार किया है उनके विषय में निश्चित नहीं हूँ फिर भी ऐसा अवश्य सोचता हूँ कि नये विचारों को सोचने का यह कार्य, चाहे वह आविष्कार को जन्म दे या न दे, सभ्य होने का प्रतीक अवश्य है।
लूसी : क्यों?

लेखक : क्योंकि जब तक लोग एक जैसी ही बातें सोचते रहते हैं; कुछ भी परिवर्तन नहीं आता।

6. Lucy: You mean ……to civilization.

लूसी : आपका तात्पर्य है कि यदि प्रत्येक व्यक्ति उसी प्रकार से सोचता रहता जिस प्रकार उसके माता-पिता सोचते थे तो हम अब भी असभ्य होते।
लेखक : ऐसा ही है। सभ्यता इसलिए आती है क्योकि लोग नये विचार सोचते हैं और नई बात सोचने के लिए यह आवश्यक है कि हम स्वतन्त्रतापूर्वक सोचें।
लूसी : क्यों, क्या उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए?

लेखक: हाँ, तुम जानती हो कि लोगों ने ऐसा नहीं किया। अधिकतर लोग जिन्होंने अपने ढंग से सोचा है उन्हें यह बात बतायी गयी है कि अन्य लोगों से भिन्न सोचना गलत है। साधारणत: ऐसे पुजारी हुए हैं जिन्होंने उन्हें बताया है कि यदि वे ऐसा वैसा सोचेंगे तब देवता उन्हें दण्ड देंगे और लोग इन पुजारियों की बातों पर विश्वास भी करते थे और देवताओं से डरते भी थे और वैसा ही सोचते थे जैसा उन्हें कहा जाता था। और यदि ये पुजारी न होते तब भी लोग उन व्यक्तियों को पसन्द नहीं करते जो अपने पड़ोसियों से भिन्न प्रकार का आचरण करते। देखो, जब तुम्हारे विद्यालय में अन्य लड़कियों से थोड़ी भिन्न नयी लड़कियाँ आती हैं तब तुम उनसे कितना अमानवीय व्यवहार करती हो और यही बात प्रौढ़ व्यक्तियों में पाई जाती है। स्वतन्त्र रूप से सोचना भिन्न सोचना है और ये बातें लोगों के लिए स्वतन्त्र रूप से सोचने की बात कठिन बताती हैं। फिर भी जैसा हमने देखा है कि बिना स्वतन्त्र रूप से सोचे हुए सभ्यता सम्भव नहीं है।

लूसी : किन्तु मेरी समझ में यह नहीं आता कि अधिकतर लोग स्वतन्त्र रूप से क्यों नहीं सोचते, यदि यह बात इतनी महंत्त्वपूर्ण है जितनी आप कहते हो।

लेखक : बहुत-सी ऐसी बातें होती हैं जो स्वतन्त्र रूप से सोचने का अवसर मिलने से पूर्व आवश्यक होती हैं; जैसे उनके लिए सुरक्षा हो। यदि किसी व्यक्ति को लूटे जाने का या किसी भी समय हत्या किए जाने का भय हो तब वह किसी बात के विषय में स्वतन्त्र रूप से नहीं सोच पाएगा। उसके पास सोचने के लिए खाली समय भी होना चाहिए और यदि उसका सारा समय और शक्ति खाने के लिए भोजन, पहनने के लिए कपड़ा और अपनी आजीविका के लिए धन जुटाने में व्यतीत हो जाता है, तब उसके पास खाली समय सोचने के लिए नहीं बचेगा और अपने विचारों का आदान-प्रदान करने के लिए उसे व्यक्ति भी चाहिए। इस प्रकार तुम कह सकती हो कि सुरक्षा, अवकाश और समाज स्वतन्त्र रूप से सोचने के लिए आवश्यक हैं और यही सभ्यता के लिए भी आवश्यक हैं।

