UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा)

UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा)

कम्प्यूटर : इतिहास और पीढ़ियाँ

बच्चों, पिछली कक्षा में आपने पढ़ा था कि 1791 में इंग्लैण्ड के एक गणितज्ञ चार्ल्स बैबेज़ ने एक मेकैनिकल यन्त्र बनाया। जिसका नाम डिफ्रेंस इंजन रखा। डिफ्रेंस इंजन समीकरणों और सारणियों के संदर्भ में उपयोगी साबित हुआ। इससे इंग्लैण्ड की सरकार ने इस प्रयास से प्रसन्न होकर सन् 1830 में उन्हें सरकारी मदद प्रदान की और उन्होंने इस मशीन (UPBoardSolutions.com) में सुधार करके एनॉलिटिकल इंजन के नाम से एक दूसरी मशीन का डिज़ाइन बनाया।

UP Board Solutions

इसके बाद दुनिया भर के वैज्ञानिक कम्प्यूटर बनाने के प्रयास में लग गए, जिसकी वजह से कम्प्यूटर के विकास की कई पीढ़ियाँ अलग-अलग विकास के रूप में हमारे सामने आईं। आइए, अब एक नजर इन पीढ़ियों और इनके विकास क्रम पर डालते हैं।

कम्प्यूटर की पहली पीढ़ी (1951-1958):
कम्प्यूटर की पहली पीढ़ी 1951-1958 के बीच की मानी जाती है। कहते हैं कि व्यावसायिक कम्प्यूटर युग की शुरुआत 14 जून, 1951 को हुई थी। इसी दिन यूनीवर्सल ऑटोमेटिक कम्प्यूटर का प्रयोग जनगणना के उद्देश्य से किया गया था।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 1

इस कम्प्यूटर में वैक्यूम ट्यूब का इस्तेमाल हुआ था और इसी दिन पहली बार कम्प्यूटर का इस्तेमाल सेना, वैज्ञानिक और दूसरे इंजीनियरिंग कार्यों के अलावा व्यापार के लिए किया गया।

यह यूएनआईवीएससी कम्प्यूटर वास्तव में एटनासोफ के कम्प्यूटर का यूनीवेक कम्प्यूटर ही परिष्कृत और परोक्ष रूप था जिसे मैकिली और एकर्ट ने 1947 में अपनी कम्पनी खोलने के बाद बनाया था।

पहली पीढ़ी की कमियाँ :
पहली पीढ़ी के इन कम्प्यूटरों में वैक्यूम ट्यूब नामक लाइट बल्ब के आधार पर इलेक्ट्रॉनिक ट्यूब का इस्तेमाल होता था। एक-एक कम्प्यूटर में हजारों ट्यूबों को एक साथ प्रयोग करना पड़ता था, जिसकी वजह से इसमें बहुत ज्यादा गर्मी पैदा होती थी। इसका परिणाम यह हुआ कि कम्प्यूटर पर कार्य करने से ज्यादा चिन्ता इस बात की (UPBoardSolutions.com) होने लगी कि वातावरण के तापमान को किस तरह से कंट्रोल किया जाए। इसके अलावा इसमें रिपेयरिंग भी बहुत थी क्योंकि बहुत-सी ट्यूबें जब एक साथ काम करती थीं तो वे अक्सर गर्मी से जल जाती थीं और कम्प्यूटर चलाने वाले को यह पता ही नहीं चलता था कि यह समस्या कैसे उत्पन्न हुई है।

इसके अतिरिक्त इस पीढ़ी के कम्प्यूटर की दूसरी परेशानी यह थी कि इसमें संख्याओं की भाषा एक मशीनी भाषा होती थी। अर्थात् आज की अंग्रेजी भाषा की तरह इसमें प्रोग्रामिंग नहीं होती थी। इसमें प्रोग्रामिंग के लिए अंकों का इस्तेमाल होता था, जिससे की प्रोग्रामिंग कार्य बहुत ही ज्यादा समय लेता था।

मेमोरी के तौर पर इस कम्प्यूटर में मैग्नेटिक बोर लगे होते थे, जो प्राइमरी स्टोरेज़ के लिए पंच किए हुए कार्ड का प्रयोग करते थे।

UP Board Solutions

पहली पीढ़ी की खास उपलब्धि :
पहली पीढ़ी में ही डेटा स्टोरिंग की क्षमता को भी विकसित किया गया, जिससे वैज्ञानिक सन् 1957 में मैग्नेटिक टेप को डेटा स्टोर करने में इस्तेमाल करने लगे।

कम्प्यूटर की दूसरी पीढ़ी (1959-1964):
कम्प्यूटर युग की दूसरी पीढ़ी का समय वैज्ञानिकों ने 1959 से 1964 तक निर्धारित कर दिया। इस पीढ़ी की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि इसमें वैक्यूम ट्यूब की जगह ट्रांजिस्टर का उपयोग होने (UPBoardSolutions.com) लगा था। प्रसिद्ध बैल प्रयोगशाला के तीन प्रमुख वैज्ञानिकों जेबाडीन, एचडब्ल्यू ब्रिटेन और डब्ल्यू साकले ने मिलकर ट्रांजिस्टर का विकास किया था।

यह एक छोटा-सा उपकरण था, जो रजिस्टर पर विद्युतीय संकेतों के द्वारा अपना कार्य करता था। इन तीनों वैज्ञानिकों को अपने इस आविष्कार के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

दूसरी पीढ़ी की खास उपलब्धि :
ट्रांजिस्टर ही वास्तव में कम्प्यूटर युग में क्रान्तिकारी कदम था। ट्रांजिस्टर का आकार वैक्यूम से सैकड़ों गुना छोटा था और इसमें बिजली की खपत भी बहुत कम थी तथा यह वैक्यूम ट्यूब की अपेक्षा तेजी और विश्वसनीयता के साथ कार्य करने में सक्षम था। जब इधर हार्डवेयर के रूप में ट्रांजिस्टर का प्रयोग किया जाने लगा तो समानान्तर वैज्ञानिकों ने अंकों के आधार पर प्रोग्रामिंग भाषा के प्रयोग को छोड़कर असेम्बली भाषा का प्रयोग प्रारम्भ किया।

इन भाषाओं को सिम्बालिक भाषाओं के नाम से भी जाना जाता है। इनमें संख्याओं की जगह शब्दों के पहले अक्षर कोड के रूप में इस्तेमाल होते थे।

इसी वजह से सन् 1954 में फोरट्रॉन और 1959 में कोबोल जैसी उच्चस्तरीय भाषाओं का चलन प्रारम्भ हुआ। ये दोनों भाषाएँ असेम्बली भाषा की अपेक्षा प्रयोग में बहुत सरल थी और इनमें अंग्रेजी भाषा के सामान्य अक्षरों का इस्तेमाल होता था।

इसी के साथ 1962 में ही वैज्ञानिकों ने एक ऐसी डिस्क (UPBoardSolutions.com) को बाजार में उतारा, जिसे कम्प्यूटर में डेटा स्टोर करने के लिए प्रयोग करते थे और कार्य समाप्त होने पर उसे बाहर निकालकर रख लेते थे, जिससे डेटा को और कोई व्यक्ति छेड़ न सके।

UP Board Solutions

कम्प्यूटर की तीसरी पीढ़ी (1965-1970):
कम्प्यूटर की तीसरी पीढी के समय को वैज्ञानिकों ने सन् 1965 से 1970 के बीच का निर्धारित किया है। वास्तव में हम कम्प्यूटर की तीसरी पीढ़ी को ही क्रान्तिकारी समय मान सकते हैं। यह वह समय है, जब इंटीग्रेटेड सर्किट अर्थात् आईसी का प्रयोग कम्प्यूटर में प्रारम्भ हुआ। इंटीग्रेटेड सर्किट का निर्माण सिलीकॉन से होता है और सिलीकॉन, समुद्र तट की रेत में और मिट्टी में लगभग हर जगह मिलती है।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 2

सिलीकॉन तत्व की वजह से ही सैनफ्रांसिस्को से दक्षिण की ओर बसे सेंटक्लाउज़ काउंटी नामक एक छोटे से शहर का नाम सिलीकॉन वैली पड़ा।

1965 में सिलीकॉन वैली ही आईसी उत्पादन का मुख्य केन्द्र बना। आईपी जिसका कि पूरा नाम इंटीग्रेटेड सर्किट होता है, सिलीकॉन के एक छोटे से चिप पर बना सम्पूर्ण इलेक्ट्रॉनिक सर्किट है।

यह चिप आकार में एक चींटी जितना हो सकता है, जिसमें हजारों (UPBoardSolutions.com) या करोड़ों कम्पोनेंट प्रयोग किए गए होते हैं। सन 1965 में आईसी के बनने के बाद कम्प्युटरों में ट्रांजिस्टरों का चलन लगभग बन्द हो गया।

आईसी की वजह से कम्प्यूटर का आकार और घटा तथा ये तेजी से कार्य करने लगे। इंटीग्रेटेड सर्किट सिलीकॉन से बना एक ऐसा सेमीकंडक्टर है जोकि अपने छेद वाले ढाँचों में लगे रासायनिक पदार्थ के सम्पर्क में आने पर विद्युत् पैदा कर देता है। एक गोलाकार सिलीकॉन में छह इंच वाली परािध की परतें काटी जाती हैं और इन पर्तों पर बारी-बारी से इलेक्ट्रिकल सर्किट के पैटर्न को खोदा जाता है। एक परत पर कई बार खुदाई होती है और फिर इन पतों को सैकड़ों छोटे-छोटे रूप में बाँटा जाता है। प्रत्येक परत पर हमारे नाखून के आधे आकार से छोटे मगर सम्पूर्ण सर्किट होते हैं, जो एक माइक्रोस्कोप से रेलवे जंकयार्ड की तरह दिखाई देते हैं।

तीसरी पीढ़ी की शुरुआत में आईबीएम ने अपने 360 सीरीज़ नामक कम्प्यूटर की घोषणा की। यह कम्प्यूटर व्यावसायिक और वैज्ञानिक प्रयोग के लिए बनाए गए थे।

इन 360 सीरीज़ के कम्प्यूटर परिवार के कई मॉडलों को नीले रंग के डिब्बे में पैक किया जाता था, जिसकी वजह से आईबीएम के बहुत से लोग इसे ब्लू के नाम से जानते हैं।

इसने सॉफ्टवेयर के विकास में भी मदद की और इंट्रेक्टिव प्रोग्रामिंग (UPBoardSolutions.com) धारणा इस समय चलन में आई, जिसकी वजह से सिस्टम सॉफ्टवेयर बनने प्रारम्भ हए। इन सिस्टम सॉफ्टवेयरों में वैज्ञानिकों का ध्येय यह था कि कम्प्यूटर की मदद से कोई भी प्रयोगकर्ता अपना काय स्वय कर ले और इन्हीं प्रयासों की वजह से रिजर्वेशन और क्रेडिट चैक जैसी ग्राहक सेवा से सम्बन्धित क्षेत्रों में तेजी आई।

तीसरा पीढ़ी के अन्त में मिनो कम्प्यूटर का भी चलन बटा। यह मिनी कम्प्यूटर तीसरी पीढ़ी के वास्तविक कम्प्यूटरों की अपेक्षा आकार में छोटे और कम महँगे थे इसलिए छोटे व्यवसायों में इनका चलन काफी बढ़ने लगा।

UP Board Solutions

कम्प्यूटर की चौथी पीढ़ी (1971-1990):
चौथी पीढ़ी को लोग 1971 से 1990 के बीच को मानते हैं। 1970 के दशक में कम्प्यूटर की कार्य क्षमता में अविश्वसनीय वृद्धि हुई। लेकिन वास्तविक रूप में चौथी पीढ़ी कम्प्यूटरों के तीसरी पीढ़ी का ही विस्तार तकनीक थी। क्योंकि तीसरी पीढ़ी के शुरुआती समय में भी कम्प्यूटर की मेमोरी पर अर्थमेटिक क्षमता के खास तौर पर चिप बनाए गए थे।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 3

लेकिन सन् 1971 में पहली बार माइक्रो प्रोसेसर बाजार में आया, जिसकी वजह से ही कम्प्यूटर की शक्ति में बहुत ही इजाफा हुआ।

इस पीढ़ी में ही बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना की और (UPBoardSolutions.com) सबसे पहले इस कम्पनी ने एमएस डॉस नामक ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया।

आईबीएम नामक कम्पनी इस पीढ़ी में ही वीएलएसआई तकनीक लाई। वीएलएसआई का अर्थ होता है वेरी लार्ज स्केल इंटीग्रेटेड सर्किट।

इस पीढ़ी में कम्प्यूटर में 8084, 8086, 8088 और 80286 जैसे प्रोसेसरों पर आधारित कम्प्यूटर बाजार में आए। इनमें फ्लॉपी डिस्क के साथ-साथ हार्ड डिस्क का प्रयोग होने लगा।

कम्प्यूटर की पाँचवीं पीढ़ी (1990-………):
आज हम जिन कम्प्यूटरों का प्रयोग कर रहे हैं वे पाँचवीं पीढ़ी के कम्प्यूटर हैं। इस पीढ़ी में कम्प्यूटर की कार्य गति मेगाहर्ज से बढ़कर गेगाहर्ज में पहुंच गई है।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 4

इसके अलावा ये कम्प्यूटर मल्टीमीडिया तकनीक का प्रयोग करते हैं, जिसमें आवाज, पिक्चर और इमेजों को भी डेटा के रूप में प्रयोग कर सकते हैं। ये आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस क्षमता से भी लैस हैं।

इस पीढ़ी में कम्प्यूटर एक डेटा प्रोसेसिंग मशीन न होकर (UPBoardSolutions.com) एक बहुआयामी संचार मशीन में भी परिवर्तित हो गया है। इसकी वजह से आज इंटरनेट जैसे विश्वव्यापी नेटवर्क संचालित होते हैं।

UP Board Solutions

कम्प्यूटर के प्रकार:
तकनीकी रूप में हम कम्प्यूटरों को दो भागों में बाँट सकते हैं। पहले तरह के कम्प्यूटरों को एनालॉग कहा जाता है और दूसरे तरह के कम्प्यूटरों को डिजिटल कहा जाता है। वर्तमान समय में एनालॉग कम्प्यूटरों का विकास लगभग बन्द हो गया है और अब डिजिटल कम्प्यूटर ही चलन में हैं।

डिजिटल कम्प्यूटरों को आसानी से समझने के लिए हम उन्हें चार भागों में बाँट सकते हैं-

  • माइक्रो कम्प्यूटर
  • मिनी कम्यूटर
  • मेनफ्रेम कम्प्यूटर
  • सुपर कम्प्यूटर

माइक्रो कम्प्यूटर:
माइक्रो कम्प्यूटर का विकास सन् 1970 में हो गया था। माइक्रो प्रोसेसर लगे होने के कारण इन्हें माइक्रो कम्प्यूटर कहा गया। इस तकनीक वाले कम्प्यूटर आकार में छोटे, कीमत में सस्ते और क्षमता में पहले से बेहतर हैं। अभी तक हम जो भी पर्सनल कम्प्यूटर प्रयोग करते हैं वे माइक्रो कम्प्यूटर की ही श्रेणी में आते हैं।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 5

माइक्रो कम्प्यूटर में सबसे पहला सफल कम्प्यूटर पीसी एक्सटी था, जिसमें 8088 माइक्रो प्रोसेसर का प्रयोग किया गया था। इसमें 64 किलोबाइट (KB) रैम अर्थात् प्राइमरी मेमोरी (UPBoardSolutions.com) और 10 मेगाबाइट (MB) वाली हार्डडिस्क का प्रयोग किया जा सकता था।

बाद में इसकी मेमोरी प्रयोग करने की क्षमता एक मेगाबाइट हो गई। इस कम्प्यूटर में फ्लापी डिस्क का भी प्रयोग किया गया, जिसकी स्टोरिंग क्षमता 180-3600 किलोबाइट तक थी।

पीसी-एटी (PC-AT):
पीसी एक्सटी के पश्चात् पीसी-एटी का चलन प्रारम्भ हुआ और 1985 में ये कम्प्यूटर बाजार में आए। ये पहले से ज्यादा शक्तिशाली थे और इनमें 16 बिट का सिद्धान्त प्रयोग किया गया था। जबकि एक्सटी कम्प्यूटरों में आठ बिट का सिद्धान्त इस्तेमाल हुआ था। पीसी-एटी की श्रृंखला में निम्न कम्प्यूटर आज तक बाजार में आ चुके हैं-

  • पीसी-एटी 286
  • पीसी-एटी 386
  • पीसी-एटी 386-DX
  • पीसी-एटी 486
  • पीसी-एटी 486-DX
  • पेंटियम-4

मिनी कम्प्यूटर:
माइक्रो कम्प्यूटरों के पश्चात् मिनी कम्प्यूटरों का नम्बर आता है। ये कम्प्यूटर मेनफ्रेम कम्प्यूटरों से छोटे और पर्सनल कम्प्यूटरों से बड़े हैं। इन कम्प्यूटरों का प्रयोग बड़ी-बड़ी कम्पनियाँ करती हैं और इन्हें विश्वसनीय माना जाता है।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 6

कीमत में ये माइक्रो कम्प्यूटर से बहुत महँगे हैं, इसलिए इनका व्यक्तिगत रूप से इस्तेमाल सम्भव नहीं है।

UP Board Solutions

मेनफ्रेम कम्प्यूटर:
मेनफ्रेम कम्प्यूटर की प्रोसेसिंग शक्ति मिनी (UPBoardSolutions.com) कम्प्यूटरों से बहुत ज्यादा होती है और ये वैज्ञानिक कार्यों में या बहुत बड़ी व्यापारिक कम्पनियों द्वारा डेटा प्रोसेसिंग के संदर्भ में प्रयोग किए जाते हैं। इस कम्प्यूटर पर एक साथ बहुत से व्यक्ति अलग-अलग कार्य कर सकते हैं।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 7

सुपर कम्प्यूटर:
सुपर कम्प्यूटर अभी तक बनाए गए कम्प्यूटरों से ज्यादा शक्तिशाली है और इसका प्रयोग हमारे देश में मौसम विज्ञान और अन्तरिक्ष विज्ञान में होता है। हमारे देश में सुपर कम्प्यूटर बनाने वाली संस्था का नाम सीडॅक है। इस संस्था ने परम-10000 के नाम से दुनिया का सबसे शक्तिशाली सुपर कम्प्यूटर बनाया है। सुपर कम्प्यूटर (UPBoardSolutions.com) की डेटा प्रोसेसिंग की क्षमता इतनी तेज होती है कि यह एक . सेकेंड में खरबों गणनाएँ कर लेता है। आज हमारा देश भी सुपर कम्प्यूटर बनाने वाले देशों की श्रेणी में आता है।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 8

कम्प्यूटर की कार्य-प्रणाली

बच्चो, पिछली कक्षा में आपने पढ़ा था कि कम्प्यूटर तीन भागों में विभाजित होता है। पहले भाग को इनपुट यूनिट, दूसरे भाग को प्रोसेसिंग यूनिट और तीसरे भाग को आउटपुट यूनिट के रूप में जाना जाता है।

‘कम्प्यूटर की प्रोसेसिंग यूनिट सबसे ज्यादा महत्त्वपूर्ण होती है। प्रोसेसिंग से लेकर मेमोरी मैनेजमेंट जैसे कार्य यहीं से सम्पन्न होते हैं। इसलिए आइए अब विस्तार से जानते हैं कि यह कार्य किस तरह से करती है।

कम्प्यूटर की कार्य-प्रणाली:
कम्प्यूटर में हम की-बोर्ड के द्वारा निर्देश देते हैं, जो कि सीधे-सीधे कम्प्यूटर की सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट अर्थात् दिमाग में जाते हैं और परिणाम को आउटपुट उपकरण पर दर्शाते हैं। इनपुट (UPBoardSolutions.com) उपकरणों में की-बोर्ड प्रमुख है। प्रोसेसिंग के कार्यों में कम्प्यूटर का सीपीयू प्रयोग होता है और आउटपुट के लिए मॉनीटर का इस्तेमाल होता है। लेकिन इन सबका नियन्त्रण हमेशा सीपीयू के पास रहता है।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 9

कम्प्यूटर का सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट विद्युत् तरंगों के रूप में डेटा ग्रहण करता है और ऑपरेटिंग सिस्टम इसे मेन मेमोरी तक पहुँचा देता है। जहाँ पर इसका अर्थमेटिक और लॉजिक यूनिट विश्लेषण का कार्य प्रारम्भ करता है. और फिर परिणाम को आउटपुट यूनिट की जगह भेज देता है। आउटपुट यूनिट मॉनीटर पर हमें परिणाम दर्शाने लगता है।

सीपीयू के अन्तर्गत डेटा प्रोसेसिंग या कार्य के लिए तीन मुख्य भाग होते हैं। पहले भाग को अर्थमेटिक एण्ड लॉजिक यूनिट (ALU) कहते हैं। दूसरे भाग को कंट्रोल यूनिट (CU), तीसरे भाग को मेमोरी के रूप में जाना जाता है।

UP Board Solutions

अर्थमेटिक एण्ड लॉजिक यूनिट (ALU) के अन्तर्गत कम्प्यूटर सभी मैथमेटिकल और लॉजिकल कार्य सम्पन्न करता है। जैसे कि संख्याओं को जोड़ना, घटाना और गुणा करना और फिर आपस में उसकी तुलना करना।

इसके पश्चात् कम्प्यूटर का कंट्रोल यूनिट हरकत में आता है और प्रोसेसिंग के परिणामस्वरूप बने इलेक्ट्रॉनिक ट्रैफिक को कंट्रोल करने लगता है। यह कंट्रोल यूनिट अर्थमेटिक एण्ड लॉजिक (UPBoardSolutions.com) यूनिट (ALU) और मेन मेमोरी के बीच सामंजस्य पैदा करके सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट को सम्पूर्णता प्रदान करता है। इसी सम्पूर्णता की वजह से हमें कम्प्यूटर से वास्तविक परिणाम प्राप्त होते हैं और यह कंट्रोल यूनिट ही इन परिणामों को आउटपुट उपकरणों तक पहुँचाता है, अर्थात् कंट्रोल यूनिट, इनपुट डिवाइसेस, प्रोसेसिंग डिवाइसेस में भी ताल-मेल बिठाता है।

इसके पश्चात् कम्प्यूटर की मेमोरी का नम्बर आता है। कम्प्यूटर की मेमोरी दो तरह की होती है। एक को प्राइमरी मेमोरी और दूसरी को सेकेण्डरी मेमोरी कहते हैं। प्राइमरी मेमोरी को रैम के नाम से जानते हैं। चित्र में आप एक रैम को देख सकते हैं –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 10

आज के माइक्रो कम्प्यूटर में प्रयोग होने
वाली रैम जिसकी क्षमता 256 मेगाबाइट है।

रैम (RAM) का पूरा अर्थ है-रैंडम एक्सेस मेमोरी। अर्थात् एक ऐसा दिमाग, जिसे कहीं से कभी भी प्रयोग किया जा सकता है। कम्प्यूटर की यह मेन मेमोरी अपनी आकृति में अस्थायी होती है अर्थात् इसमें कोई भी चीज स्थायी रूप से नहीं रह सकती है, इसीलिए हम कम्प्यूटर में एक दूसरी मेमोरी को प्रयोग करते हैं, जिसे सेकण्ड्री मेमोरी कहते हैं। सेकण्ड्री मेमोरी में हम प्रोसेस करने के पश्चात् डेटा को स्टोर करते हैं या प्रोग्रामों को इंस्टॉल करते हैं।

इसे हम मानव शरीर से तुलना करके भली-भाँति समझ सकते हैं। हमारे शरीर में हमारा दिमाग कम्प्यूटर की रैम की तरह से है और हमारे द्वारा लिखी जाने वाली डायरियाँ कम्प्यूटर की (UPBoardSolutions.com) सेकेण्डरी मेमोरी की तरह हैं। हमारे दिमाग में सोते ही सबकुछ गायब हो जाता है, लेकिन डायरियों में लिखा रहता है, जिसे कोई भी व्यक्ति कभी भी पढ़ सकता है।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 11

ठीक इसी तरह से कम्प्यूटर की प्राइमरी मेमोरी अर्थात 40 गंगाबाइट की हार्ड डिस्क फ्लॉपी डिस्क रैम और सेकेण्ड्री मेमोरी अर्थात् फ्लापी डिस्क और हार्डडिस्क अपना कार्य करते हैं।

UP Board Solutions

सीपीयू की कार्य-प्रणाली:
जब हम कोई भी इंफॉर्मेशन कम्प्यूटर में इनपुट करते हैं तो वह सीपीयू के द्वारा प्रोसेस होती है। यह प्रोसेस साइकिल वास्तव में हमारे द्वारा दिए गए निर्देशों का कार्यान्वयन होता है। प्रोसेसिंग का कार्य प्रोसेस द्वारा किया जाता है। इस कार्य में तीन प्रकार के रजिस्टर प्रयोग होते हैं। पहले रजिस्टर को इंस्ट्रक्शन और एड्रेस रजिस्टर कहा जाता है। दूसरे प्रकार के रजिस्टरों को स्टोरेज़ रजिस्टर कहते हैं और तीसरे प्रकार के रजिस्टर सहायक या संचायक रजिस्टर कहलाते हैं। लेकिन यहाँ पर (UPBoardSolutions.com) हमें सबसे पहले कम्प्यूटर के मशीन चक्र को समझना होगा। कम्प्यूटर में मशीन चक्र किसे कहते हैं। यदि हम इसे परिभाषित करें तो कह सकते हैं कि एक निर्देश के पूरा होने की प्रक्रिया मशीन चक्र अर्थात् मशीन साइकिल कहलाती है।

मशीन साइकिल की यह प्रक्रिया दो भागों में बँटी होती है। पहले भाग को निर्देश चक्र कहते हैं निर्देश चक्र में सबसे पहले मेन मेमोरी में एक निर्देश क्रियान्वित होता है। इसके बाद इस निर्देश के कन्न डे-कोड करता है। डि-कोड करने के बाद यह कम्प्यूटर रजिस्टर में जमा अर्थात् लोड हो जाता है और फिर अगले चरण में यह निर्देश एड्रेस रजिस्टर में प्रवेश कर जाता है।

निर्देश चक्र के बाद क्रियान्वयन चक्र का नम्बर आता है। क्रियान्वयन चक्र को ई-साइकिल भी कहते हैं। इसमें सबसे पहले मेन मेमोरी डेटा को स्टोरेज़ रजिस्टर में भेज देती है।

इसके पश्चात् सीपीयू से डेटा को नियन्त्रित करके प्रक्रिया संपन्न करने का कमाण्ड दिया जाता है। इससे ALU से अर्थमेटिक और लॉजिक प्रक्रिया पूरी होती है और फिर अन्तिम स्टेप में आउटपुट को संचायक रजिस्टर में भेज देते हैं।

इन दोनों प्रक्रियाओं को अभी आपने जब पढ़ा है तो ऐसा (UPBoardSolutions.com) लगा होगा कि यह बहुत लम्बी प्रक्रिया है। लेकिन कम्प्यूटर यह सब इतनी तेजी से करता है कि यह कार्य सेकण्ड के अरबवें हिस्से में पूरा हो जाता है।

प्रोसेसिंग गति:
मशीन चक्र अर्थात् मशीन साइकिल को समझने के पश्चात् हमें प्रोसेसिंग गति का मतलब समझ में आ जाना चाहिए। कम्प्यूटर के द्वारा जितनी जल्दी से जो कार्य होता है, वह उसकी प्रोसेसिंग गति होती है। कम्प्यूटर की इतनी तेजी को नापने के लिए वैज्ञानिक अभी तक तीन इकाइयों का इस्तेमाल करते हैं। ये इकाई हैं –

  • हर्ट्ज (Hz)
  • एमआईपीएस (MIPS)
  • फ्लॉप्स (FLOPS)

हर्ट्स (Hertz):
ह नामक इकाई का प्रयोग कम्प्यूटरों अर्थात् पर्सनल कम्प्यूटरों की प्रोसेसिंग गति को नापने के लिए किया जाता है। माइक्रो कम्प्यूटर से एक मशीन चक्र पूरा करने में लगा समय एक हर्ट्ज (Hz) कहलाता है।

वास्तव में कम्प्यूटर यदि एक सेकण्ड में एक हज पूरा करता है तो हम कह सकते हैं कि कम्प्यूटर की गति एक हर्ट्ज पर सेकेण्ड है।
मेगाह (MHz) का अर्थ होता है कि एक सेकेण्ड में दम लाख या इससे अधिक मशीन साइकिलों का पूरा होना। इससे आप माइक्रो कम्प्यूटरों के प्रोसेसरों के गति का अनुमान लगा सकते हैं।

एमआईपीएस (MIPS):
इस इकाई का उपयोग मिनी कम्प्यूटरों की गति को (UPBoardSolutions.com) मापने के लिए किया जाता है। एमआइपीएस अर्थात् प्रति सेकण्ड लाखों निर्देश।

फ्लॉप्स (FLOPS):
इस इकाई का उपयोग सुपर कम्पूटिंग की गति को मापने के लिए करते हैं। फ्लॉप्स का पूरा अर्थ है कि फ्लोटिंग प्वाइण्ट पर सेकण्ड। यह गति सुपर कम्प्यूटरों को प्राप्त होती है।

बाइनरी कोड:
अब हम यह समझेगें कि कम्प्यूटर हमारे द्वारा दिए हुए निर्देशों को किस तरह समझता है और उन्हें समझ कर किस तरह आगे प्रोसेस करता है।

कम्प्यूटरों को निर्देश देने के लिए हम कोड अर्थात् खास संख्याओं का इस्तेमाल करते हैं। यह संख्याओं के अलावा अक्षर भी हो सकते हैं।

ये कोड ही समस्त इंफॉर्मेशन कम्प्यूटर तक पहुंचाते हैं। कम्प्यूटर तक यह सूचना तारों और सर्किटों के जरिए पहुँचती है और जिस कोड को हम इस कार्य के लिए प्रयोग करते हैं, उसे बाइनरी कोड कहते हैं।

बाइनरी कोड वास्तविक विद्युत् सर्किट पर आधारित एक अविश्वसनीय पद्धति है। यह सर्किट की दो अवस्थाओं पर निर्भर करती है। पहली यह कि सर्किट में बिजली जा रही है या नहीं और दूसरी यह कि किसी सर्किट में करेंट बायीं ओर से जा रहा है या दायीं ओर से। मतलब कि यह दो स्थितियों का प्रतिनिधित्व करती है। शन्य और एक जब हम शून्य (0) या एक (1) में कुछ लिखेगें तो वह कम्प्यूटर के लिए कोड बन जाता है। वाइन नम्बर सिस्टम को इसीलिए दो नम्बर का आधार (UPBoardSolutions.com) सिस्टम प्रदान किया गया है। इसमें केवल शून्य और एक नामक अंक ही इम्तेमाल होते हैं। शून्य या एक के अंकों को बिट्स कहते हैं और कम्प्यूटर में सारी सूचनाएँ शून्य और एक के मिश्रण के रूप में सुरक्षित रहती हैं। बाइनरी को बनाते समय आठ बिट्स को काम में लाया जाता है और इन आट बिटम के समूह तैयार होकर हमारा कार्य करते हैं। ये समूह अंग्रेजी के हर अक्षर और गणित के अंक और विशेष चिहनों को कोड के रूप में प्रदर्शित करने की क्षमता रखते हैं। जब हम कम्प्यूटर पर प्रोग्राम या डेटा के साथ काम करते हैं तो बाइनरी कोड में हमारे द्वारा भेजे गए डेटा का ट्रांसलेशन ऑपरेटिंग सिस्टम करना है। हर कम्प्यूटर की अपनी एक बाइनरी कोड पद्धति होती है। इसी से ऑपरेटिंग सिस्टम बनता है।

कम्प्यूटर की प्रोसेसिंग व्यवस्था के तहत जब हम कम्प्यूटर में कोई प्रोग्राम या डेटा एंटर करते हैं तो कम्प्यूटर उसे बाइनरी सिस्टम अर्थात् जीरो और एक की स्थिति के अनुसार समझता है। विद्युतीय तरंगों के (UPBoardSolutions.com) रूप में इस स्थिति को ऑन या ऑफ कहा जाता है। यह दो अंकीय प्रणाली कम्प्यूटर को जीरो और एक के कोड में प्रोग्राम या डेटा को समझती है।

इसी कोडिंग सिस्टम में बाद में वैज्ञानिकों ने प्रक्रिया को और आसान बनाने हेतु कुछ नई तकनीकों को जोड़ा। इन तकनीकों में EDBIC कोड सबसे प्रमुख हैं। यह कोड अक्षरों को कम्प्यूटर में आट विंट का प्रयोग करते हुए रिप्रजेण्ट करता हैं और आट विट का एक समूह दो की घात आट (2) अर्थात् 256 अलग-अन्नग मिन्नानों का परिणाम होता है। हमारे द्वारा प्रयोग की जाने वाली सभी संख्याएँ और अक्षर इन्हीं गणितीय गणनाओं के द्वारा प्रयुक्त चिहनों से ज्यादा होते हैं।

प्रारम्भ में जब कोई अस्काई (अमेरिकन स्टैण्डड कोट फार इफॉर्मेशन इण्टरचेंज) कोट (ASCII) का विकास किया गया था : ये सात विटमैप अक्षरों को रिप्रोट करने में संकन माने थे। इसके कारण अस्काई कोड को बाद में आट बिट पर आधारित किया गया और इसी आटवा चिट को आज हम पैरिटी बिट के रूप में जानते हैं। पैरिटी बिट को कम्प्यूटर भाषा में इवेंट पैरिटी सिस्टम और आर्ट ‘पाटी सिस्टम के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

कम्प्यूटर के सॉफ्टवेयर बच्चो, आप कम्प्यूटर (UPBoardSolutions.com) सॉफ्टवेयर के बारे में कुछ तो समझते ही हैं। इस अध्याय में आइए विस्तार से यह समझते हैं कि कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर क्या होते हैं और यह कितनी तरह के होते हैं।

UP Board Solutions

कम्प्यूटर के सॉफ्टवेयर

कम्प्यूटर में हम. जो भी कार्य करते हैं या कम्प्यूटर हमारे लिए कार्य हेतु तैयार होता है तो यह सब कुछ सॉफ्टवेयरों का ही परिणाम है। कम्प्यूटर को दिए जाने वाले निर्देशों को जब एक निश्चित क्रम में समूह में रखते हैं तो वह एक प्रोग्राम का रूप ले लेता है। इसी तरह से जब कई प्रोगाम मिलकर एक निश्चित क्रम में क्रियान्वित होते हैं तो वह सॉफ्टवेयर का रूप ले लेते हैं। कम्प्यूटर प्रोग्राम में दो तरह की भाषाओं का प्रयोग होता है। पहले प्रकार की भाषा को असेम्बली (लो-लेवल) भाषा और दूसरी तरह की भाषाओं को हाई लेवल लैंग्वेज़ अर्थात् उच्चस्तरीय भाषा के नाम से जाना जाता है।

असेम्बली भाषा में बाइनरी कोड की जगह शब्दों वाले कोड इस्तेमाल किए जाते हैं। लेकिन कम्प्यूटर केवल अंकों वाले कोड अर्थात् बाइनरी सिस्टम को ही समझता है तो कम्पाइलर बाद में इन शब्दों वाले कोड को स्वयं ही अंकों वाले कोड में तब्दील कर देता है।

इस काम में प्रयोग किए जाने वाले सिस्टम को असेम्बलर कहते हैं और (UPBoardSolutions.com) यह प्रोग्राम कम्प्यूटर के बायोस अर्थात् कम्प्यूटर के साथ ही आता है।

उच्चस्तरीय भाषाओं का इस्तेमाल बहुत ही सरल होता है क्योंकि यह भाषाएं अंग्रेजी और गणित की भाषा से मल खाती हैं। इन भाषाओं के द्वारा हम सामान्य अंग्रेजी में प्रोग्राम लिखते हैं, जिसे बाद में ऑपरेटिंग सिस्टम या कोई अन्य प्रोग्राम बाइनरी कोड में परिवर्तित करके कम्प्यूटर तक पहुंचाता है।

उच्चस्तरीय भाषाओं की वजह से ही कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग का कार्य सरल हुआ है और बहुत से लोग प्रोग्रामर बन सके हैं। प्रोग्रामिंग भाषाओं के पश्चात् इनसे बने हुए सॉफ्टवेयरों का जिक्र न करें तो बेमानी होगा। सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग भाषाओं के द्वारा बनाए जाते हैं। अर्थात् प्रोग्रामिंग भाषाएँ सॉफ्टवेयर की जननी हैं। एक सॉफ्टवेयर के अन्दरं एक से लेकर हजारों प्रोग्राम हो सकते हैं।

कम्प्यूटर में समस्त कार्य इन्हीं सॉफ्टवेयरों के द्वारा होते हैं। समझने हेतु हम सॉफ्टवेयरों को तीन भागों में विभाजित कर सकते हैं। पहले भाग के तहत ऑपरेटिंग सिस्टम, दूसरे भाग में यूटीलिटी सॉफ्टवेयर और तीसरे भाग में एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर आते हैं।

ऑपरेटिंग सिस्टम:
ऑपरेटिंग सिस्टम को यदि हम आसानी से समझना चाहें तो (UPBoardSolutions.com) कह सकते हैं कि हमारे शरीर में जो महत्त्व आत्मा का है कम्प्यूटर में वही महत्त्व ऑपरेटिंग सिस्टम का है। ऑपरेटिंग सिस्टम की वजह से ही कोई भी ऑपरेटर कम्प्यूटर पर कार्य करने में सक्षम होता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम कम्यूटर को ऑन करने के पश्चात् उस स्थिति में लाता है, जहाँ से हम उस पर कार्य कर सकले हैं और डेटा को इनपुट तथा आउटपट कर सकते हैं। यह पूरे कम्प्यूटर की गतिविधियों को दिशा निर्देश देता है और उन पर अपना नियन्त्रण बनाए रखता है।

इसके अलावा यह कम्प्यूटर का नियन्त्रण ऑपरेटर को भी प्रदान करता है, जिसकी वजह से ऑपरेटर कम्प्यूटर में डेटा इनपुट कर सकता है या फिर कम्प्यूटर से बाहर डिस्कों में स्टोर कर सकता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम एक तरह से समूचे सिस्टम हार्डवेयर को अपने नियन्त्रण में रखता है। ऑपरेटिंग सिस्टम ने मुख्य कार्यों में कार को बूट करना, कम्यूटर के सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट से जुड़े सहायक संसाधनों में आपस सापक बनाए रखना, एक समय में एक से ज्यादा प्रोग्रामो को क्रियान्वत करना, प्रोग्रामों का क्रियान्वयन बीच में रोकना इत्यादि कार्य आते हैं।