7. Lucy: Is that all ….. are good.

लूसी : क्या सभ्यता के विषय में यही सब कुछ है?
लेखक : मैं सोचता हूँ कि एक और बात भी आवश्यक है।
लूसी : वह क्या है?
लेखक : नेक होने की बात।
लूसी : किन्तु नेक बनने का इससे क्या सम्बन्ध है? वास्तव में कोई भी व्यक्ति नेक होना नहीं चाहता। वे इस कारण नेक बनते हैं कि यदि वे नेक नहीं बनेंगे तब उन्हें बुरा-भला कहा जाएगा या वे झगड़े में पड़ जाएँगे।
लेखक : सम्भवत: ऐसा ही है और यही बात वयस्कों के साथ है। यदि मैं किसी के बच्चे को भगाकर ले जाना चाहता हूँ या उसका गला काटना चाहता हूँ या उसकी कार चुराना चाहता हूँ या उसके रैकिट से टैनिस खेलना चाहता हूँ तो मैं ऐसा इसलिए नहीं करता हूँ कि यदि किसी को पता लग गया तो मैं परेशानी में पड़ जाऊँगा।
लूसी : किन्तु इन सभी का सभ्यता से क्या सम्बन्ध है?
लेखक: यही.यदि हम सभी वह करते जो चाहते और एक-दूसरे के बच्चे को भगाने लगते, एक- दूसरे के . रैकिट चुराने लगते तो समाज नहीं चल पाता। हम एक-दूसरे से किसी-न-किसी वस्तु के लिए लड़ते-झगड़ते रहते और कोई भी व्यक्ति न तो किसी वस्तु का आविष्कार कर पाता और न वस्तुएँ बना पाता और जीवन बहुत खतरनाक बन जाता और कहीं भी सभ्यता जैसी वस्तु नहीं होती।
लूसी : क्या इसी कारण से बड़ी आयु के लोग नियमों का पालन करते हैं और नेक होते हैं?

8. Myself:Perhaps it is ……. go on with.

लेखक : सम्भवत: यही एकमात्र कारण नहीं है। मैं इस विषय में निश्चित नहीं हूँ। किन्तु मुख्य कारणों में से एक कारण यह अवश्य है। इसलिए अब तुम समझ गई होगी कि अच्छे या नेक होने का सभ्यता से कुछ-न-कुछ सम्बन्ध अवश्य है और अच्छे होने का अर्थ है कि अपने पड़ोसी के प्रति न्यायपूर्ण आचरण, उसकी सम्पत्ति का सम्मान और अन्य बातें भी।
लूसी : अन्य क्या बातें ? मैं जानना चाहूंगी कि अच्छा बने रहने का क्या अर्थ है?
लेखक : मैं भी यह बात जानना चाहूंगा और अन्य अनेक व्यक्ति भी जानना चाहेंगे। कुछ भी हो हमने कुछ ऐसी बातों को ढूंढ़ लिया है जो सभ्य होने के लिए आवश्यक हैं। ये हैं सुन्दर वस्तुओं का बनाना, स्वतन्त्र रूप से सोचना, नई बातों के विषय में सोचना, नियमों का पालन करना जिनके बिना लोग एक-दूसरे के साथ मिलकर नहीं रह सकते। प्रौढ़ व्यक्ति पहली प्रकार की वस्तुओं को कला, दूसरी को विज्ञान और दर्शन, तीसरी को राजनीतिक न्याय तथा नीतिशास्त्र कहते हैं। यद्यपि ये सभी वस्तुएँ सभ्यता को नहीं बनातीं, किन्तु फिर भी ये सदा आवश्यक रहेंगी।

Understanding the Text

Explanations
Explain one of the following passages with reference to the context :
1. That is what ……. civilized. Do you?
Reference : These lines have been taken from the lesson ‘A Dialogue on Civilization’ written by C.E.M.Joad.
[ N.B.: The above reference will be used for all explanations of this lesson. )

Context : In this lesson the author explains the meaning of civilization through a dialogue between himself and a little girl Lucy.

Explanation : In these lines the author says that getting as many things as we want does not make one civilized. When we are tired of such things, we stop and begin again. Same thing applies to Romans who used to eat a great quantity of food till they were over eaten. Then they took some medicine for motions. When they had emptied their stomach, they again started eating. So, this is not civilization and no one will call it civilization.

2. They have all been ……. inventions now.

Context: In this lesson the author explains the meaning of civilization through a dialogue between himself and a little girl Lucy.