किसी भी आपरेटिंग सिस्टम के दो मुख्य भाग होते हैं। पहले भाग को करनैल (UPBoardSolutions.com) और दूसरे भाग को सेल कहते हैं। करनेल ऑपरेटिंग सिस्टम का केन्द्रीय हिस्सा होता है। यह कम्प्यूटर में कार्यों को निर्देशन देता है और डेटा को सुरक्षा प्रदान करता है।

जवकि सेल ऑपरेटिंग सिस्टम का वह हिस्सा है जो कुष्ठ प्रोग्रामों से मिलकर बनता है और जरूरत पड़ने पर य मेमोरी से प्रोग्राम को कॉन्न करने की शक्ति रखता है और प्रोग्राम को संचालित करता है।

किसी भी कम्प्यूटर की कार्य करने की क्षमता पूरी तरह से ऑपरेटिंग सिस्टम पर निर्भर होती है। प्रत्येक ऑपरेटिंग सिस्टम दूसरे से अलग होता है हालाँकि काम सबका एक जैसा ही है।

वर्तमान समय में जिन ऑपरेटिंग सिस्टमों का प्रयोग हो रहा है, उनमें डॉस, विंडोज़, यूनिक्स और लाइनिक्स मुख्य है। यूनिक्स जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग टाइम शेयरिंग ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में होता है। इसमें एक ही समय में एक से ज्यादा प्रयोगकर्ता कम्प्यूटर को ऑपरेट कर सकते हैं।

UP Board Solutions

यूटीलिटी सॉफ्टवेयर:
यूटीलिटी सॉफ्टवेयर भी कम्प्यूटर के (UPBoardSolutions.com) इस्तेमाल में अहम भूमिका निभाते हैं। यह प्रोग्राम कम्पाइलर, इंटरप्रेटर, असेम्बलिंग का कार्य करते हैं, जिनकी वजह से हमारे द्वारा सामान्य बोलचाल की भाषा में लिखा हुआ डेटा कम्प्यूटर समझ सकता है।

इसके अलावा कम्प्यूटर में डिस्क के रखरखाव और वायरस को निकालने इत्यादि में भी इन यूटीलिटी सॉफ्टवेयरों का इस्तेमाल होता है। एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर वे प्रोग्राम होते हैं, जिनके द्वारा हम अपना कार्य कर सकते हैं। यदि ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) कम्प्यूटर को ऑन करके उसे कार्य करने की स्थिति में लाता है तो हम अपना कार्य करने के लिए इन सॉफ्टवेयरों का प्रयोग करते हैं।

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर कई तरह के होते हैं, जिनके द्वारा वर्ड प्रोसेसिंग से लेकर मूवी एडिटिंग तक के कार्य होते हैं। वर्ड प्रोसेसिंग का कार्य करने के लिए हम माइक्रोसॉफ्ट वर्ड जैसे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का उपयोग करते हैं जो माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का एक हिस्सा है।

इसके अलावा डेटाबेस मैनेजमेंट, इलेक्ट्रॉनिक स्प्रेडशीट, मल्टीमीडिया सॉफ्टवेयर इत्यादि सभी एप्लीकेशन सॉफ्टवेयरों की श्रेणी में आते हैं।

लोगो में प्रोग्रामिंग

बच्चो, पिछली कक्षा में आपने लोगो में केवल टर्टल को आगे पीछे और दायें (UPBoardSolutions.com) बायें ले जाने वाले कमाण्डों का अध्ययन किया और इसके द्वारा बनने वाली इमेजों को देखा। आइए इस अध्याय में लोगो में और नए कमाण्डों का प्रयोग सीखें।

होम प्रिमिटिव:
होम प्रिमिटिव अर्थात् होम कमाण्ड टर्टल को स्क्रीन के बीचों-बीच ले जाता है। यह वास्तव में टर्टल की वास्तविक अवस्था होती है। जैसे ही हम कमाण्ड प्राप्ट पर होम लिखने के बाद एण्टर की को दबाते हैं तो टर्टल अपने घर में पहुँच जाता है।

इसके लिए कमाण्ड इस तरह से लिखते हैं :
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 12

होम कमाण्ड के प्रयोग से जब टर्टल वापस अपने घर में आता है तो उसके साथ एक लाइन बनती है जो टर्टल के स्थानान्तरित होने के रास्ते को दर्शाती है।

CS और CT प्रिमिटिव:

CS प्रिमिटिव स्क्रीन को साफ कर देता है। आपने जो चित्र भी पहले बनाया हो वह इस CT कमाण्ड से गायब हो जाता है और स्क्रीन दूसरे चित्र के लिए खाली हो जाती है।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 13

CT प्रिमिटिव स्क्रीन के टेक्स्ट क्षेत्र को साफ कर देता है, जिससे आप दोबारा कमाण्ड लिख सकें।

लोगो भाषा में इस CT कमाण्ड का प्रयोग आप टेक्स्ट (UPBoardSolutions.com) क्षेत्र को साफ करने के लिए कर सकते हैं। इस कमाण्ड को इस तरह से लिखते हैं –

CT <Enter Key>
इन उदाहरणों में आप कमाण्ड के प्रयोग और प्रभाव को देख सकते हैं –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 14

CT कमाण्ड स्क्रीन के उस भाग को साफ कर देता है, जहाँ पर हम कमाण्ड टाइप करते हैं।

PU और PD प्रिमिटिव:
सामान्य रूप में जब टर्टल स्थानान्तरित होता है तो वह एक लाइन का निर्माण करता है। लेकिन लोगो आपको ऐसे कमाण्ड या प्रिमिटिव भी उपलब्ध कराता है, जिससे आप टर्टल को बिना लाइन खींचे स्थानान्तरित कर सकते हैं।

जिस कमाण्ड से टर्टल को नॉन-ड्रॉइंग मोड में रखते हैं। PU इसका संक्षिप्त और प्रायोगिक नाम है। पेन अप कमाण्ड टर्टल को ऊपर की ओर बिना लाइन खींचे हुए उठाता है।

पेन डाउन कमाण्ड का प्रयोग इस कमाण्ड के (UPBoardSolutions.com) विपरीत कार्य करने के लिए करते हैं। यह टर्टल को नीचे की ओर लाता है। इसे प्रयोग करने के लिए PD कमाण्ड लिखना होता है। इस कमाण्ड से टर्टल नीचे की ओर आता है। आइए उदाहरणों के द्वारा इन कमाण्डों के प्रयोग को समझें-
DRAW
FD 50
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 15

इस कमाण्ड से टर्टल अपनी वास्तविक पोजीशन से 50 स्टेप आगे की ओर एक लाइन खींचता है।
PU (Pen Up)
FD 20
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 16

इस कमाण्ड से टर्टल 20 स्टेप आगे तो बढ़ता है लेकिन बिना लाइन खींचे हुए।
FD (Pen Down)
FD 20
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 17

इस कमाण्ड से पेन एक बार फिर से 20 स्टेप नीचे की ओर आकर लाइन खींचेगा।

UP Board Solutions

Repeat प्रिमिटिव:
रिपीट कमाण्ड लोगो में प्रयोग होने वाला अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कमाण्ड है। यह कमाण्ड कम्प्यूटर को किसी एक कार्य को बार-बार करने का निर्देश देता है, इससे प्रोग्राम लिखने के समय की बचत होती है। रिपीट कमाण्ड को आप इस तरह से प्रयोग कर सकते हैं –

कमाण्ड प्राम्प्ट पर रिपीट कमाण्ड टाइप करें।
कमाण्ड टाइप करने के बाद वह संख्या लिखें, जिसके आधार पर किसी कार्य को आप दोहराना चाहते हैं।।
इसके बाद वह कमाण्ड लिखें, (UPBoardSolutions.com) जिसे आप दोहराना चाहते हैं।

REPEAT N [primitives] <ENTER>
यहाँ पर N का अर्थ है वह संख्या जितनी बार आप कमाण्ड को दोहराना चाहते हैं। नीचे दिए उदाहरण से आप समझ सकते हैं कि आप रिपीट कमाण्ड से यह कार्य कितनी तेज़ी से कर सकते हैं।

UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 17

रिपीट कमाण्ड द्वारा वर्ग बनाना :
? REPEAT 4 [FD 50 RT 90] <ENTER>

यहाँ पर आप समझ सकते हैं कि किस तरह से रिपीट कमाण्ड हमारे लिए उपयोगी है। इससे प्रोग्राम छोटा हो जाता है और समय की बचत होती है। आइए इसी कमाण्ड के कुछ और प्रयोग सीखें-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 18

रिपीट कमाण्ड द्वारा गोला बनाना :
यदि आप इस प्रकार से रिपीट कमाण्ड को टाइप करेंगे तो स्क्रीन पर गोला बनकर आ जाएगा –

रिपीट कमाण्ड द्वारा आधा गोला बनाना :
यदि आप इस प्रकार से रिपीट कमाण्ड को टाइप करेंगे तो स्क्रीन पर गोला बनकर आ जाएगा –
? REPEAT 180 [FD 1 RT 1] <ENTER>

Print प्रिमिटिव:
लोगो भाषा में यदि आप किसी शब्द या वाक्य को प्रिंट करना चाहते हैं तो अब आप ऐसा कर सकते हैं। यदि आप विंडोज़ आधारित लोगो में काम कर रहे हैं तो यह जरूरी है कि विंडोज़ में प्रिंटर इंस्टॉल हो। आइए लोगो में प्रिंटिंग करना सीखते हैं-

लोगो में शब्द प्रिंट करना :
लोगो भाषा में किसी भी शब्द को प्रिंट करने के लिए (UPBoardSolutions.com) आपको प्रिमिटिव अर्थात् कमाण्ड के साथ वह शब्द टाइप करना होगा। उदाहरण के लिए यदि आप अपना नाम प्रिंट करना चाहते हैं तो कमाण्ड के साथ नाम इस तरह से लिखें :

उदाहरण-1:
PRINT “AMAN
एण्टर की दबाते ही आपका नाम प्रिंट हो जाएगा।

लोगो में वाक्य प्रिंट करना :
लोगो भाषा में किसी भी वाक्य को प्रिंट करने के लिए आपको प्रिमटिव अर्थात् कमाण्ड के साथ पूरे वाक्य को बड़े कोष्ठक में टाइप करना होगा। उदाहरण के लिए यदि जन्म दिन की शुभ-कामनाओं से सम्बन्धित सन्देश प्रिंट करना चाहते हैं तो कमाण्ड के साथ सन्देश इस तरह से लिखें :

उदाहरण-2:
PRINT [HAPPY BIRTHDAY NAMAN]
एण्टर की दबाते ही आपके द्वारा लिखा सन्देश प्रिंट हो जाएगा।

उदाहरण-3:
PRINT FIRST [HAPPY BIRTHDAY NAMAN]
एण्टर की दबाते ही वाक्य का पहला अक्षर HAPPY प्रिंट हो जाएगा।

उदाहरण-4:
PRINT LAST [HAPPY BIRTHDAY NAMAN]
एण्टर की दबाते ही वाक्य का अन्तिम अक्षर NAMAN प्रिंट हो जाएगा।

UP Board Solutions

विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम

बच्चो, पिछली कक्षा में आप विंडोज़ से परिचित हो चुके हैं और यह जान चुके हैं कि डेस्कटॉप क्या होता है? विंडोज़ के प्रमुख भाग क्या हैं? और फोल्डर इत्यादि को कैसे बनाते हैं? इस अध्याय में आप (UPBoardSolutions.com) विंडोज़ के बारे में और विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे, जिससे आपके कम्प्यूटर पर अच्छा नियन्त्रण बन सके।

विंडोज़ में फाइल मैनेजमेंट:
किसी भी फाइल पर जो कि विंडोज़ में है एक बार क्लिक करने से सिलेक्ट हो जाती है। यदि हम पूरी फाइलों को जो कि एक ही फोल्डर में हैं सेलेक्ट करना चाहें तो हमें एडिट मेन्यू में दिए हुए सेलेक्ट ऑल नामक कमाण्ड पर क्लिक करना होगा।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 19

ऐसा करते ही फोल्डर की समस्त फाइलें सिलेक्ट हो जाएँगी और सिलेक्शन की यह पट्टी नीले रंग की होकर हमें इस प्रकार दिखाई देगी

यहाँ हमें स्टेट्स बार में सिलेक्ट हुई फाइलों की संख्या और उनके आकार के विषय में पूरी जानकारी प्राप्त होगी। यदि हमें सभी फाइलें एक साथ सिलेक्ट नहीं करनी हैं केवल बीच-बीच की फाइलें सिलेक्ट करनी हैं तो हमें माउस के साथ की-बोर्ड का भी प्रयोग करना पड़ेगा।

एक फाइल को सिलेक्ट करने के बाद यदि आपको दूसरी फाइल को काफी नीचे सिलेक्ट करनी है तो आप कंट्रोल की को दबाए रखें और दूसरी फाइल पर क्लिक करें। इसी तरह से आप कंट्रोल की (UPBoardSolutions.com) को दबाए हुए जिस फाइल पर क्लिक करेंगे केवल वही फाइल सेलेक्ट होगी। दिए हुए चित्र में इस स्थिति को चार फाइलों को सिलेक्ट करके दर्शाया गया है –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 20

यह तो था अलग-अलग जगहों की फाइलों को सेलेक्ट करने का तरीका। यदि आप ऊपर से तीन फाइलें क्रम में स्टोर करना चाहते हैं तो आप सबसे पहले ऊपर वाले फाइल पर क्लिक करें और फिर शिफ्ट की को दबाकर उसके नीचे आकर क्लिक कर दें, जहाँ तक CE की फाइलें आप सिलेक्ट करना चाहते हैं।

UP Board Solutions

इससे वे सभी फाइलें लगातार क्रम में सिलेक्ट हो जाएँगी और इस तरह से दिखाई देंगी-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 21

फाइलों को सिलेक्ट करने के पश्चात् आप यदि उन्हें फोल्डर में किसी खास क्रम में अरेंज करके रखना चाहें तो विंडोज़ आपको यह सुविधा भी प्रदान करती है।

इसके लिए आप व्यू मेन्यू को खोलें और उसमें दिए हुए अरेंज आइकॉन नामक कमाण्ड पर जाएँ। जैसे ही आप माउस प्वाइण्टर को इस अरेंज नामक कमाण्ड पर ले जाएँगे, इसका छोटा-सा विकल्प मेन्यू खुलकर इस तरह से दिखाई देने लगेगा –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 22

इस विकल्प मेन्यू में फाइल और फोल्डरों को क्रमबद्ध आपको पाँच विकल्प मिलेंगे, जिन पर क्लिक करके आप करने के विकल्प फाइलों को उनके नाम के अनुसार, उनके प्रकार के अनुसार, उनके आकार के अनुसार और उनकी उस तारीख के अनुसार जब उन्हें बनाया गया, क्रमबद्ध कर सकते हैं।

अरेंज़ आइकॉन के उप-विकल्प मेन्यू के दूसरे भाग में ऑटो अरेंज़ नामक Sciene कमाण्ड होता है जो फाइलों को ऑटोमेटिक तरीके से खुद ही अरेंज कर देता है। इस प्रकार आप फाइलों को अपनी सुविधा के अनुसार दिए हुए चारों क्रमों में से किसी भी क्रम में रख सकते हैं।

विंडोज़ में फाइलों का स्थान बदलना:
कम्प्यूटर पर कार्य करते समय यह आम बात है कि (UPBoardSolutions.com) आपको एक फाइल दूसरे फोल्डर में ले जानी पड़ सकती है। इस क्रिया के तहत एक फाइल आपको कॉपी करनी पड़ सकती है या इसे पूरी तरह से स्थानान्तरण करना पड़ सकता है। विंडोज़ में यह कार्य आपको माउस की सहायता से करना होगा।

आप एक फाइल या जितनी भी फाइलों को एक फोल्डर से दूसरे फोल्डर में कॉपी करना चाहते हैं, उन्हें सेलेक्ट कर लें। सिलेक्शन की क्रिया का अध्ययन अभी-अभी आपने किया है। जब फाइलें सेलेक्ट हो जाएँ तो उन्हें कॉपी करने के लिए आप स्टैंडर्ड टूल बार में दिए हुए कॉपी आइकॉन पर क्लिक करें। इस आइकॉन को दिए हुए चित्र में दर्शाया गया है-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 23

कॉपी आइकॉन पर क्लिक करते ही आपके द्वारा सेलेक्ट की गई फाइलें कम्प्यूटर की मेमोरी, जिसे कि विंडोज़ वातावरण में क्लिपबोर्ड कहा जाता है, में कॉपी हो जाएँगी।

इसके बाद आप टूल बार के बैक आइकॉन का प्रयोग करके उस फोल्डर पर पहुँचे जहाँ पर आपने इन्हें कॉपी करना है।

वहाँ पर पहुँचने के बाद आप स्टैण्डर्ड टूलबार में दिए हुए पेस्ट आइकॉन पर क्लिक कर दें। क्लिप बोर्ड या कम्प्यूटर की मेमोरी में कॉपी फाइलें आपके द्वारा चुने हुए फोल्डर में कॉपी हो जाएँगी।
यदि आप हार्ड डिस्क से इन्हें किसी डेस्कटॉप पर (UPBoardSolutions.com) बने किसी फोल्डर पर ले जाना चाहते हैं तो आपको यह कार्य और भी रोचक तरीके से करना होगा। हालाँकि स्टैण्डर्ड टूलबार में दिए हुए कॉपी और पेस्ट कमाण्ड का प्रयोग बहुत ही आम बात है। लेकिन विंडोज़ में यह कार्य इससे भी शीघ्रता से किया जा सकता है।

इसके लिए आप फाइलों को सेलेक्ट करें और माउस से ड्रैग करते हुए, उन्हें सम्बन्धित फोल्डर या डेस्कटॉप पर बने फोल्डर पर ले जाएँ।

जब आप माउस से ड्रैग करते हुए फाइलों को लेकर डेस्कटॉप पर बने फोल्डर पर लेकर पहँचेगे तो उस फोल्डर का रंग नीला हो जाएगा। ऐसी स्थिति में आप माउस की बायीं बटन को छोड़ दें। फाइलें नए फोल्डर में स्थानान्तरित हो जाएँगी। लेकिन इस क्रिया में फाइलें कॉपी नहीं होंगी बल्कि अपनी ओरिज़नल पोज़ीशन से हटकर नई लोकेशन पर पहुँच जाएँगी।

यदि यह कार्य आप ड्रैग करके नहीं करना चाहते हैं तो फाइलों को सेलेक्ट करने के बाद टूल बार में दिए हुए कट कमाण्ड पर क्लिक करें। कट कमाण्ड कैंची जैसे प्रतीक चिह्न के रूप में स्टैण्डर्ड टूलबार के दूसरे भाग में पहला आइकॉन होता है –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 24

इससे फाइलों का रंग उसकी ओरिजनल लोकेशन पर थोड़ा-सा फीका पड़ेगा। फिर आप एड्रेस बार का प्रयोग करके या डेस्कटॉप पर दिखाई दे रहे किसी भी फोल्डर में माउस से डबल क्लिक करें और वहाँ पर पेस्ट कमाण्ड पर क्लिक कर दें।

पेस्ट कमाण्ड इस नई लोकेशन में आपको एडिट मेन्यू (UPBoardSolutions.com) में मिलेगा या फिर स्टैण्डर्ड टूलबार में पेस्ट आइकॉन के रूप में मिलेगा। ऐसा करके भी आप फाइलों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर स्थायी रूप से ले जा सकते हैं।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 25

कट कमाण्ड को यदि आप की-बोर्ड के द्वारा प्रयोग करना चाहें तो आपको इसके लिए कंट्रोल की के साथ एक्स (Ctrl+X) की को दबाना होगा।

कॉपी करने के लिए की-बोर्ड के द्वारा प्रयोग किए जाने वाले कमाण्ड का शार्टकट है- कंट्रोल की के साथ सी की (Ctrl+C) को दबाना और फाइलों को पेस्ट करने के लिए आप कंट्रोल की के साथ वी (Ctrl+V) की को दबाकर यह कार्य कर सकते हैं।

इस क्रिया को अपनाकर आप फाइलों का स्थानान्तरण अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी तरह से कर सकते हैं।

इसके अलावा एक और भी तरीका है, जिसका प्रयोग(UPBoardSolutions.com)  इन्हीं कार्यों के लिए किया जा सकता है। इस तरीके में आप फोल्डर या फाइलों पर क्लिक करके उसे सेलेक्ट करें और फिर

माउस की राइट बटन को दबा दें। राइट बटन का मेन्यू फाइल के सम्बन्ध में इस तरह से आपके सामने आएगा-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 26

यहाँ पर भी आपको कट कमाण्ड मिलेंगे। जिनका प्रयोग आप स्टैण्डर्ड टूलबार के आइकॉनों की तरह से कर सकते हैं।

फाइल को डिलीट करने के लिए आपको यहाँ पर डिलीट कमाण्ड मिलेगा और उनका नाम बदलने के लिए नेम कमाण्ड। इन दोनों का प्रयोग करके आप फाइल को डिलीट भी कर सकते हैं, और उसका नाम भी बदल सकते हैं।

माउस की राइट बटन मेन्यू के अलावा यह कमाण्ड आपको एडिट मेन्यू में भी मिलेंगे। एडिट मेन्यू खुलने के पश्चात् इस तरह से आपके सामने आएगा –

यहाँ से आप कमाण्डों पर क्लिक करके इन्हें कट, कॉपी, (UPBoardSolutions.com) पेस्ट कर सकते हैं। लेकिन एडिट मेन्यू में आपको डिलीट और रिनेम कमाण्ड नहीं मिलेगा। डिलीट और रिनेम कमाण्ड फाइल मेन्यू में होता है।

फोल्डर में स्टोर फाइल को डिलीट करने के लिए की-बोर्ड में उपलब्ध डिलीट की को भी दबाया जा सकता है। जब आप फाइल को डिलीट करेंगे तो आपके सामने फाइल डिलीट होने से पहले विंडोज़ एक मेसेज़ देगा। इस सन्देश को आप दिए हुए चित्र में देख सकते हैं-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 27

यह एक चेतावनी सन्देश है, जिसमें विंडोज़ आपको बता रहा है, क्या आप इस फाइल को डिलीट करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। क्योंकि यह फाइल यहाँ से रि-साइकिलबिन में जा रही है। डेस्कटॉप के प्रमुख तत्वों में आपने रि-साइकिल बिन का नाम भी पढ़ा होगा। इसका अध्ययन विस्तार से आगे करेंगे। आम बोलचाल की भाषा में रिसाइकिल बिन को हम कचरा पेटी कह सकते हैं। विंडोज़ के अन्तर्गत डिलीट होने वाली सभी फाइलें डिफॉल्ट सेटिंग के रूप में सबसे पहले रि-साइकिल (UPBoardSolutions.com) बिन में जाती हैं। जहाँ से हम जरूरत पड़ने पर इन्हें वापस भी ला सकते हैं। इस चेतावनी सन्देश में आपके सामने यस और नो नामक दो बटन हैं, यदि इस फाइल को आपको वास्तव में डिलीट करना है तो यस बटन पर क्लिक करें और आपको इसे नहीं करना है तो इसे नो बटन पर क्लिक कर दें। इस प्रकार आप विंडोज़ में माई कम्प्यूटर द्वारा फाइलों का मैनेजमेंट कर सकते हैं।

UP Board Solutions

विंडोज़ एक्सप्लोरर प्रयोग करना:
विंडोज़ एक्सप्लोरर को प्रयोग करने के लिए आपको विंडोज़ के प्रोग्राम मेन्यू को खोलना होगा और उसमें दिए हुए विंडोज़ एक्सप्लोरर नामक कमाण्ड पर क्लिक करना पड़ेगा। जब आप इस कमाण्ड पर क्लिक करेंगे तो स्क्रीन पर विंडोज़ का एक्सप्लोरर इस प्रकार से सक्रिय होकर दिखाई देने लगेगा –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 28

माई कम्प्यूटर की ऑप्शन विंडो या एक्सप्लोरर की ऑप्शन विंडो में मुख्य अन्तर यह है कि माई कम्प्यूटर में ऑशन विंडो एक ही होती है, जबकि यहाँ पर यह दो भागों में विभाजित है। मेन्यू सिस्टम बिल्कुल एक जैसे ही हैं।

इसमें स्टैण्डर्ड टूल बार भी माई कम्प्यूटर की तरह से ही है और एड्रेस बार भी बिल्कुल वैसा ही है। एड्रेस बार के पश्चात् नीचे की विंडो दो भागों में बँट जाती है। बाएँ और वाले भाग का नाम फोल्डर है और दाएँ ओर वाले भाग का नाम ड्राइव है, उसमें स्टोर फोल्डरों की सूची दिखाई दे रही है।

बायीं ओर जब हम ध्यान से देखें तो हमें पता लगेगा कि एक्सप्लोरर के अन्तर्गत हमारे कम्प्यूटर के डेस्कटॉप के साथ-साथ उसकी सभी ड्राइवें और डेस्कटॉप पर बने सभी फोल्डरों की सूची भी दिखाई दे रही है। जो चित्र अभी एक्सप्लोरर के सम्बन्ध में आपने देखा था, उसमें हार्डडिस्क को सिलेक्ट करके दर्शाया गया था।

इसी तरह से यदि हम हार्डडिस्क को बायीं ओर हिस्से वाले (UPBoardSolutions.com) कोने में और खोलना चाहें तो हमें इस पर बने प्लस अर्थात् धन के निशान पर क्लिक करते हैं। ऐसा करते ही हमारे सामने हार्डडिस्क के कोल्डरों की सूची बायीं ओर ही आ जाएगी। इस सूची को आप दिए गए चित्र में देख सकते हैं –

इस चित्र में आप यह भी देख सकते हैं कि दायीं ओर की बड़ी ऑप्शन विंडो में भी वही फोल्डर दिखाई दे रहे हैं। जबकि अब इनका इधर प्रयोग नहीं है। बायीं ओर वाले भाग में जब आप किसी फोल्डर पर डबल क्लिक करेंगे तो उसके अन्तर्गत स्टोर फाइलें आपको दायीं ओर दिखाई देंगी।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 29

यहाँ पर यदि इन फाइलों को कट, कॉपी, पेस्ट आदि करना चाहते हैं तो सबसे पहले माई कम्प्यूटर वाली क्रिया ही अपना सकते हैं। लेकिन यहाँ पर माउस द्वारा ड्रेग करने की क्रिया सबसे ज्यादा आसान रहेगी। आप मेन ऑप्शन विंडो में दी हुई फाइलों को सेलेक्ट करें। जब फाइलें सिलेक्ट हो जाएँ तो उन्हें माउस से ड्रैग करके बायीं ओर दिखाई दे रहे फोल्डर पर ले जाएँ और छोड़ दें। ऐसा करते ही फाइलें उस फोल्डर पर या उस फोल्डर में स्थानान्तरित हो जाएँगी। इस तरह से आप (UPBoardSolutions.com) विंडोज़ एक्सप्लोरर में फाइलों के स्थानान्तरण का कार्य कर सकते हैं। स्थानान्तरण की तरह से ही फाइलों को एक फोल्डर से दूसरे फोल्डर में कॉपी कर सकते हैं और उनके रूप को भी परिवर्तित कर सकते हैं। दोनों के प्रयोग की विधि लगभग एक जैसी ही है। एक्सप्लोरर में हमें थोड़ी-सी ज्यादा सुविधा मिलती. है। इस तरह से आप विंडोज़ में फाइल मैनेजमेंट का कार्य अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं।

फाइल मैनेजमेंट को सीखना कम्प्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में सबसे आवश्यक है। आपका फाइल और फोल्डर के बारे में कॉन्सेप्ट एकदम स्पष्ट होना चाहिए।

फोल्डरों में हमेशा फाइलों को रखते हैं। जबकि फाइलें अपने अन्तर्गत सूचनाओं को स्टोर रखती हैं। फाइलें क्रियान्वित हो सकती हैं, फोल्डर क्रियान्वित नहीं हो सकते हैं। एक फोल्डर के अन्दर हम अनेक फोल्डर बना सकते हैं। जबकि हम एक फाइल के अन्दर दूसरी फाइल को नहीं बना सकते हैं।

इसके अलावा एक और बात आपको ध्यान रखनी है एक फोल्डर में आप एक नाम की दो फाइलें नहीं रख सकते हैं। यदि आप ऐसा करेंगे तो दूसरी फाइल पहले वाली फाइल को ओवरराइट करके समाप्त कर (UPBoardSolutions.com) देगी। हालाँकि इस क्रिया के दौरान आपको चेतावनी सन्देश प्राप्त होगा कि क्या आप पहले वाली फाइल को ओवरराइट करना चाहेंगे। यदि आपने यहाँ पर गलती से यस बटन पर क्लिक कर दिया तो पहले वाली फाइल समाप्त हो जाएगी।

UP Board Solutions

डेस्कटॉप बदलना:
कम्प्यूटर ऑन करने के बाद हमारे सामने सबसे पहले डेस्कटॉप आता है। डेस्कटॉप ही विंडोज़ का ग्राफिक यूज़र इंटरफेस है, जिसके ऊपर बने आइकॉनों पर क्लिक करके हम अपना कार्य करते हैं। काम करते समय हमारा मन काम में लगा रहे और हम मॉनीटर की इस स्क्रीन का रिज़ोल्यूशन समय-समय पर सॉफ्टवेयरों की क्षमता के अनुसार परिवर्तित कर सकें, इन सभी कार्यों को विंडोज़ के अन्तर्गत डेस्कटॉप परिवर्तित करना कहते हैं।

विंडोज़ के डेस्कटॉप को हम अपनी जरूरत के मुताबिक कस्टमाइज़ कर सकते हैं और उसमें एक सुन्दर-सी फोटो वॉलपेपर के रूप में लगा सकते हैं। जिस समय हम काम नहीं कर रहे हों, उस समय स्क्रीन सेवर को सक्रिय कर सकते हैं, डेस्कटॉप के ऊपर दिए हुए प्रभावों का प्रयोग कर सकते हैं, और ग्राफिक डिजाइनिंग या फिल्म इत्यादि देखने के लिए मॉनीटर का रिज़ोल्यूशन भी बदल सकते हैं।

विंडोज़ के प्रत्येक संस्करण में डेस्कटॉप बदलने के संदर्भ में दो तरीके होते हैं। पहले तरीके के अन्तर्गत आप डेस्कटॉप के किसी भी खाली स्थान पर माउस के द्वारा राइट बटन से क्लिक करके उसमें दिए हुए प्रापर्टीज़ विकल्प का प्रयोग डेस्कटॉप को परिवर्तित करने में कर सकते हैं। दूसरे नम्बर पर आता है कंट्रोल पैनल में दिया हुआ डिस्प्ले (UPBoardSolutions.com) आइकॉन। जब आप विंडोज़ के स्टार्ट बटन पर क्लिक करते हैं तो स्टार्ट बटन का मेन्यू आपको स्क्रीन पर दिखाई देता है। इस मेन्यू में सेटिंग नामक विकल्प होता है। इस पर माउस प्वाइण्टर ले जाते ही आपके सामने इसका एक उप-मेन्यू इस तरह से आ जाएगा-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 30

इसमें आप देख सकते हैं कि सबसे पहले कंट्रोल पैनल नामक कमाण्ड है। आप इसे कमाण्ड समझ सकते हैं, विकल्प Search समझ सकते हैं और क्रियान्वित होने वाला आइकॉन भी समझ सकते हैं। हालाँकि यहाँ पर एक फोल्डर बना होता है इसका अर्थ यह है कि कंट्रोल पैनल के अन्तर्गत बहुत से कम्पोनेन्ट हैं, जो कि कंट्रोल नामक फोल्डर में रखे गए हैं।

डेस्कटॉप को बदलने के लिए आप इस कंट्रोल पैनल नामक फोल्डर या विकल्प पर क्लिक कर दें। किलक करते ही आपके सामने खुलकर पर इस तरह से दिखाई देने लगेगा –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 31

इसमें आप देख सकते हैं कि सबसे पहले बैकग्राउंड नामक टैब ऑप्शन खुला हुआ है। इसका अर्थ है कि हम इसका प्रयोग करके डेस्कटॉप के बैकग्राउंड को बदल सकते हैं-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 32

जो कार्य यह आइकॉन करता है, ठीक वही कार्य हम डेस्कटॉप पर माउस के द्वारा राइट क्लिक करके उसमें दिए हुए प्रॉपर्टीज़ कमाण्ड के द्वारा भी कर सकते हैं। इन्हें बदलने के लिए आपको (UPBoardSolutions.com) बैकग्राउंड के रूप में वॉलपेपरों का प्रयोग करना होगा।

विकल्प बॉक्स में दिए हुए वॉलपेपर विंडो में मिलेंगे। जिन पर क्लिक करके आप उन्हें सिलेक्ट कर सकते हैं। दिए हुए चित्र में ऑटम नामक वॉलपेपर को सिलेक्ट करके दर्शाया गया है-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 33

इसमें आप देख सकते हैं कि ऑटम नामक वॉलपेपर का प्रिव्यू ऊपर प्रिव्यू विंडो में दिखाई दे रहा है। यदि इन वॉलपेपरों को आपके कम्प्यूटर में किसी दूसरे फोल्डर में स्टोर किया गया है तो आप इसमें दिए हुए ब्राउज बटन पर क्लिक करके उसका चुनाव कर सकते हैं। वॉलपेपर का डिस्प्ले मॉनीटर की स्क्रीन पर किस तरह से हो, इसे चुनने के (UPBoardSolutions.com) लिए आपको डिस्प्ले नामक विकल्प का प्रयोग करना होगा। जब आप इस विकल्प पर क्लिक करके खेलेंगे तो इसका उप-मेन्यू स्क्रीन पर इस तरह से दिखाई देगा-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 34

इस मेन्यू में आपको तीन विकल्प मिलेंगे। पहले विकल्प का नाम सेंटर होता है, जिसका इस्तेमाल आप वॉलपेपर को स्क्रीन के बीचो-बीच रखने के लिए कर सकते हैं।

दूसरे विकल्प का नाम टाइल होता है, इसका प्रयोग आप वॉलपेपर को स्क्रीन पर टाइलों की भांति लगाने के लिए कर सकते हैं और तीसरे विकल्प का नाम स्ट्रैच है।

इसका चुनाव करके आप वॉलपेपर को पूरी स्क्रीन पर फैला सकते हैं। प्रि-व्यू विंडो में इसी विकल्प को दर्शाया गया है। जब आप वॉलपेपर के डिस्प्ले का चुनाव कर लें तो ओके बटन पर क्लिक करें। क्लिक करते ही आप देखेंगे कि स्क्रीन पर किस तरह से वॉलपेपर टाइल मोड में सेट होकर दिखाई दे रहा है-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 35

आप किसी भी बिटमैप फाइल को या एचटीएमएल डॉक्यूमेंट को वॉलपेपर के रूप में प्रयोग कर सकते हैं। प्रयोग करने का तरीका यही है।

वॉलपेपर के पश्चात् आप डेस्कटॉप के लिए स्क्रीन सेवर को सेट कर सकते हैं, बैकग्राउंड टैब ऑप्शन के बाद स्क्रीन सेवर नामक टैब ऑप्शन होता है, जिस पर क्लिक करते ही इसके सभी विकल्प स्क्रीन पर दिए हुए चित्र की तरह से दिखाई देने लगते हैं –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 36

इस मेन्यू में आपको सबसे पहले स्क्रीन सेवर नामक एक ऑप्शन दिखाई दे रहा है। स्क्रीन सेवर नामक इस ऑप्शन विंडो को खोलते ही आपको विंडोज़ में इंस्टॉल स्क्रीन सेवरों की सूची इस तरह से दिखाई देने लगेगी –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 37

आप इसमें से जिस स्क्रीन सेवर को चुनना चाहें, उसे चुन सको हैं। स्क्रीन सेवर का चुनाव करने के बाद आप उसके लिए प्रॉपर्टीज़ सेट कर सकते हैं। इस कार्य के लिए आपको इसमें दिए हुए सेटिंग विकल्प पर क्लिक करना होगा।

UP Board Solutions

स्क्रीन के रंग और रिजोल्यूशन बदलना:
रिजोल्यूशन बदलने के लिए सेटिंग नामक टैब ऑप्शन होता है, जिसका डेस्कटॉप को कस्टमाइज़ करने में बहुत ही महत्त्वपूर्ण रोल है। सेटिंग नामकं टैब ऑप्शन के द्वारा हम मॉनीटर का रिज़ोल्यूशन घटा या बड़ा सकते हैं।

रिज़ोल्यूशन को आप साधारण शब्दों में इस तरह से (UPBoardSolutions.com) समझ सकते हैं, यदि हम किसी फोटोग्राफ को बहुत ही स्पष्ट देखना चाहें तो मॉनीटर का रिजोल्यूशन बढ़ाना पड़ेगा।

रिजोल्यूशन का तकनीकी अर्थ होता है, एक इंच में बिन्दुओं की संख्या। क्योंकि मॉनीटर पर हमें जो भी दिखाई देता है वह छोटे-छोटे बिन्दुओं से मिलकर बनता है।

एक इंच के घेरे में जितने ज्यादा बिन्दु होंगे, दिखाई देने वाला चित्र उतना ही स्पष्ट होगा। सेटिंग नामक ऑप्शन पर क्लिक करते ही यह खुल जाता है और स्क्रीन पर इस तरह से आ जाता है –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 38

यहाँ पर आप देख सकते हैं कि प्रिव्यू विंडो के अलावा डिस्प्ले नामक हेडिंग के नीचे अननोन मॉनीटर ऑन सिस 6326 लिखा हुआ है। इसका अर्थ है कि इसमें सिस नामक कम्पनी का डिस्प्ले कार्ड प्रयोग किया गया है। इस ऑप्शन को आप बदल नहीं सकते हैं क्योंकि यह तभी बदलेगा जब आप डिस्प्ले कार्ड बदलेंगे।

इसके नीचे कलर्स नामक एक विकल्प है, जिसमें हाई (UPBoardSolutions.com) कलर्स 16 बिट ऑप्शन सेट है। जब आप इस विकल्प ऑप्शन विंडो को खोलेंगे तो स्क्रीन पर आपको इसके अन्तर्गत आने वाले तत्वों की सूची इस प्रकार दिखाई देगी-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 39