Explanation : In these lines the author reminds Lucy that machines, cars, etc. are not beautiful but they are connected with being civilized. Lucy agrees and says that they all are the inventions. Inventions are done by civilized people. James Watt watched the kettle boiling and invented steam engine. Newton watched the apple dropping and invented laws of gravitation. So, such inventions are the result of civilization.

3. But Newton and Watt…….. being civilized.
Or
Now, although I am …… being civilized.

Context : In this lesson the author explains the meaning of civilization through a dialogue between himself and a little girl Lucy.

Explanation: In these lines the author explains how the inventions are made. He says many people see the things happening but they think nothing. But there are others who think new thoughts, understand more about the world and invent new things. It is not necessary that every time thinking should lead to invention. But thinking new things is surely a sign of civilization. So, we can say that without civilization there will be no invention.

4. Look, how…….. to think freely.

Context: Inventing new things like Newton and James Watt is also being civilized. Invention of new things requires thinking. But thinking must be free.

Explanation: Prof. Joad says that in school, students are beastly to new girls who are a bit different from others, so the grown-up people dislike those who try to think or act differently. Free thinking is utmost necessary. Free thinking means thinking differently. If we stick to the tradition, we cannot think freely. People are opposed to free thinking. They like conventional thinking. There is always a great resistance to new thoughts. So it is not easy to think freely. But free thinking is very important. It is necessary for civilization. Without it civilization cannot progress and develop.

5. Now, to think freely ………. no civilization.

Context : In this lesson the author explains the meaning of civilization through a dialogue between himself and a little girl Lucy. He says that in the olden times the priests misguided the people. They asked them to think and to do as they advised them. If they thought or did contrary to them, the gods would be angry.

Explanation : In these lines the author explains that thinking freely means thinking differently. But the advice of the priests and the fear of anger of gods prevent a man to think freely. So, for many ages the people followed the priests blindly and did nothing different to their thinking. Hence, there had been no civilization. This type of philosophy checked the way of progress and we could not become civilized.

6. There are a lot of ………… people to talk to.

Context : In this lesson the author throws light on some of the factors which are necessary for civilization, e.g. free thinking, security, etc. In the olden days the people were not allowed to think freely. They believed in priests and did what they asked them to do. They were afraid of the anger of gods if they thought differently. So, there could have been no civilization.

Explanation : In these lines the author describes another factor security which is also very necessary for civilization. If anybody is afraid of being robbed or murdered, he cannot think freely. Besides this, for thinking freely we must have leisure. If we are busy every time in earning money for food, clothes and house, we shall have no free time and we shall not be able to think new things and to talk to other people. Besides this we should have security of our life and property. Thus civilization consists in having free time, security and society.

7. We should all ….. civilization anyway.

Context : In this lesson the author explains the meaning of civilization through a dialogue between himself and a little girl Lucy. He concludes that security, leisure and society-all these three things are necessary to free thinking as well as to civilization.

Explanation : In these lines the author lays emphasis on peace and security which are the most necessary conditions of civilization. If we go on quarrelling with each other, we shall have no time to think or invent new things. In an atmosphere of fear and insecurity, there is always risk to our life. We shall not be able to progress and prosper.

8. But it is certainly…… other things as well.

Context: In this lesson the author explains the meaning of civilization through a dialogue between himself and a little girl Lucy. He comes to the conclusion that security, leisure and society-all these three things are necessary to free thinking as well as to civilization. In an atmosphere of fear and insecurity, there is always risk to our life and we shall not be able to make progress.

Explanation : In these lines the author makes it clear that civilization is a very wide term. Only to have the rules and to follow them does not make a man civilized. Civilization means to be good. If we want to be good or civilized, we should behave our neighbours in a good manner, we should respect his property and we should follow the rules sincerely. So, all these things make us civilized.

9. Grown-ups call ….. go on with.
Or
Anyway we have ……. go on with.
Or
So should I …….. on together.

Context: In this lesson the author describes the meaning of civilization and factors and conditions necessary for it. We should have security, leisure and society so that we may think freely. Moreover, we should behave our neighbours in a good manner and we should respect their property. Only then we can call ourselves civilized.

Explanation : In this concluding paragraph the author says that art, science and philosophy, political justice and ethics are the things which make us civilized. Art means to make beautiful things, science and philosophy mean to think new things freely and political justice and ethics mean to follow the rules. Although there is much to be adopted to be civilized yet these things help us to a great extent in being civilized.

Short Answer Type Questions

Answer the following questions in not more than 30 words :

Question 1.
Name all the activities and things which according to Lucy, make one civilized.    [M. Imp.)
(उन क्रियाओं तथा वस्तुओं के नाम बताइए जो लूसी के अनुसार किसी व्यक्ति को सभ्य बनाती हैं।)
Or
What are the essential elements of civilization ?
( सभ्यता के आवश्यक तत्त्व क्या हैं ?)
Answer:
According to Lucy wearing proper clothes, riding in buses and cars and having money to buy things make one civilized.
(लूसी के अनुसार अच्छे कपड़े पहनना, बसों तथा कारों में यात्रा करना और वस्तुओं को खरीदने के लिए धन होना किसी भी व्यक्ति को सभ्य बना सकता है।)

Question 2.
Does the use of machines, trains, wireless, etc., make you civilized ? If not, give reasons. What do machines and cars have to do with being civilized ?
(क्या मशीनों, रेलगाड़ियों तथा तार आदि का प्रयोग आपको सभ्य बनाता है? यदि नहीं, तो कारण बता इए। सभ्य होने के लिए मशीनें और कारें क्या करती हैं?)
Answer:
No, the use of machines, trains, wireless, etc. do not make us civilized because there is nothing to be proud of in having them.
(मशीनों, रेलगाड़ियों तथा तार आदि का प्रयोग हमें सभ्य नहीं बनाता, क्योंकि इन वस्तुओं को रखने से हम अपने ऊपर गर्व नहीं कर सकते।)

Question 3.
Why should one treat Shakespeare, Raphael, Beethoven, etc. important?
(हमें शेक्सपियर, रैफेल और बीथोवेन को महत्त्वपूर्ण क्यों मानना चाहिए?)
Answer:
One should treat Shakespeare, Raphael and Beethoven important because they have produced beautiful plays, pictures and music which are helpful in civilization.
(हमें शेक्सपियर, रैफेल और बीथोवेन को महत्त्वपूर्ण मानना चाहिए, क्योंकि उन्होंने सुन्दर नाटक, चित्र तथा संगीत बनाया है जो सभ्यता में सहायक हैं।)

Question 4.
How does Joad describe the lifestyle of Caliphs and Princes in the Arabian Nights ? Were they civilized or not [M.Imp.]
(जोड अरेबियन नाइट्स के खलीफा तथा राजकुमारों की जीवन शैली का वर्णन कैसे करता है? क्या वेसभ्य थे या नहीं?)
Or
Why does C.E.M. Joad think that Caliphs and Princes in the Arabian Nights were not civilized ?
(सी० ई० एम० जोड अरेबियन नाइट्स के खलीफा तथा राजकुमारों को सभ्य क्यों नहीं मानता है ?)
Answer:
Joad thinks that Caliphs and Princes in the Arabian Nights were not civilized because they passed only a luxurious life and did not think new things freely.
(जोड सोचता है कि अरेबियन नाइट्स के खलीफा और राजकुमार सभ्य नहीं थे, क्योंकि वे केवल विलासिता का जीवन व्यतीत करते थे और नई बातों को स्वतन्त्रतापूर्वक नहीं सोचते थे।)

Question 5.
Why isn’t it being civilized to own gorgeous things like the Caliphs in the Arabian Nights according to C.E.M. Joad ?
(ऐसी आनन्ददायक और भड़कीली वस्तुओं का स्वामी होना जैसी कि अरेबियन नाइट्स के खलीफा के पास होती थीं, क्यों सभ्य नहीं माना जाता?)
Answer:
It is not being civilized to own gorgeous things like the Caliphs in the Arabian Nights because these things last only for a short time as people get tired of them very soon.
(इन भड़कीली आनन्ददायक वस्तुओं को रखना इसलिए सभ्य नहीं माना जाता क्योंकि लोग इनसे शीघ्र ऊब जाते हैं और फलस्वरूप इनका जीवनं कम होता है।)