इसमें आपको सबसे पहले 16 कलर नामक विकल्प मिलेगा। यदि आप इसका चुनाव करते हैं तो स्क्रीन पर प्रत्येक चित्र या आइकॉन केवल 16 रंगों में दिखाई देगा। इसके पश्चात् 256 कलर नामक ऑप्शन होता है जो कि स्क्रीन को 256 रंगों में देखने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

इसके पश्चात् हाई कलर और ट्र कलर नामक विकल्प हैं, जिनकी सेटिंग करके या इनका चुनाव करके आप स्क्रीन पर कम्प्यूटर के किसी भी आइकॉन या इसमें स्टोर फोटोग्राफ को करोड़ों रंगों (UPBoardSolutions.com) (16.5 मिलियन कलर) में देख सकते हैं।

इसके पश्चात् आपको स्क्रीन एरिया नामक एक स्लाइडर बार मिलेगा, जिसको आप खिसका कर रिज़ोल्यूशन को कम या ज्यादा कर सकते हैं। इसे आप जितना ज्यादा करेंगे चित्र उतने ही स्पष्ट हो जाएँगे।

विंडोज़ का टास्कबार:
जब विंडोज़ लोड होकर हमारे सामने आती है तो उसमें सबसे नीचे एक पट्टी चमकती है। इसी पट्टी के बाएँ कोने में स्टार्ट बटन होता है और दाएँ कोने में हमें समय दिखाई देता है। हिंदी में यदि हम टास्कबार का अनुवाद करें तो हम इसे कार्य पट्टी का नाम दे सकते हैं। लेकिन टास्कबार शब्द भी बोलने में और समझने में आसान है। जब आप कोई भी प्रोग्राम क्रियान्वित करते हैं और उसको सेमी क्लोज़ करते हैं तो वह टास्कबार पर आ जाता है। इसके अलावा हमारे कम्प्यूटर में जुड़े (UPBoardSolutions.com) सहायक उपकरणों के ड्राइवर भी टास्कबार में दायीं ओर क्रम से सक्रिय होकर आते हैं और यहीं से हमें इस बात का पता चलता है कि कौन-कौन से उपकरण हमारे कम्प्यूटर में सक्रिय हैं या उससे जुड़े हुए हैं। दिए हुए चित्र में टास्कबार के दाएँ कोने में इंस्टाल कुछ सहायक उपकरणों को दर्शाया गया है, जिससे आप इस बारे में अपनी समझ को स्पष्ट कर सकें-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 40

टास्कबार में स्टार्ट बटन के पश्चात् कुछ टूल्स होते हैं। इस हिस्से को क्विक लॉन्च ट्रल भी कहते हैं और यहाँ से आप इन टूल्स पर क्लिक करके इन्हें चला सकते हैं। खासतौर से इंटरनेट से रिलेटिव अर्थात् सम्बन्धित टूल्स, यहाँ पर होते हैं। दिए हुए चित्र में आप टास्कबार के इस हिस्से को देख सकते हैं –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 41

टास्कबार के द्वारा ही आप समय और तारीख देख सकते हैं और उसमें परिवर्तन भी कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप अपने कम्प्यूटर की घड़ी ठीक करना चाहें तो आपको टास्कबार के दाएँ कोने में चमक रही घड़ी पर डबल क्लिक करना होगा। डबल क्लिक करते ही आपके सामने दिए हुए चित्र की तरह से घड़ी और तारीख का मेन्यू खुलकर आ जाएगा –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 42

यहाँ पर आप सही समय, सन और तारीख सेट करके ओके बटन पर क्लिक कर दें, तो आपके कम्प्यूटर में समय और तारीख ठीक हो जाएगी। यहीं से आप एक और कार्य कर सकते हैं। वह कार्य है टाइम जोन सेट करने का। टाइम जोन सेट करने के लिए आप डेट एण्ड टाइम के बाद दिए हुए टैब ऑप्शन पर क्लिक करें।

हम जीएमटी टाइम जोन के अन्तर्गत आते हैं इसीलिए हमें इसमें जीएमटी टाइम जोन का सिलेक्शन करना होगा। वैसे माइक्रोसॉफ्ट कॉरपोरेशन ने मुम्बई, कलकत्ता, मद्रास और न्यू दिल्ली (UPBoardSolutions.com) को जीएमटी टाइम जोन के साथ दिया है, जिससे आपको चुनने में कोई परेशानी न हो। इस तरह से आप टास्कबार के इस आइकॉन के द्वारा अपने कम्प्यूटर में समय और तारीख ठीक कर सकते हैं।

UP Board Solutions

स्पीकर की आवाज़ कंट्रोल करना:
यदि आपका कम्प्यूटर मल्टीमीडिया है, तो उसमें निकलने वाली आवाज की सेटिंग भी आप टास्कबार पर दिए स्पीकर आइकॉन से कर सकते हैं, क्योंकि स्पीकर आइकॉन समूचे कम्प्यूटर की आवाज को नियन्त्रित करता है। जब आप इसके ऊपर डबल क्लिक करेंगे, तो स्क्रीन पर आपके सामने वॉल्यूम कंट्रोल करने के लिए यह मेन्यू आएगा-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 43

यहाँ पर आप देख सकते हैं कि लगभग सभी तरह की आवाजों को कम या ज्यादा करने के लिए स्लाइडर बार लगे हुए हैं। इसके अतिरिक्त स्पीकरों को बैलेंस करने के लिए भी स्लाइडर बार हैं, जिनका प्रयोग करके आप दायँ या बाएँ दोनों स्पीकरों से आवाज को आउटपुट के रूप में प्राप्त कर सकते हैं। इसमें आपको लाइन बैलेंस, सीडी ऑडियो, वेब आउट, मिडी आउट और थ्रीडी वाइड जैसे अनेक ऑप्शन मिलेंगे जो कि अलग-अलग तरह की फाइलों की आवाजों को नियन्त्रित करते हैं।

यदि इनमें से किसी को पूरी तरह से बन्द करना है तो आप उसमें दिए हुए म्यूट ऑप्शन को सिलेक्ट कर सकते हैं और यदि पूरी आवाज को बन्द करना है तो वैल्यूम कंट्रोल बैलेंस जो कि सबसे बायीं ओर होता है तो उसमें दिए हुए म्यूट ऑल नामक विकल्प को सक्रिय करके ऐसा कर सकते हैं।

इंस्टॉल प्रोग्राम हटाना:
यदि आपको किसी इंस्टॉल किए हुए प्रोग्राम को पूरी तरह से अपने कम्प्यूटर से हटाना है तो यह कार्य कैसे करेंगे। आइए अब यह सीखते हैं। इस कार्य को करने के लिए आपको एक बार फिर से कंट्रोल पैनल का प्रयोग करना होगा।

कंट्रोल पैनल, स्टार्ट बटन मेन्यू में सेटिंग नामक विकल्प के (UPBoardSolutions.com) तहत होता है। इसके अलावा आप माई कम्प्यूटर नामक आइकॉन से जो कि डेस्कटॉप पर रहता है से भी कंट्रोल पैनल को खोल सकते हैं। यह आप पर निर्भर है कि आप किस स्थान से प्रयोग करते हैं। जब आप इस कंट्रोल नामक पैनल ऑप्शन या फोल्डर पर क्लिक करेंगे तो इसके सभी कंट्रोल कम्पोनेंट स्क्रीन पर इस तरह से दिखाई देने लगेंगे-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 44

यहाँ पर आप देख सकते हैं कि इसमें ऐड रिमूव प्रोग्राम नामक एक आइकॉन है। इसका प्रयोग आप प्रोग्राम को हटाने के संदर्भ में कर सकते हैं। जब आप इस पर डबल क्लिक करेंगे तो यह क्रियान्वित हो जाएगा और स्क्रीन पर इसका मेन्यू इस प्रकार दिखाई देने लगेगा-
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 45

इस मेन्यू में आपको तीन टैब ऑप्शन मिलेंगे। पहले टैब ऑप्शन के द्वारा प्रोग्राम नया प्रोग्राम को हटा सकते हैं और हटाने के साथ-साथ इंस्टॉल करने के नया प्रोग्राम जोड़ भी सकते हैं। आप लिए इस बटन प्रोग्राम लिस्ट से उस प्रोग्राम का चुनाव पर क्लिक करें। करें, जिसे हटाना चाहते हैं। ऐसा करते ही उसके नीचे दिए हुए ऐड और रिमूव बटन जिस प्रोग्राम को चमकने लगेंगे। दिए हुए चित्र में प्रोग्राम हटाना है उसका को सिलेक्ट करके इन बटनों को चमकता :

आप यहाँ पर केवल क्लिक कर दें। क्लिक करते ही प्रोग्राम के हटने की प्रक्रिया प्रारम्भ हो जाएगी और थोड़ी ही देर में प्रोग्राम आपके कम्प्यूटर से हट जाएगा। वैसे बहुत से प्रोग्रामों के साथ उनके निर्माता (UPBoardSolutions.com) ही अंन-इंस्टॉलेशन प्रोग्राम जोड़ देते हैं जो प्रोग्राम मेन्यू में प्रोग्राम ग्रुप के साथ ही जुड़ जाता है। उस पर भी क्लिक करके आप प्रोग्राम को हटा सकते हैं। इसी तरह से आप यदि नया प्रोग्राम जोड़ना चाहें तो आपको रन कमाण्ड के अलावा यहाँ एक इंस्टॉल नामक बटन भी मिलेगी, जिस पर क्लिक करके प्रोग्राम को इंस्टॉल कर सकते हैं।
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 46

विंडोज़ में वर्ड प्रोसेसिंग करना:
जैसा कि आप जानते हैं विंडोज़ एक ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ-साथ ऐसा सॉफ्टवेयर भी है, जिसमें अनेक यूटीलिटी सॉफ्टवेयर हैं, जिनके द्वारा आप अलग-अलग तरह के कई कार्य कर सकते हैं।

यदि आपको सामान्य पत्र लिखना हो तो आपको एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर खरीदने की जरूरत भी नहीं है, विंडोज़ में यह वर्ड प्रोसेसिंग की सुविधा उसके बुनियादी रूप से ही उपलब्ध है। जब विंडोज़ 3.1 संस्करण बाजार में आया था या उपलब्ध था तो राइट नामक एक यूटीलिटी सॉफ्टवेयर उसमें एसेसरीज़ के अन्तर्गत इनबिल्ट था।

इस राइट नामक सॉफ्टवेयर में वर्ड प्रोसेसिंग का कार्य कर सकते थे लेकिन विंडोज़ 95 में इसका नाम वर्ड कर दिया गया और विंडोज़ 95 के पश्चात् 98, 2000 और मिलेनियम में भी इसे वर्ड पैड के (UPBoardSolutions.com) नाम से जाना जाता है। लेकिन यह सॉफ्टवेयर राइट से कई गुना ज्यादा शक्तिशाली है और माइक्रोसॉफ्ट वर्ड नामक वर्ड प्रोसेसिंग संस्करण का लघु संस्करण है। इस कार्य को करने के लिए आपको स्टार्ट बटन पर क्लिक करके प्रोग्राम मेन्यू के द्वारा एसेसरीज़ में जाना होगा।

एसेसरीज़ में आपको वर्ड पैड के नाम से इसका कमाण्ड आइकॉन मिलेगा। यदि आपको वास्तव में वर्ड प्रोसेसिंग करनी है तो आप इस पर क्लिक कर दें। क्लिक करते हो यह सॉफ्टवेयर क्रियान्वित हो जाएगा और इस वर्ड प्रोसेसर का रूप आपके सामने इस तरह से आ जाएगा –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 47

आप यहाँ पर सीधे-सीधे टाइपिंग स्टार्ट कर सकते हैं। टाइपिंग करने के पश्चात् यदि आप उसका फॉन्ट बदलना चाहें तो आपको माउस से यह टेक्स्ट सिलेक्ट करना होगा। इसके बाद आप इसमें दी हुई फॉन्ट विंडो को खोलकर टेक्स्ट का फॉन्ट बदल सकते हैं। विंडोज़ में उपलब्ध सभी फॉन्ट आपको इस वर्ड प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर में दिखाई देंगे। इसकी फॉन्ट विंडो को निम्न चित्र में खोलकर दर्शाया गया है –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 48

इस फॉन्ट विंडो से आप टेक्स्ट के लिए फॉन्ट का चुनाव करने के बाद इसके पास दी गई फॉन्ट साइज़ विंडो से फॉन्ट का आकार और फिर स्टाइलों का प्रयोग करके टेक्स्ट को बोल्ड, इटैलिक और अंडरलाइन कर सिलेक्ट किए सकते हैं। टेक्स्ट को रंगीन बनाने टेक्स्ट के लिए के लिए भी फॉन्ट विंडो वाली पंक्ति रंग का चयन में ही कलर नामक टूल होता है।। इस बॉक्स से जो कि खुलने पर आपके सामने करें। इस तरह से आएगा –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 49

इसमें उपलब्ध रंगों में से किसी को आप टेकर के संदर्भ में माउस से क्लिक करके सिलेक्ट कर सकते हैं। इसके पश्चात् टेक्स्ट एलाइन करने के लिए यहाँ पर आपको तीन विकल्प मिलेंगे, जिनके द्वारा आप क्रमशः टेक्स्ट को लेफ्ट, सेंटर और राइट एलाइन कर सकते हैं। यदि टेक्स्ट को बुलेटेड रूप देना है तो यहाँ पर बुलेट्स नामक एक आइकॉन भी होता है, जिस पर क्लिक करके टेक्स्ट के आगे बुलेट का प्रयोग किया जा सकता है।

फॉन्ट सिलेक्ट करने वाली इस विंडो के ऊपर भी इसका स्टैण्डर्ड टूलबार है, जिसका प्रयोग करके नई फाइलें खोल सकते हैं, पुरानी फाइल खोल सकते है, फाइल को सेव कर सकते हैं, और उसे प्रिंट (UPBoardSolutions.com) प्रिव्यू करने के साथ-साथ उसे सेव भी कर सकते हैं। इसमें कट, कॉपी, पेस्ट जैसे सभी टूल होते हैं जो कि विंडोज़ में एक आम बात है।

इसके अतिरिक्त इस वर्ड प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर में एक मेन्यू सिस्टम भी है, जिसके द्वारा आप टेक्स्ट की फॉर्मेटिंग कर सकते हैं। फॉर्मेटिंग के तहत पैराग्राफ और टैब का इस्तेमाल आसानी से किया जा सकता है। इस प्रकार आप विंडोज़ में दिए हुए वर्ड प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर में लिखे टेक्स्ट को तरह-तरह के फॉन्ट के द्वारा सजा सकते हैं, एलाइन कर सकते हैं, और रंगीन रूप देकर फाइल मेन्यू के प्रिंट कमाण्ड द्वारा प्रिंट भी कर सकते हैं।

UP Board Solutions

कैलकुलेटर प्रयोग करना:
विंडोज़ के प्रत्येक संस्करण में कैलकुलेटर को एक यूटीलिटी सॉफ्टवेयर के रूप में जोड़ा गया है, जिसकी वजह से आपको सामान्य गुणा भाग करने के लिए बाहरी कैलकुलेटर की जरूरत नहीं है।

इसे प्रयोग करने के लिए आप प्रोग्राम मेन्यू के द्वारा एसेसरीज़ में जाकर कैलकुलेटर नामक आइकॉन पर क्लिक कर दें। क्लिक करने से यह सक्रिय हो जाएगा और इसका सामान्य रूप इस तरह से दिखाई देने लगेगा –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 50

यहाँ पर आप देख सकते हैं कि हम जिस भौतिक कैलकुलेटर को अभी तक प्रयोग करते हैं, यह भी बिल्कुल वैसा ही है। इसकी बटनों पर क्लिक करके आप गणना करने का काम कर सकते हैं।

गणना करने के बाद आए किसी भी परिणाम को आप यदि क्लिपबोर्ड में कॉपी करना चाहें तो इसके एडिट मेन्यू में दिए हुए कॉपी कमाण्ड से यह कर सकते हैं।

इस कैलकुलेटर का एक वैज्ञानिक रूप भी होता है, जिसे आप व्यू मेन्यू में दिए हुए साइंटिफिक विकल्प पर क्लिक करके सामने ला सकते हैं। निम्न चित्र में इसे देख सकते हैं –
UP Board Solutions for Class 8 Computer Education (कम्प्यूटर शिक्षा) 51

कैलकुलेटर के इस रूप में आप कई नम्बर पद्धतियों में गणना कर सकते हैं, जिनमें बाइनरी नम्बर सिस्टम, हेक्सा डेसिमल नम्बर सिस्टम और दशमलव नम्बर सिस्टम शामिल है। इन सबको प्रयोग करने के लिए इसमें इनसे सम्बन्धित विकल्प और बटनें दी हुई हैं।

UP Board Solutions for Class 8

UP Board Class 8 Maths Model Paper गणित

UP Board Class 8 Maths Model Paper are part of UP Board Class 8 Model Papers. Here we have given UP Board Class 8 Maths Model Paper.

Board UP Board
Class Class 8
Subject Maths
Model Paper Paper 1
Category UP Board Model Papers

UP Board Class 8 Maths Model Paper गणित

सत्र-परीक्षा प्रश्न-पत्र
कक्षा-8
विषय – गणित

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
संख्या 1809025 के वर्गमूल में अंकों की संख्या बताइए।
हल:
1 80 90 25 बनी संख्याएँ चार हैं। अतः वर्गमूल में 4 अंकों की संख्या है।

प्रश्न 2.
32 में किस लघुत्तम पूर्व संख्या से गुणा करें कि गुणनफले घन हो जाए?
हल:
32 = 2 × 2 × 2 × 2 × 2
समान गुणनखंडों के 3-3 समूह (त्रिक) बनाने पर 2 x 2 बच जाता है।
अतः यदि 32 में 2 से गुणा कर दिया जाए तो गुणनफल पूर्ण घन हो जाएगा।

प्रश्न 3.
यदि a + b = 5 और ab = 6, तो a3 + b3 का मान ज्ञात कीजिए।
हल:
a³ + b³ = (a + b)³ − 3ab (a + b)
जहाँ, a + b = 5, ab = 6
∴ a³ + b³ = (5)³ − 3 × 6 × 5
= 125 − 90 = 35

प्रश्न 4.
8 तथा −8 के घनमूलों में कौन बड़ा है?
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Quarterly Q4

प्रश्न 5.
a² + 8a + 16 का गुणनखंड कीजिए।
हल:
a+ 8a + 16 = a² + 2 × a × 4+ 4²
=(a + 4)² = (a + 4) (a + 4)
∴ [a² +2ab + b² = (a + b)]
∴ a + 8a + 16 का गुणनखंड (a + 4) तथा (a + 4) है।

प्रश्न 6.
(x + y + z)² का मान होगा
हल:
(x + y + z)² = x + y + 2 + 2xy + 2yz + 2zx

प्रश्न 7.
8x²yz में 2xy से भाग दीजिए।
हल:
\frac{8 x^{2} y z}{2 x y}=4 x z

प्रश्न 8.
वर्ग की चारों भुजाएँ कैसी होती हैं?
हल:
वर्ग की चारों भुजाएँ बराबर होती हैं।

प्रश्न 9.
(a − 5)² का मान बताइए।
हल:
(a − 5)² = (a)² − 2 × a × 5 + (5)²
= a2 − 10a + 25

प्रश्न 10.
चतुर्भुज के चारों कोणों का योग कितना होता है?
हल:
चतुर्भुज के चारों कोणों का योग 360° होता है।

प्रश्न 11.
परिमेय संख्या \frac{13}{17} का वर्ग ज्ञात कीजिए।
हल:
\left(\frac{13}{17}\right)^{2}=\frac{13 \times 13}{17 \times 17}=\frac{169}{289}

प्रश्न 12.
-\frac{5}{9} का घन ज्ञात कीजिए।
हल:
\left(\frac{-5}{9}\right)^{3}=\frac{-5}{9} \times \frac{-5}{9} \times \frac{-5}{9}=\frac{-5 \times-5 \times-5}{9 \times 9 \times 9}=\frac{-125}{729}

प्रश्न 13.
(−343 × 512) का मान ज्ञात कीजिए।
हल:
(-343 \times 512)^{13}=(-7 \times-7 \times-7 \times 8 \times 8 \times 8)^{1 / 3}
\left(-7^{3} \times 8^{3}\right)^{1 / 3}
\{(-7 \times 8)\}^{3 / 3}
= − 7 × 8 = −56

प्रश्न 14.
एक घनाकार बक्से का आयतन 1331 घन सेमी है, इसकी एक भुजा ज्ञात कीजिए।
हल:
घनाकार बक्से का आयतन = 1331 घन सेमी
घनाकार की एक भुजा =³\sqrt { 1331 }
= 11 सेमी

प्रश्न 15.
5² + (−5)² को धनात्मक वर्गमूल लेते हुए सरल कीजिए।
हल:
5² + (−5)² = 25 + 25 = 50

लघु उत्तरीय प्रश्न .