Question 6.
What comparison does the writer draw between the Romans and the pigs? Does he think that the Romans were civilized ?
(लेखक रोम के लोगों में तथा सूअरों में क्या तुलना करता है? क्या वह रोम के लोगों को सभ्य मानती है?)
Answer:
The Romans used to eat enormous meals like pigs till they were not tired. The writer thinks that the Romans were not civilized.
(रोमन सूअरों के समान अत्यधिक भोजन खाते थे जब तक कि वे खाते-खाते थक न जाते। लेखक सोचता है। कि रोमन लोग सभ्य नहीं थे।)

Question 7.
Does one become civilized by using money and power ? If not, why?
(क्या कोई व्यक्ति धन और शक्ति का प्रयोग करके सभ्य हो सकता है? यदि नहीं, तो क्यों?)
Answer:
One cannot become civilized only by using money and power because he uses it in making his life luxurious. If he uses money in creating new things, only then he will be civilized.
(कोई व्यक्ति धन और शक्ति का प्रयोग करके सभ्य नहीं हो सकता, क्योंकि वह इसका प्रयोग अपने जीवन को विलासितापूर्ण बनाने में करता है। यदि वह अपने धन को नई-नई वस्तुएँ बनाने में प्रयोग करता है तभी वह सभ्य होगा।)

Question 8.
What, according to Joad, are beautiful things ?
(जोड के अनुसार सुन्दर वस्तुएँ कौन-सी हैं ?)
Answer:
According to Joad, the beautiful things are those things by seeing which we are not tired of. People like them in all ages.
(जोड के अनुसार वे वस्तुएँ सुन्दर होती हैं जिन्हें देखकर हम ऊबते नहीं। लोग उन्हें सभी युगों में पसन्द करते हैं।)

Question 9.
Is it necessary for everyone to invent new things in order to be called civilized ? If not, what is
required of people to do ?
(क्या सभ्य कहलाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को नई वस्तुओं का आविष्कार करना आवश्यक है ? यदि नहीं, तब
मनुष्यों से क्या अपेक्षा की जाती है ?)
Answer:
It is not necessary for everyone to invent new things in order to be called civilized. But to be good and to keep the rules are necessary for everyone.
(प्रत्येक व्यक्ति के लिए यह आवश्यक नहीं कि सभ्य कहलाने के लिए वह नई वस्तुओं का आविष्कार करे। किन्तु भला बनना और नियमों का पालन करना प्रत्येक व्यक्ति के लिए आवश्यक है।)

Question 10.
why do people hesitate to think and act differently from others ?
(दूसरों से भिन्न ढंग से सोचने और कार्य करने में लोग क्यों झिझकते हैं?)
Answer:
Many people hesitate to think and act differently from others because other people hate them. The priests frighten them of God’s anger and punishment.
(बहुत-से लोग अन्य व्यक्तियों से भिन्न ढंग से सोचने और कार्य करने में हिचकिचाते हैं, क्योंकि दूसरे व्यक्ति उनसे घृणा करते हैं। पुजारी उन्हें देवताओं के क्रोध तथा दण्ड के लिए डराते हैं।)

Question 11.
What are the necessary conditions for someone to be able to think freely ? What are the three things necessary to free thinking ?           [Imp.]
(किसी व्यक्ति के लिए स्वतन्त्र रूप से सोचने के लिए क्या शर्ते आवश्यक हैं ? स्वतन्त्र रूप से सोचने के लिए
कौन-सी तीन  वस्तुएँ आवश्यक हैं ?)
Answer:
If anybody wants to be able to think freely, he should not be traditional and orthodox. Security, leisure and good society are the three things necessary to free thinking.
(यदि कोई व्यक्ति स्वतन्त्र रूप से सोचना चाहे तब उसे परम्परावादी तथा कट्टर नहीं होना चाहिए। सुरक्षा, खाली समय तथा अच्छी संगति स्वतन्त्र विचार के लिए तीन मुख्य आवश्यकताएँ हैं।)

Question 12.
Make a list of the things people do when they are civilized. What according to Joad ‘being civilized’ is ?
(उन बातों की एक सूची बनाइए जिन्हें सभ्य मनुष्य करते हैं। जोड के अनुसार ‘सभ्य होना क्या है?)
Answer:
When the people are civilized, they make beautiful things, think freely and think new things and keep the rules.
(जब लोग सभ्य होते हैं तब वे सुन्दर वस्तुएँ बनाते हैं, स्वतन्त्रतापूर्वक सोचते हैं और नई वस्तुएँ बनाते हैं। तथा नियमों का पालन करते हैं।)

Question 13.
what, according to C.E.M. Joad, is the proper definition of being civilized ?
(C.E.M. Joad के अनुसार सभ्य होने की उचित परिभाषा क्या है ?)
Answer:
The most appropriate definition of being civilized’ is liking and making beautiful things, thinking freely, maintaining law and order. This definition provides safety of life and property so that one may think freely.
(सभ्य होने की सबसे उपयुक्त परिभाषा है-सुन्दर वस्तुओं को पसन्द करना तथा उन्हें बनाना, स्वतन्त्रतापूर्वक सोचना तथा कानून एवं व्यवस्था बनाए रखना। यह परिभाषा जीवन तथा सम्पत्ति की सुरक्षा प्रदान करती है ताकि हम स्वतन्त्रतापूर्वक सोच सकें।)

Question 14.
How can we say that Newton and Watt stood out of the lot ?
(हम कैसे कह सकते हैं कि न्यूटन और वाट साधारण व्यक्तियों से अलग थे?)
Answer:
We can say that Newton and Watt stood out of the lot because lots of people had seen falling apples and boiling kettles so Newton and Watt also noticed. But people did not notice anything special about them while Newton and Watt noticed and discovered many things.
(हम कह सकते हैं कि न्यूटन और वाट साधारण व्यक्तियों से अलग थे क्योंकि असंख्य लोगों ने सेबों को गिरते और केतली में पानी को उबलते हुए देखा था, इसलिए न्यूटन और वाट ने भी देखा। लेकिन व्यक्तियों ने उनमें कुछ अलग नहीं देखा, जबकि न्यूटन और वाट ने देखा और बहुत-से नए आविष्कार किए।)

Vocabulary

Choose the most appropriate word or phrase that best completes the sentence :

1. Shakespeare wrote plays that people are ……
(a) proud of
(b) ashamed of
(c) familiar to
(d) interested in
Answers:
(a) proud of

2. Raphael is known for his ……..
(a) music
(b) inventions
(c) pictures
(d) plays
Answers:
(c) pictures

3. Romans cannot be called civilized because they used to ……
(a) eat nothing
(b) eat enormous meals
(c) eat very little
(d) eat only in day time
Answers:
(b) eat enormous meals

4. Without free thinking there can be no ……
(a) rest
(b) civilization
(c) prosperity
(d) adversity
Answers:
(b) civilization

5. It is not necessary for everyone to invent new things in order to be called …….
(a) inventor
(b) discoverer
(c) civilized
(d) cultured
Answers:
(c) civilized

6. Security, leisure and good society are the three things necessary to …….
(a) free thinking
(b) civilization
(c) get happiness
(d) be wealthy
Answers:
(a) free thinking

7. …… call the first of these things art, the second science and philosophy and the third political justice and ethics.
(a) Grown ups
(b) Old ones
(c) Adults
(d) Youngsters
Answers:
(a) Grown ups

8. Because Shakespeare was a great man and wrote plays that people are …..
(a) familiar with
(b) proud of
(c) interested in
(d) boast of
Answers:
(b) proud of

9. Falling apples and boiling kettles caused them to think new ……. and because they thought new thoughts, men came to understand more about the world.
(a) ideas
(b) thoughts
(c) innovations
(d) plans
Answers:
(b) thoughts

10. Nobody can …… things if he is afraid of being robbed or murdered at any moment.
(a) round about
(b) run about
(c) bring about
(d) think about
Answers:
(d) think about

11. Shakespeare often introduces …… elements in his plays.
(a) beautiful
(b) absurd
(c) trivial
(d) supernatural
Answers:
(d) supernatural

12. Well, lots of people had seen kettles ……. and apples fall down before Watt and Newton, yet they did not invent anything.
(a) burst
(b) boil
(c) twinkle
(d) break
Answers:
(b) boil

We hope the UP Board Solutions for Class 11 English Prose Chapter 6 A Dialogue on Civilization help you. If you have any query regarding UP Board Solutions for Class 11 English Prose Chapter 6 A Dialogue on Civilization, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

Leave a Comment