प्रश्न 16.
7744 का गुणनखंड विधि से वर्गमूल ज्ञात कीजिए।
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Quarterly Q16

प्रश्न 17.
6a6 − 21a 4− 12a को सरल कीजिए।
हल:
∴ 6a6 − 21a 4− 12a
= 3a² [2a4  − (8 − 1)a² − 4]
= 3a² [2a4  − 8a² + a² − 4]
= 3a² [2a² ( a² − 4) + 1( a² − 4)]
= 3a² [(a² − 4)(2a² + 1)]
= 3a² (a − 2)(a +2)(2a² + 1)

प्रश्न 18.
यदि x+y= 3 तथा xy=2 हो, तो x³+y³ का मान ज्ञात कीजिए।
हल:
x³ + y³ = (x + y)³ − 3xy (x + y) से, जहाँ x + y = 3 तथा xy= 2
x³ + y³ = 3³ − 3 × 2 × 3 = 27 − 18 = 9

प्रश्न 19.
\frac{x^{2}-y^{2}}{x+y} को सरल कीजिए।
हल:
\frac{x^{2}-y^{2}}{x+y}=\frac{(x+y)(x-y)}{(x+y)}=x-y

प्रश्न 20.
यदि किसी चतुर्भुज के दो कोण 60° तथा 120° के हैं तथा शेष दोनों कोण समान हैं, तो उनके मान ज्ञात कीजिए।
हल:
माना चतुर्भुज के दो समान कोण x° हैं।
∴ चतुर्भुज के चारों कोणों का योग = 360°
∴ x + x + 60° + 120° = 360°
⇒ 2x + 180° = 360°
⇒ 2x = 360° – 180° = 180°
⇒ x = \frac{180^{\circ}}{2} = 90° शेष दोनों कोण 90°, 90° के होंगे।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 21.
पावं चित्र में, ABC एक त्रिभुज है तथा BD भुजा AC के समान्तर है; ∠ACB = 30° तथा ∠ABD=28°, ∠ABC, ∠DBK तथा ∠BAC के मान ज्ञात कीजिए।
हल:
∠ACB = 30°
∴ DB || AC
∴  ∠DBK = ∠ACB = 30°
UP Board Class 8 Maths Model Paper Quarterly Q21
∠ABK = ∠ABD + ∠DBK
= 28° + 30 = 58°
∴ बहिष्कोण = अन्तः कोणों का योग
∠ABK = ∠BAC + ∠BCA
⇒ 58° = ∠BAC + 30°
⇒ ∠BAC = 58° − 30° = 28°
∴ त्रिभुज के तीनों कोणों का योग 180° होता है।
∠BAC+ ∠ACB + ∠ABC = 180°
⇒ 28० + 30° +∠ ABC = 180°
⇒ 58° +∠ABC = 180°
⇒ ∠ABC = 180° – 58°
⇒ ∠ABC = 122°

प्रश्न 22.
x5 − y5  में x − y से भाग दीजिए।
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Quarterly Q22
अतः भागफल = x4  + x³y + x²y² + xy³ + y4
⇒ शेषफल = 0

प्रश्न 23.
(x² + y² − z²)² −  (x² − y² + z²)² को सरल कीजिए।
हल:
(x² + y² − z²)² −  (x² − y² + z²)²
= [(x²)² + (y²)² + (−z²)² + 2 × x² × y² × 2 × y² × (−z²) + 2 × (−z²) × x²]
= [(x²)² + (−y²)² + (z²)² + 2 × x² × (−y²) × 2 × (−y²) × (−z²) + 2 × z² × x²]
= [x+ y4 + z4 + 2x²y² − 2y²z² − 2z²x²] − (x+ y4 + z4 − 2x²y² − 2y²z² + 2z²x²)
= x+ y4 + z4 + 2x²y² − 2y²z² − 2z²x² − x4 − y4 − z4 + 2x²y² + 2y²z² − 2z²x²
= 4x²y² − 4z²x²
= 4x²(y² − z²)
= 4x² (y+z) ( y− z)

प्रश्न 24.
समांतर चतुर्भुज ABCD की रचना कीजिए, जहाँ AB = 3.6 सेमी, BC = 4.2 सेमी और AC = 6.5 सेमी और शेष भुजा नापकर अपनी उत्तर पुस्तिका में लिखिए।
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Quarterly Q24
रचना

  • सर्वप्रथम रेखाखंड AB = 3.6 सेमी खींचा।
  • फिर A से 6.5 सेमी की त्रिज्या का एक चाप खींचा तथा B से 4.2 सेमी की त्रिज्या को दूसरा चाप खींचा जो कि एक-दूसरे को बिंदु C पर काटते हैं।
  • AC तथा BC को मिलाया।
  • फिर C से 3.6 सेमी त्रिज्या का एक चाप खींचा तथा A से 4.2 सेमी त्रिज्या का दूसरा चाप खींचा जो कि एक-दूसरे को बिंदु D पर काटते हैं।
  • AD तथा CD को मिलाया। अतः ABCD अभीष्ट समान्तर चतुर्भुज है। नापने पर, BD = 4.4 सेमी होगा।

प्रश्न 25.
62500 का गुणनखंड विधि तथा भाग विधि से वर्गमूल ज्ञात करके दोनों उत्तरों की तुलना कीजिए।
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Quarterly Q25

 

अर्द्धवार्षिक-परीक्षा प्रश्न-पत्र
कक्षा-8
विषय – गणित

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
शेयरधारी किसे कहते हैं?
हल:
शेयर खरीदने वाला व्यक्ति शेयरधारी कहलाता है।

प्रश्न 2.
6x = 5x + 9 को हल कीजिए।
हल:
⇒ 6x = 5x + 9
⇒ 6x − 5x= 9
⇒ x= 9

प्रश्न 3.
जिस मूल्य पर शेयर खुले बाजार में खरीदा या बेचा जाता है, उसे शेयर……..कहते हैं। वाक्य पूर्ण कीजिए।
हल:
जिस मूल्य पर शेयर खुले बाजार में खरीद या बेचा जाता है, उसे शेयर बाजार मूल्य कहते हैं।

प्रश्न 4.
लाभांश किसे कहते हैं?
हल:
जब कम्पनी को वर्ष के अन्त में लाभ होता है तो उस लाभ का कुछ हिस्सा कम्पनी शेयरधारियों को उनके द्वारा खरीदे गए शेयरों के अनुपात में बाँट देती है। इस लाभ को लाभांश कहते हैं।

प्रश्न 5.
5x − y = 9 में y के मान x पदों में लिखिए।
हल:
⇒ 5x − y = 9
⇒ y = 5x − 9

प्रश्न 6.
लाभांश शेयर के किस मूल्य पर दिया जाता है?
हल:
लाभांश शेयर के अंकित मूल्य पर दिया जाता है।

प्रश्न 7.
4 − x² को गुणनखंड ज्ञात कीजिए।
हल:
2² − x² = (2 + x ) (2 − x)

प्रश्न 8.
8, 5, 9, 8, 8, 7, 8, 10, 8 को बहुलक ज्ञात कीजिए।
हल:
पाँच बार आने वाली संख्या = 8
∴ बहुलक = 8

प्रश्न 9.
16x² − 25 का गुणनखंड ज्ञात कीजिए।
हल:
16x² − 25
=(4x)² – 5²
=(4x+5)(4x-5)

प्रश्न 10.
x=\frac{16}{x} को हल कीजिए
हल:
x=\frac{16}{x}
⇒ x × x = 16
⇒ x²  = 16
⇒x = 2\sqrt { 16 } = ±4

प्रश्न 11.
वह संख्या ज्ञात कीजिए जो अपने व्युत्क्रम के बराबर है।
हल:
माना अभीष्ट संख्या = x
प्रश्नानुसार, x=\frac{1}{x}
x² = 1
x = √1
x = ±1

प्रश्न 12.
a² − 49 का गुणनखंड ज्ञात कीजिए।
हल:
a² − 49=a² − 7 = (a+7) (a − 7)

प्रश्न 13.
प्रथम पाँच अभाज्य संख्याओं का माध्य क्या है?
हल:
प्रथम पाँच अभाज्य संख्याएं, 1, 3, 5, 7 तथा 9 है।
माध्य \frac{1+3+5+7+9}{5}=\frac{25}{5}=5

अत: माध्य 5 है।

प्रश्न 14.
वृत्तं के केन्द्र को जीवा के मध्य बिन्दु से मिलाने वाली रेखा, ……… पर लम्ब होती है। वाक्य पूर्ण कीजिए।
हल:
वृत्त के केन्द्र को जीवा के मध्य बिन्दु से मिलाने वाली रेखा, जीवा पर लम्ब होती है।

प्रश्न 15.
शेयर बट्टे पर कब होता है?
हल:
यदि शेयर का बाजार मूल्य उसके अंकित मूल्य से कम होता है तो हम कह सकते हैं कि शेयर बट्टे पर है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 16.
यदि मूलधन = 10000 रुपए, ब्याज की दर = 24% वार्षिक, समय = 2 माह तथा | ब्याज मासिक हो, तो चक्रवृद्धि मिश्रन की गणना कीजिए।
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Half-Yearly Q16

प्रश्न 17.
शीला ने बचत खाते में 5 जुलाई 2009 को 800 रुपए जमा करके खाता खोला। 8 जुलाई 2009 को उसने 200 रुपए जमा किए। 17 जुलाई को 400 रुपए निकाल लिए। वह राशि ज्ञात कीजिए, जिस पर उसे माह जुलाई 2009 के लिए ब्याज प्राप्त होगा।
हल:
शीला के बचत खाते की पास-बुक में प्रविष्टियाँ निम्न प्रकार होंगी

 तिथि विवरण  राशि
(रुपयों में)

निकाली गई
राशि(रुपयों में)

जमा की गई
(रुपयों में)
शेष राशि
वर्ष 2009
जुलाई 5
जुलाई 8
जुलाई 17


नकद द्वारा
नकद द्वारा
स्वयं को देय

——
——
400
800
200
——
800
1000
200

10 जुलाई से 31 जुलाई के बीच न्यूनतम राशि जिस पर ब्याज देय होगा = 600 रुपए

प्रश्न 18.
एक कम्पनी 25 लाख रुपए की पूँजी एकत्रित करने के लिए शेयरों का विज्ञापन करती है। यदि एक शेयर का अंकित मूल्य 100 रुपए हो, तो कम्पनी द्वारा जारी किए गए शेयरों की संख्या ज्ञात कीजिए।
हल:
कंपनी की पूँजी = 2500000 रुपए
एक शेयर का अंकित मूल्य = 100 रुपए
UP Board Class 8 Maths Model Paper Half-Yearly Q18

प्रश्न 19.
पार्श्व चित्र में, ABCD एक चक्रिय चतुर्भुज है। यदि ∠A = 65° तथा ∠B = 70°, तो ∠C तथा ∠D का मान ज्ञात कीजिए।
हल:
हम जानते हैं कि चक्रिय चतुर्भुज के सम्मुख कोण सम्पूरक होते हैं।
UP Board Class 8 Maths Model Paper Half-Yearly Q19
⇒ ∠A + ∠C = 180°
⇒ ∠C = 180° − A.
परंतु   ∠A = 65° दिया है।
∠C = 180° − 65° = 115°
और  ∠B + ∠D = 180°
⇒ ∠D = 180° − B
= 180° − 70° = 110°

प्रश्न 20.
निम्नलिखित बारम्बारता बंटन का बहुलक ज्ञात कीजिए।

पद

25 32 35 38 41

42

बारंबारता

2 1 6 4 3 2

हल:
उपर्युक्त बारम्बारता बंटन सारणी में 35 की बारंबारता सबसे अधिक है।
अतः बहुलक = 35 होगा।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 21.
रमेश ने 7500 रुपए की पूँजी लगाकर एक कम्पनी के शेयर 150 रुपए प्रति शेयर की दर से क्रय किया, जबकि प्रति शेयर का अंकित मूल्ये 100 रुपए था। कंपनी ने 25% की दर से वर्ष के अन्त में लाभांश दिया। रमेश द्वारा अर्जित लाभांश ज्ञात कीजिए।
हल:
रमेश द्वारा क्रय किए गए शेयर =\frac { 7500 }{ 150 }
1 शेयर का अंकित मूल्य = 100 रुपए
50 शेयरों का अंकित मूल्य = 50 x 100 रुपए = 5000 रुपए
रमेश द्वारा प्राप्त लाभांश =\frac { 5000\times 25 }{ 100 } रुपए

प्रश्न 22.
निम्नलिखित सारणी में 24 शिक्षार्थियों की आयु (वर्षों में) दी हुई है। माध्यिका ज्ञात कीजिए:

आयु (वर्षों में) 12 13 14 15 16
बारंबारता 4 5 4 6 5

हल:

आयु (वर्षों में)

बारंबारता

संचयी बारंबारता

12
13
14
15
16
4
5
4
6
5

4
9
13
19
24

योग

n = 24

UP Board Class 8 Maths Model Paper Half-Yearly Q22

प्रश्न 23.
निम्न समीकरण \frac{x-b-c}{a}+\frac{x-c-a}{b}+\frac{x-a-c}{c}=3 को हल करके पर x का मान ज्ञात कीजिए।
हल:
माना a + b + c= 0
तब  a = − b − c, b=− c − a, c =− a −b
\frac{x-b-c}{a}+\frac{x-c-a}{b}+\frac{x-a-c}{c}=3
\frac{x+a}{a}+\frac{x+b}{b}+\frac{x+c}{c}=3
 \frac{b c x+a b c+c a x+a b c+a b x+a b c}{a b c}=3
⇒ bcx + cax + abx + 3 abc = 3 abc
⇒ bcx + cax + abx = 0
⇒x (bc+ ca+ ab) = 0
⇒a + b+c = 0
∴ तथा x= 0
∴ x= a + b + c

प्रश्न 24.
निम्नलिखित बारम्बारता बंटन सारणी में 60 शिक्षार्थियों के प्राप्तांक दिए गए हैं।

प्राप्तांक

0-10 10-20 20-30 30-40 40-50 50-60 60-70 70-80
शिक्षार्थियों
की संख्या
2 4 5 8 12 15 9

5

आँकड़ों को आयत चित्र द्वारा प्रदर्शित कीजिए।
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Half-Yearly Q24

प्रश्न 25.
एक चतुर्भुज PQRS की रचना कीजिए, जिसमें ∠Q= 45°, ∠R= 135°, QR = 5 सेमी, PQ=9 सेमी और RS = 7 सेमी।
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Half-Yearly Q25
रचना
(i) सर्वप्रथम रेखाखंड QR=5 सेमी खींचा।
(ii) फिर QR के बिन्दु Q तथा R से
क्रमशः
45° तथा 135° के कोण बनाएँ।
(iii) बिन्दु R पर 7 सेमी की त्रिज्या का
चाप
खींचा जो ∠R को S पर काटता है।
(iv) बिन्दु Q पर 9 सेमी की त्रिज्या का
चाप
खींचा जो ∠Q को P पर काटा है।
(v) PS को मिलाया।
अतः PQRS अभीष्ट चतुर्भुज है।

 

वार्षिक-परीक्षा प्रश्न-पत्र
कक्षा-8
विषय – गणित

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
समुच्चय V= [a, e, i, o, u] का वर्णन कीजिए।
हल:
समुच्चय V अंग्रेजी वर्णमाला के स्वरों का समुच्चय है।

प्रश्न 2.
बिंदु ( 2, 4) की स्थिति किस चतुर्थाश में होगी?
हल:
बिंदु (2,4) की स्थिति प्रथम चतुर्थाश में होगी।

प्रश्न 3.
परिसर किसे कहते हैं?
हल:
आँकड़ों में सबसे बड़ी व सबसे छोटी संख्या का अन्तर, आँकड़ों का परिसर कहलाता है।

प्रश्न 4.
एक समांगी पासे के 48 बार फेंकने पर प्रत्येक फलक के ऊपर आने की संभावनाओं को समान मान लेने पर ज्ञात कीजिए कि अंक 1, 2, 3, 4, 5, 6 में से प्रत्येक कितनी बार ऊपर आएगा?
हल:
अंकों की संख्या = 6 .
पासा फेंका गया = 48 बारे ‘
प्रत्येक अंक में दिए पासों की संख्या = 48 ÷ 6 = 8 बार

प्रश्न 5.
प्रथम छह प्राकृतिक विषम संख्याओं का समुच्चय ज्ञात कीजिए।
हल:
N= {1, 3, 5, 7, 9, 11}

प्रश्न 6.
किसी वृत्त में केन्द्र से जीवा पर डाला गया लम्ब जीवा को _______ करता है। वाक्य पूर्ण कीजिए।
हल:
किसी वृत में केन्द्र से जीवा पर डाला गया लम्ब जीवा को समद्विभाजित करता है।

प्रश्न 7.
क्या व्यास वृत्त की छेदक रेखा है?
हल:
नहीं

प्रश्न 8.
एक बेलन के आधार की त्रिज्या : सेमी तथा ऊँचाई h सेमी है। इस बेलन का आयतन =_______तथा वक्रपृष्ठ___ होगा। वाक्य पूर्ण कीजिए।
हल:
एक बेलन के आधार की त्रिज्या 7 सेमी तथा ऊँचाई h सेमी है। इस बेलन का आयतन = πr²h तथा वक्रपृष्ठ = 2πrh होगा।

प्रश्न 9.
समबाहु त्रिभुज की भुजा की लम्बाई x सेमी है। उसका परिमाप ज्ञात कीजिए।
हल:
समबाहु त्रिभुज की भुजा = x सेमी
समबाहु त्रिभुज का परिमाप = 3x सेमी

प्रश्न 10.
समुच्चय A= {2, 4, 6} की सदस्य संख्या बताइए।
हल:
n(A) = 3.

प्रश्न 11.
उन महीनों के नामों का समुच्चय बनाइए, जिनमें 31 दिन होते हैं।
हल:
D = {जनवरी, मार्च, मई, जुलाई, अगस्त, अक्टूबर, दिसम्बर)

प्रश्न 12.
लम्ब वृत्तीय शंकु किसे कहते हैं?
हल:
समकोण त्रिभुज को यदि समकोण बनाने वाली उसकी एक भुजा के परितः घुमाया जाए, तो इसके द्वारा निर्मित ठोस को लम्बवृत्तीय शंकु कहते हैं।

प्रश्न 13.
2x + 4y= 6 में x के मान y के पदों में लिखिए।
हल:
2x + 4y= 6
⇒ 2 (x + 2y) = 6
⇒ x + 2y = 3
⇒ x = 3 − 2y

प्रश्न 14.
\frac{x}{5}-\frac{5}{x}=0 को हल कीजिए।
हल:
\frac{x}{5}-\frac{5}{x}=0
\frac{x}{5}=\frac{5}{x}
x²=\sqrt { 25 }
x = ±5
अत: x= + 5 तथा x=-5

प्रश्न 15.
अर्द्धवृत्त में बना कोण किस प्रकार का होता है?
हल:
अर्द्धवृत्त में बना कोण समकोण होता है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 16.
एक समलम्ब की समान्तर भुजाएँ 3 सेमी और 4 सेमी हैं। इनके बीच की दूरी 3 सेमी है। क्षेत्रफल ज्ञात कीजिए।
हल:
दिया है, b, = 3 सेमी, b, = 4 सेमी तथा h = 3 सेमी ।
अत: समलम्ब चतुर्भुज का क्षेत्रफल =\frac{1}{2} x (समान्तर भुजाओं का योग) x ऊँचाई
=\frac{1}{2} x (b1 + b2) x h
=\frac{1}{2}x (3 +4) x 3
=\frac{1}{2} x7 x 3 =\frac{21}{2} वर्ग सेमी
= 10.5 वर्ग सेमी.

प्रश्न 17.
दो सिक्के एक साथ 40 बार उछाले गए। यदि HH, HT, TH क्रमशः 9, 8, 12 बार आए हों, तो ज्ञात कीजिए कि TT कितनी बार आया होगा।
हल:
सिक्के उछाले गए = 40 बार, तीन परिणामों (HH, HT, TH) के लिए उछाले गए सिक्के
(9 + 8 + 12) = 29 बार .
TT के लिए उछालमए सिक्के = 40 − 29 = 11 बार

प्रश्न 18.
पाश्र्व चित्र में, o वृत्त का केन्द्र है और वृत्त की त्रिज्या 13 सेमी है। AB वृत्त की जीवा है।
यदि AD = 12 सेमी, तो लम्बे OD की लम्बाई ज्ञात कीजिए।
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Annual Q18

ΔODA में, ∠D = 90°, OA= 13 सेमी, DA= 12 सेमी। पाइथागोरस प्रमेय से,
OD2 = OA² − DA²
= 13² − 12² = 169 − 144 = 25
∴ OD = \sqrt { 25 } = 5 सेमी

प्रश्न 19.
यदि एक रोलर का व्यास 70 सेमी तथा लम्बाई 2 मीटर है, तो बताइए कि 50 चक्कर में रोलर कितने वर्ग मीटर चलेगा?
हल:
रोलर का व्यास = 70 सेमी व लम्बाई = 2 मीटर
रोलर की त्रिज्या = 35 सेमी = 0.35 मीटर
रोलर का व्रकपृष्ठ = 2πrh = 2 x \frac{22}{7} x 0.35 x 2 = 4.4 वर्ग मीटर .
रोलर द्वारा 1 चक्कर में चला क्षेत्रफल = 4.4 वर्ग मीटर
अतः रोलर द्वारा 50 चक्कर में चला क्षेत्रफल = 50 x 4.4 = 220 वर्ग मीटर

प्रश्न 20.
चित्र में, 28 सेमी भुजा का एक वर्ग है इसमें भुजाओं को स्पर्श करता हुआ वृत्त बना है। वृत्त का क्षेत्रफल ज्ञात कीजिए।
हल:
वर्ग की भुजा
UP Board Class 8 Maths Model Paper Annual Q20
= वृत्त का व्यास = 28 सेमी |
वृत्त की त्रिज्या =\frac{28}{2}= 14 सेमी
वृत्त का क्षेत्रफल= πr2 = \frac { 22 }{ 7 } x 14 x 14 वर्ग सेमी
= 22 × 2 × 14 वर्ग सेमी
= 616 वर्ग सेमी

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 21.
पाँच वर्ष पहले पिता की आयु उसके पुत्र की आयु की तीन गुनी थी और 10 वर्ष । बाद पिता की आयु उसके पुत्र की आयु की दो गुनी हो जाएगी। बताइए कि पिता * की वर्तमान आयु कितनी है?
हल:
माना पिता की वर्तमान आयु = x वर्ष
तथा
पुत्र की वर्तमान आयु = yवर्ष
पाँच वर्ष पहले पिता की आयु = x − 5
पाँच वर्ष पहले पुत्र की आयु = y − 5
प्रश्नानुसार,
(x − 5) = 3 (y − 5)
x − 5 = 3y − 15
x − 3y = −15 +5
x − 3y = −10
(x+10) = 2(y + 10)
x + 10 = 2y + 20
x − 2y = 20 − 10
x − 2y = 10
समीकरण
(i) में से समीकरण
(ii) को घटाने पर,
UP Board Class 8 Maths Model Paper Annual Q21
y का मान समीकरण
(i) में रखने पर,
⇒ x − 3 × 20 = −10
⇒ x − 60 = −10
⇒ x = 60 − 10

अतः
पिता की आयु = 50 वर्ष
तथा पुत्र की आयु = 20 वर्ष

प्रश्न 22.
एक नाव जिसकी शान्त जल में चाल 15 किमी/घण्टा है, धारा की दिशा में 30 किमी । जाने पर फिर उसी स्थान पर पुनः वापस आने में कुल समय 4 घण्टे 30 मिनट लगता है। धारा की चाल ज्ञात कीजिए।
हल:
माना धारा की चाल = x किमी/घण्टा
नाव की शान्त जल में चाल = 15 किमी/घण्टा
धारा के प्रतिकूल दिशा में नाव की चाल = (15-x) किमी/घण्टा
धारा के बहावं की दिशा में नाव की चाल = (15+x) किमी/घण्टा
धारी के प्रतिकूल दिशा में 30 किमी दूरी तय करने में लगा समय =\frac { 30 }{ 15-x } घण्टे
धारा के बहाव की दिशा में 30 किमी दूरी तय करने में लगा समय = \frac{30}{15+x} घण्टे
कुल दूरी तय करने में लगा कुल समय =\left(\frac{30}{15-x}+\frac{30}{15+x}\right) घण्टे
परंतु कुल समय = 4 घण्टे 30 मिनट
⇒ 4 \frac{30}{60} = 4 \frac{1}{2}
⇒ \frac{9}{2} घण्टे
⇒ \frac{30}{15-x}+\frac{30}{15+x}=\frac{9}{2}
⇒ 30\left(\frac{15+x+15-x}{(15-x)(15+x)}\right)=\frac{9}{2}
⇒ \frac{30 \times 30}{225-x^{2}}=\frac{9}{2}
⇒ 2 × 30 × 30 = 9x (225 − x²)
⇒ 1800 = 9 x (225 − x²)
⇒ 200 = 225 − x²
⇒ 200 − 225 = –x²
⇒ −25 = −x² = ±√25 = ±5
⇒ x=5 (चाल ऋणात्मक नहीं होती है)
अतः धारा की चाल = 5 किमी/घण्टा

प्रश्न 23.
एक पाँसे को 1000 बार फेंकने पर प्राप्त परिणामों 12,3A,5, 6 बारम्बारताएँ निम्नांकित । सारणी में दी हुई हैं। 1, 2, 3, 4, 5, 6 में प्रत्येक के आने का प्रतिशत ज्ञात कीजिए।

परिणाम

1 2 3 4 5 6
बारम्बारता 180 150 160 140 180

190

हल:
बारम्बारता 1 का प्रतिशत = [latexs=2]\frac{180}{1000} \times 100[/latex] =18%
बारम्बारता 2 का प्रतिशत = \frac{150}{1000} \times 100 = 15%
बारम्बारता 3 का प्रतिशत = \frac{160}{1000} \times 100 = 16%
बारम्बारता 4 का प्रतिशत = \frac{140}{1000} \times 100 = 14%
बारम्बारता 5 का प्रतिशत = \frac{180}{1000} \times 100 = 18%
बारम्बारता 6 का प्रतिशत = \frac{190}{1000} \times 100 = 19%

प्रश्न 24.
एक 11 सेमी व्यास वाले बेलनाकार बरतन में कुछ पानी भरा है। यदि 5.5 सेमी भुजा का एक घनाकार ठोस को पूरी तरह पानी में डुबा दिया जाए, तो बर्तन में पानी की | सतह कितनी ऊपर उठ जाएगी?
हल:
घनाकार ठोस की भुजा = 5.5 सेमी
घनाकार ठोस का आयतन = (5.5) घन सेमी
बर्तन की त्रिज्या =\frac{11}{2} = 5.5 सेमी
यदि पानी का तल h सेमी ऊपर उठ जाता है तो बढ़े हुए
पानी का आयतन = π(5.5)2xh घन सेमी
प्रश्नानुसार,
पानी का आयतन = घनाकार ठोस का आयतन
h=\frac{5.5}{\pi} = 5.5 \times \frac{7}{22} = 1.75 सेमी
अतः पानी की सतह 1.75 सेमी ऊपर उठ जाएगी।

प्रश्न 25.
पार्श्व चित्र में, वृत्त की दो जीवाएँ AB और CD एक दूसरे को वृत्त के बाहर बिंदु P पर काटती हैं। यदि ∠P=30° और ∠A=35° हो, तो ∠CBP ज्ञात कीजिए।
हल:
UP Board Class 8 Maths Model Paper Annual Q25
∠C =∠A= 35°
∠P =30°
∠CBP = 180° − (2C+ ZP)
= 180° − (35° + 30) = 180° − 65° = 115°

We hope the UP Board Class 8 Maths Model Paper गणित, help you. If you have any query regarding UP Board Class 8 Maths Model Paper गणित, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

UP Board Class 8 Geography Model Paper भूगोल : पृथ्वी और हमारा जीवन

UP Board Class 8 Geography Model Paper are part of UP Board Class 8 Model Papers. Here we have given UP Board Class 8 Geography Model Paper.

Board UP Board
Class Class 8
Subject Geography
Model Paper Paper 1
Category UP Board Model Papers

UP Board Class 8 Geography Model Paper भूगोल : पृथ्वी और हमारा जीवन

सत्र-परीक्षा प्रश्न-पत्र
कक्षा-8
विषय-सामाजिक अध्ययन
पृथ्वी और हमारा जीवन

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
लोहा कितने प्रकार का होता है?
उत्तर:
लोहा चार प्रकार का होता है-

  1. मैग्नेटाइट
  2. हेमाटाइट
  3. लिमोनाइट
  4. लेटराइट

प्रश्न 2.
सूर्य का प्रकाश किस प्रकार का संसाधन है?
उत्तर:
प्राकृतिक संसाधन

प्रश्न 3.
भारत में मैंगनीज का सबसे बड़ा भण्डार किस राज्य में है?
उत्तर:
भारत में मध्यप्रदेश तथा महाराष्ट्र में मैंगनीज के सबसे बड़े भण्डार हैं।

प्रश्न 4.
कुछ प्रमुख खाद्यान्न फसलों के नाम बताइए।
उत्तर:
प्रमुख खाद्यान्न फसलें- गेहूं, चावल, जौ, चना, मटर आदि।

प्रश्न 5.
खनिज पदार्थ किसे कहते हैं?
उत्तर:
वे पदार्थ जो खोदकर धरती से निकाले जाते हैं, खनिज कहलाते हैं।

प्रश्न 6.
भारत में मुख्य कपास उत्पादक राज्यों के नाम लिखिए।
उत्तर:
भारत में कपास महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, पंजाब आदि राज्यों में होता है।

प्रश्न 7.
गेहूं की पैदावार के लिए कैसी जलवायु की आवश्यकता होती है?
उत्तर:
गेहूं की पैदावार के लिए दोमट मिट्टी और सामान्य वर्षा की आवश्यकता होती है।

प्रश्न 8.
फसलें कितने प्रकार की होती हैं? नाम सहित लिखिए।
उत्तर:
फसलें मुख्यतः तीन प्रकार की होती हैं- रबी की फसलें, खरीफ की फसलें तथा जायद की फसलें

प्रश्न 9.
नियहि कृषि किसे कहा जाता है?
उत्तर:
जो कृषि केवल स्थानीय आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए की जाती है, उसे निर्वाह कृषि कहते हैं।

प्रश्न 10.
ग्वी की फसलों के दो उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
रबी की फसले- गेहूं, चना।

प्रश्न 11.
नकदी फसलों के दो उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
नकदी फसले- गन्ना, कपास।

प्रश्न 12.
टपक पद्धति सिंचाई किस प्रकार की फसलों के लिए की जाती है?
उत्तर:
टपक पद्धति सिंचाई वागानी फसलों के लिए की जाती है।

प्रश्न 13.
खेती के लिए कौन-सी खाद सर्वोत्तम है?
उत्तर:
खेती के ,लिए कि खाद सोतन है।

प्रश्न 14.
खान किसे कहते हैं?
उत्तर:
अटी ::रात से निज खोदकर निकाला जाता है, उसे खान कहते हैं।

प्रश्न 15.
बॉक्साइट को गलाकर कौन-सा धातु निकाला जाता है?
उत्तर:
बॉक्साइट को गलाकर एल्युमीनियम निकाला जाता है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 16.
लौह-अयस्क किसे कहते हैं?
उत्तर:
जब लौह धातु को अन्य पदार्थों में मिलाया जाता है तब इसे लौह-अयस्क कहते हैं।

प्रश्न 17.
गेहूँ, मटर इत्यादि की सिंचाई किस पद्धति से की जाती है?
उत्तर:
गेहूँ, मटर इत्यादि की सिंचाई स्प्रिंकलर पद्धति द्वारा की जाती है।

प्रश्न 18.
सिंचाई के प्राचीन साधन क्या हैं?
उत्तर:
कुएँ और तालाब सिंचाई के प्राचीन साधन हैं।

प्रश्न 19.
जूट से क्या-क्या बनाया जाता है?
उत्तर:
जूट से थैले, दरियाँ, रस्सी तथा बोरी बनाई जाती है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 20.
हरित क्रान्ति का क्या अर्थ है? इसका क्या उद्देश्य था?

प्रश्न 21.
नवीकरणीय और अनवीकरणीय संसाधन में अंतर स्पष्ट करें।
उत्तर:
ऐसे संसाधन जो प्रकृति में असममि मात्रा में उपलब्ध हैं। जिनको प्राकृतिक प्रक्रियाओं द्वारा या मानव द्वारा नवीकृत अथवा पुन:पूरित किया जा सकता है, नवीकरणीय संसाधन कहलाते हैं। सूर्य प्रकाश, पवन, वायु आदि कभी न समाप्त होने वाले नवीकरणीय संसाधन के उदाहरण हैं। ये पृथ्वी पर असीमित मात्रा में उपलब्ध हैं और मनुष्य जितना चाहे इसका उपयोग करे इसकी मात्रा में फर्क नहीं पड़ता। ऐसे प्राकृतिक संसाधन जो भूतकाल में निर्मित हुए हैं तथा जिनका भंडार सीमित मात्रा में है, अनवीकरणीय संसाधन कहलाते हैं। इन संसाधनों का एक बार उपयोग कर लेने के बाद इन्हें पुनः प्राप्त नहीं किया जा सकता। प्रकृति में उपब्ध धातुएँ और जीवाशी ईधन (कोयला, पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस) अनरणीय संसाधन हैं क्योंकि ऐसे संसाधनों के पुनः निर्मित होने में हजारों वर्ष लग जाते हैं।

प्रश्न 22.
भारी एवं लघु उद्योग में क्या अन्तर है?

अर्द्धवार्षिक-परीक्षा प्रश्न-पत्र
कक्षा-8
विषय-सामाजिक अध्ययन
पृथ्वी और हमारा जीवन

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
यातायात के साधन किसे कहते हैं?
उत्तर:
जिन साधनों द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान तक व्यक्ति व वस्तुओं का आवागमन होता है, उन्हें यातायात के साधन कहते हैं।

प्रश्न 2.
स्थल मार्ग के साधन क्या है?
उत्तर:
जो साधन जमीन पर चलते हैं, उन्हें स्थलमार्ग के साधन कहते हैं, जैसे- बस, रेल, ताँगा आदि।

प्रश्न 3.
जल मार्ग के साधन क्या हैं?
उत्तर:
जो साधन पानी पर चलते हैं, उन्हें जलमार्ग के साधन कहते हैं, जैसे- पानी के जहाज, नाव आदि।

प्रश्न 4.
वायु मार्ग के साधन क्या हैं?
उत्तर:
जो साधन हवा में चलते हैं, उन्हें वायु मार्ग के साधन कहते हैं, जैसे- हवाई जहाज, हेलीकॉप्टर आदि।

प्रश्न 5.
जलमार्ग को कितने भागों में बाँटा जाता है?
उत्तर:

  1. आन्तरिक जलमार्ग
  2. समुद्री जलमार्ग।

प्रश्न 6.
व्यापार से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
वस्तुओं के खरीदने व बेचने की प्रक्रिया को व्यापार कहते हैं।

प्रश्न 7.
मुम्बई पत्तन में सबसे अधिक निर्यात क्यों होता है?
उत्तर:
चूंकि मुम्बई भारत की औद्योगिक राजधानी है, इसलिए यहाँ से सबसे अधिक निर्यात होता है।

प्रश्न 8.
अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार क्या हैं?
उत्तर:
दो देशों के बीच व्यापार अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार कहलाता है।

प्रश्न 9.
निर्यात किसे कहते हैं?
उत्तर:
जब हमारा देश आवश्यकता से अधिक पैदा हुई या बनी हुई वस्तु को दूसरे देश को बेचता है, तो उसे निर्यात (Export) कहते हैं।

प्रश्न 10.
मेट्रो रेल मार्ग किसे कहते हैं?
उत्तर:
कोलकाता, दिल्ली आदि महानगरों में यातायात की सुविधा के लिए जमीन के अन्दर रेलमार्ग बनाए गए हैं। इसे मेट्रो रेल मार्ग कहा जाता है।

प्रश्न 11.
भारत का सबसे मुख्य सड़क मार्ग कौन-सा है?
उत्तर:
भारत का सबसे मुख्य सड़क मार्ग कोलकाता से दिल्ली होता हुआ अमृतसर (पंजाब) में पाकिस्तान देश की सीमा तक जाने वाला ‘ग्राण्ड ट्रंक रोड’ (जी० टी० रोड) है।

प्रश्न 12.
अनुकूलतम जनसंख्या किसे कहते हैं?
उत्तर:
अनुकूलतम जनसंख्या, जनसंख्या की वह स्थिति है जो देश में उपलब्ध भूमि, सुविधाओं एवं अन्य प्राकृतिक संसाधनों पर दवाब न डालती हो।

प्रश्न 13.
वायु परिवहन की उपयोगिता लिखिए।
उत्तर:
वायु परिवहन यातायात की सबसे तेजगति का साधन है। इसके द्वारा व्यक्ति देश व विदेश में बहुत कम समय में पहुँच जाता है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 14.
देश की प्रगति के लिए आयात-निर्यात दोनों आवश्यक हैं, क्यों?
उत्तर:
किसी देश की प्रगति के लिए आयात-निर्यात अत्यन्त आवश्यक हैं क्योंकि एक देश में सभीप्रकार की वस्तुएँ आवश्यकता के अनुरूप नहीं मिल सकती हैं। इस कारण अपनी आवश्यकता के अनुसार सभी देशों को आयात-निर्यात करना पड़ता है।

प्रश्न 15.
औद्योगीकरण के दो परिणाम लिखिए।
उत्तर:
औद्योगीकरण के दो परिणाम

  1. औद्योगीकरण की वृद्धि के कारण तीव्र जनसंख्या वृद्धि हो रही हैं।
  2. इसके कारण नगरों की ओर ग्रामीण जनसंख्या का स्थानान्तरण हो रहा है।

प्रश्न 16.
किन-किन देशों की जनसंख्या उत्तर प्रदेश से अधिक है?
उत्तर:
‘ सम्पूर्ण विश्व में केवल 4 देश ही ऐसे हैं, जिनकी जनसंख्या उत्तर प्रदेश से अधिक है। ये देश चीन, भारत, संयुक्त राज्य अमेरिका एवं इण्डोनेशिया हैं।

प्रश्न 17.
भारत के तीन सीमेण्ट उत्पादक राज्यों के नाम लिखिए?
उत्तर:
उत्तर प्रदेश, झारखण्ड, राजस्थान सीमेन्ट उत्पादक प्रदेश हैं।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 18.
यातायात साधनों की उपयोगिता लिखिए।

प्रश्न 19.
जनसंख्या के वितरण में अन्तर क्यों पाया जाता हैं?

प्रश्न 20.
संचार के विभिन्न साधनों की उपयोगिता लिखिए।

वार्षिक-परीक्षा प्रश्न-प्रत्र
कक्षा-8
विषय-सामाजिक अध्ययन
पृथ्वी और हमारा जीवन

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
मानव संसाधन के कौन-से मुख्य घटक हैं?
उत्तर:
मानव संसाधन के मुख्य घटक आयु, लिंग, साक्षरता, जीवन स्तर इत्यादि हैं।

प्रश्न 2.
मानव के विकास के लिए सबसे महत्त्वपूर्ण घटक क्या है?
उत्तर:
मानव के विकास के लिए सबसे महत्त्वपूर्ण घटक शिक्षा है।

प्रश्न 3.
जन्मदर किसे कहते हैं?
उत्तर:
प्रति एक हजार की जनसंख्या पर जन्मे जीवित बच्चों की संख्या को जन्मदर कहते हैं।

प्रश्न 4.
मृत्युदर किसे कहते हैं?
उत्तर:
प्रति एक हजार की जनसंख्या पर मरने वालों की संख्या को मृत्युदर कहते हैं।

प्रश्न 5.
टैगा प्रदेश के कुछ जीव-जन्तु शीत ऋतु में भूमि के नीचे क्यों चले जाते हैं?
उत्तर:
शीतऋतु में अधिक बर्फ होने के कारण टैगा प्रदेश के जीव जमीन के नीचे चले जाते हैं।

प्रश्न 6.
भूमध्य सागरीय प्रदेश में जाड़े में वर्षा क्यों होती है?
उत्तर:
यहाँ पर पछुआ हवाओं के चलने से शीतऋतु में वर्षा होती है।

प्रश्न 7.
मानसून एशिया के देशों के नाम लिखिए।
उत्तर:
भारत, श्रीलंका, सिंगापुर, नेपाल, पाकिस्तान, चीन, भूटान, अफगानिस्तान आदि।

प्रश्न 8.
मानसून प्रदेश किसे कहते हैं?
उत्तर:
जहाँ मौसमी पवनों द्वारा वर्षा होती है, उन प्रदेशों को मानसूनी प्रदेश कहते हैं।

प्रश्न 9.
मानसून प्रदेश में वर्षा किस ऋतु में अधिक होती है?
उत्तर:
मानसून प्रदेश में वर्षा, वर्षा ऋतु में अधिक होती है।

प्रश्न 10
मानसूनी प्रदेश की मुख्य फसलें कौन-कौन-सी हैं?
उत्तर:
मानसूनी प्रदेश की मुख्य फसलें चावल, दाल, कहवा, गन्ना, जूट, कपास, गेहूँ, जौ, चना आदि हैं।

प्रश्न 11.
मानसूनी प्रवेश के चाय और चावल के प्रमुख वो उत्पादक देश कौन-से हैं?
उत्तर:
चीन और भारत मानसूनी प्रदेश के चाय और चावल के प्रमुख उत्पादक देश हैं।

प्रश्न 12.
‘स्टेपी’ किसे कहते हैं?
उत्तर:
रूस में घास के मैदान को स्टेपी कहते हैं।

प्रश्न 13.
जनगणना कितने वर्षों के अन्तराल पर की जाती है?
उत्तर:
प्रति 10 वर्ष के।

प्रश्न 14.
साधन किसे कहते हैं?
उत्तर:
जिस वस्तु के द्वारा हम कोई कार्य करते हैं, उसे साधन कहते हैं।

प्रश्न 15.
जनसंख्या में परिवर्तन क्यों होता है
उत्तर:
जन्मदर की तुलना में मृत्युदर में परिवर्तन होने के कारण ही जनसंख्या में परिवर्तन होता है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 16.
घास प्रदेश में दुग्ध व्यवसाय क्यों विकसित है?
उत्तर:
क्योंकि यहाँ बड़े-बड़े घास के मैदान होने के कारण पशुओं के लिए चारा आसानी से उपलब्ध हो जाता है।

प्रश्न 17.
सर्दियों में साइबेरिया के पक्षी मानसून प्रदेश में क्यों निवास करते हैं?
उत्तर:
सर्दियों में साइबेरिया में अत्यधिक बर्फ पड़ती है। अधिक बर्फ के कारण यहाँ के पक्षी मानसूनी प्रदेश में प्रवास करते हैं।

प्रश्न 18.
भूमध्य सागरीय प्रवेश किस लिए प्रसिद्ध हैं?
उत्तर:
जिस तरह शीतोष्ण घास के मैदान खाद्यान्न उत्पादन एवं दुग्ध उत्पादन के लिए विश्व विख्यात हैं। उसी तरह भूमध्य सागरीय प्रदेश फलों के उत्पादन के लिए विश्व प्रसिद्ध हैं।

प्रश्न 19.
नरौरा परमाणु ऊर्जा केन्द्र कहाँ स्थित है?
उत्तर:
नरौरा परमाणु ऊर्जा केंद्र उत्तर प्रदेश में स्थित है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 20.
उत्तर प्रदेश कृषि एवं पशुपालन की दृष्टि से एक सम्पन्न राज्य क्यों है?

प्रश्न 21.
जनसंख्या वितरण में अन्तर क्यों पाया जाता है?

प्रश्न 22.
कारण बताइए

  1. भूमध्य सागरीय प्रदेश में जाड़े में वर्षा क्यों होती है?
  2. घास प्रदेश में दुग्ध व्यवसाय क्यों विकसित है?
  3. घास प्रदेश के लोग कृषि के लिए मशीनों का प्रयोग न करें तो क्या परिणाम होगा?

We hope the UP Board Class 8 Geography Model Paper, help you. If you have any query regarding UP Board Class 8 Geography Model Paper, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

UP Board Class 8 Environment Model Paper पर्यावरण : हमारा पर्यावरण

UP Board Class 8 Environment Model Paper are part of UP Board Class 8 Model Papers. Here we have given UP Board Class 8  Environment Model Paper.

Board UP Board
Class Class 8
Subject Environment
Model Paper Paper 1
Category UP Board Model Papers

UP Board Class 8 Environment Model Paper पर्यावरण : हमारा पर्यावरण

सत्र परीक्षा प्रश्न पत्र
कक्षा-8
विषय-हमारा पर्यावरण

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
अपने पर्यावरण के दस अजैविक घटकों के नाम लिखिए।
उत्तर:
नदी, झील, सागर, महासागर, पहाड़, पठार, रेगिस्तान मैदान, हवा, धूप आदि अजैविक घटक हैं।

प्रश्न 2.
भूमि से प्राप्त होने वाले किन्हीं पाँच पदार्थों के नाम लिखिए।
उत्तर:
भूमि से प्राप्त होने वाले पदार्थ हैं- फल, सब्जियाँ, अनाज, लकडिझाँ, औषधियाँ आदि।

प्रश्न 3.
प्रकृति में ऊर्जा का प्रमुख स्रोत क्या है?
उत्तर:
सूर्य।

प्रश्न 4.
जल के स्रोत कौन-कौन से हैं?
उत्तर:
धरातलीय जल, भूमिगत जल, वर्षा तथा हिमनद।

प्रश्न 5.
मिट्टी किसे कहते हैं?
उत्तर:
भूमि की सबसे ऊपरी परत को मिट्टी कहते हैं।

प्रश्न 6.
मिट्टी के कितने प्रकार हैं?
उत्तर:
मिट्टी के मुख्य रूप से तीन प्रकार हैं- काली मिट्टी, लाल मिट्टी तथा लैटराइट मिट्टी।.

प्रश्न 7.
प्राणी साँस लेते समय कौन-सी गैस ग्रहण करते हैं?
उत्तर:
ऑक्सीजन।

प्रश्न 8.
कारखानों की चिमनियों से कौन-सी गैस निकलती है?
उत्तर:
कार्बन डाइऑक्साइड।

प्रश्न 9. समुद्र का जल कैसा होता है?
उत्तर:
खारा।

प्रश्न 10.
गंगा तथा यमुना नदियों का संगम कहाँ होता है?
उत्तर:
प्रयाग में।

प्रश्न 11.
दूषित जल से कौन-सी बीमारियाँ होती हैं?
उत्तर:
आँत रोग, टायफाइड, पेचिश आदि।

प्रश्न 12.
जलमण्डल क्या है?
उत्तर:
पृथ्वी का जल वाला भाग।

लघुउत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 13.
गैसीय अपशिष्ट पदार्थ के स्रोत क्या हैं ?
उत्तर:
गैसीय अपशिष्ट पदार्थ के स्त्रोत हैं- लकड़ी, कोयला, कारखाने, परिवहन के साधन, मरे हुए । जीव-जंतु, अँगीठी, सिगरेट, बीड़ी आदि।

प्रश्न 14.
ई-कचरा से आप क्या समझते हैं ? उदाहरण सहित लिखिए।
उत्तर:
ई-कचरा से तात्पर्य है- इलेक्ट्रॉनिक कचरा जो ऑफिस एवं घरों से निकलता है। इसके अन्तर्गत खराब कम्प्यूटर, मोबाइल फोन, सी०डी०, बैटरी व अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे- टी०वी०, वाशिंग मशीन, रेफ्रिजरटेर, ए०सी० आदि आते हैं।

प्रश्न 15.
जल हमारे लिए क्यों उपयोगी है?
उत्तर:
जल न केवल हमारी प्यास बुझाता है बल्कि हमारे जीवन की विभिन्न गतिविधियों के लिए भी आवश्यक है। जैसे- कृषि उद्योग, घरेलू कार्यों, पर्यावरण, मनोरंजन आदि में जल अत्यंत आवश्यक है।

प्रश्न 16.
पर्यावरण से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
जल, वायु, प्रकाश, मिट्टी, पेड़-पौधे आदि जिनसे हम चारों ओर से घिरे हैं, ये सभी एक साथ मिलकर हमारा पर्यावरण कहलाते हैं।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 17.
प्राकृतिक संसाधन कौन-कौन से हैं? वे हमारे लिए किस प्रकार उपयोगी हैं?
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ठ- 449 देखें।

प्रश्न 18.
वायुमण्डल क्या है? हमारे वायुमण्डल का संतुलन कैसे बिगड़ रहा है?
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ठ- 453 देखें।

प्रश्न 19.
अपशिष्ट संग्रह के दुष्प्रभावों को उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ठ- 450 देखें।

अर्धवार्षिक परीक्षा प्रश्न पत्र
कक्षा-8
विषय-हमारा पर्यावरण

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
भू-जल का स्तर नीचे क्यों गिरता जा रहा है ?
उत्तर:
वर्षा की कमी व जल की अधिक माँग होने के कारण भू-जल का स्तर नीचे गिरता जा रहा है।

प्रश्न 2.
भू-जल में वृद्धि कैसे की जा सकती है ?
उत्तर:
वर्षा जल संचयन एवं पुनर्भरण से भू-जल में वृद्धि की जा सकती है।

प्रश्न 3.
मिट्टी किसे कहते हैं?
उत्तर:
भूमि की सबसे ऊपरी परत मिट्टी कहलाती है।

प्रश्न 4.
मिट्टी कितने प्रकार की होती है?
उत्तर:
मिट्टी मुख्य रूप से तीन प्रकार की होती है- काली मिट्टी, लाल मिटी तथा लैटराइट मिट्टी।

प्रश्न 5:
पेड़-पौधे अपना भोजन बनाते समय किस गैस का प्रयोग करते हैं?
उत्तर:
कार्बन डाइऑक्साइड का।

प्रश्न 6.
जल के भाप बनकर उड़ने की क्रिया को क्या कहते हैं?
उत्तर:
वाष्पीकरण।

प्रश्न 7.
जनसंख्या में वृद्धि किस क्रम से होती है?
उत्तर:
ज्यामितीय क्रम से।

प्रश्न 8.
कोयला कैसा स्रोत है?
उत्तर:
अपूर्य स्रोत।

प्रश्न 9.
वाहनों को चलाने के लिए न्यूनतम प्रदूषण वाला ईंधन कौन-सा है?
उत्तर:
सी०एन०जी०।

प्रश्न 10.
वाहनों से निकलने वाले धुएँ में कौन-सी गैस पाई जाती है?
उत्तर:
कार्बन मोनोक्साइड।

प्रश्न 11.
वायु में किस गैस की मात्रा सबसे अधिक है?
उत्तर:
नाइट्रोजन।

प्रश्न 12.
घरों की नालिया का गंदा पानी किस प्रकार का अपशिष्ट है?
उत्तर:
द्रव अपशिष्ट।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 13.
किन्हीं चार इमारती लकड़ियों के नाम लिखए ?
उत्तर:
चार इमारती लकड़ियों के गम हैं – शीशम मात्र, सागौन और देवदार।

प्रश्न 14.
प्रत्येक प्रर में शौचालय होना क्यों आवख्यक है ?
उत्तर:
मले मूत्रके उचित निस्तरण तथ अदभी से बचन क लिए प्रत्यक घर में सोचलय हनआतश्यक है।

प्रश्न 15.
पशुओं के मृत शरीर को कौन-कौन से जीव खाते हैं?
उत्तर:
कुत्त, बिल्ली, गिद्थ, बाज, कौआ, चील, लोमड़ी आदि।

प्रश्न 16.
मृदा प्रदूषण के नियंत्रण हेतु क्या करना चाहिए?
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ट- 457, देखों ।

प्रश्न 17.
अपशिष्ट संग्रह के भय का उदाहर सहित ममइए।
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ट- 450, देखों ।

प्रश्न 18.
गैसीय अपशिष्ट क्या है? इसका सुरक्षित निष्कासन किस प्रकार से किया जा सकता है?
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ठ- 453 देखें।

प्रश्न 19.
अनुकूलन से आप क्या समझते हैं? मरुस्थलीय पौधे अपने वातावरण में किस प्रकार अनुकूलित रहते हैं?
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ठ- 455 देखें।।

वार्षिक परीक्षा प्रश्न पत्र
कक्षा-8
विषय-हमारा पर्यावरण

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
भू-जल में वृद्धि कैसे की जा सकती है?
उत्तर:
वर्षा जल संचयन एवं पुनर्भरण से भू-जल में वृद्धि की जा सकती है।

प्रश्न 2.
वायु को प्रदूषित करने वाली गैसों का नाम लिखिए ?
उत्तर.
कार्बन मोनोऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड, हाईड्रोकार्बन, क्लोरीन, अमोनिया, मिथेन आदि वायु को  प्रदूषित करने वाली गैसें हैं।

प्रश्न 3.
उत्तर प्रदेश में स्थित राष्ट्रीय उद्यान एवं वन्यजीव अभ्यारण्य के नाम लिखिए।
उत्तर:
उत्तर प्रदेश में स्थित राष्ट्रीय उद्यान- दुधवा राष्ट्रीय उद्यान उत्तर प्रदेश में स्थित वन्यजीव अभ्यारण्यचन्द्रप्रभा अभ्यारण्य ।

प्रश्न 4.
वनों की संख्या कम होने के क्या कारण हैं?
उत्तर:
मनुष्य द्वारा अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु, शहरीकरण और औद्योगीकरण के बढ़ते चलन के कारण वनों की अंधाधुंध कटाई की गई। जिससे वनों की संख्या कम हो गई।

प्रश्न 5.
वन जानवरों को किस प्रकार लाभ पहुँचाते हैं?
उत्तर:
वन जानवरों को भोजन, आश्रय और जीने की अनुकूल परिस्थितियाँ देकर उन्हें लाभ पहुँचाते हैं।

प्रश्न 6.
वायु प्रदूषण से होने वाले दो रोगों के नाम लिखो।
उत्तर:
दमा तथा कैंसर ।

प्रश्न 7.
भूजल स्तर नीचे क्यों गिरता है?
उत्तर:
वर्षा जल की कमी तथा जल की अधिक माँग के कारण।

प्रश्न 8.
भूजल में वृद्धि कैसे की जा सकती है?
उत्तर:
वर्षा जल का संचयन एवं पुनर्भरण करके।

प्रश्न 9.
गैसीय अपशिष्ट के प्रमुख दोन कौन-से हैं?
उत्तर:
कारखानों की चिमनियाँ, वाहन, बीड़ी-सिगरेट आदि।

प्रश्न 10.
जलाने पर सबसे कम प्रदूषण करने वाला ऊर्जा का स्रोत कौन-सा है?
उत्तर:
एल०पी०जी०।

प्रश्न 11.
जनसंख्या वृद्धि से क्या तात्पर्य है?
उत्तर:
लागों की संख्या बढ़ने के कारण जब हमारे प्राकृतिक संसाधन कम पड़ने लगते हैं तो हम इसे जनसंख्या वृद्धि कहते हैं।

प्रश्न 12.
पर्यावरणीय असंतुलन के दुष्परिणाम लिखें।
उत्तर:
आँधी, तूफान, अकाल जैसी आपदाएँ तथा प्रदूषण आदि सभी पर्यावरण असन्तुलन के दुष्परिणाम हैं।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 13.
ऑक्सीजन का जीवन में क्या महत्व है?
उत्तर:
ऑक्सीजन का जीवन में बहुत अधिक महत्त्व है। किसी भी प्राणी को जीवित रखने के लिए ऑक्सीजन अनिवार्य है इसलिए इसे प्राण वायु भी कहा जाता है।यह आग जलाने के लिए भी आवश्यक है।

प्रश्न 14.
जनसंख्या बढ़ने पर ऐतिहासिक इमारतें कैसे प्रभावित होती हैं ? लिखिए।
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ठ- 458-459 देखें।

प्रश्न 15.
एल०पी०जी० में पाई जाने वाली मुख्य गैस है-
उत्तर:
एल०पी०जी० में पाई जाने वाली मुख्य गैस ब्यूटेन है।

प्रश्न 16.
जैव गैस से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर:
ग्रामीण क्षेत्रे में गोबर तथा कृषि अपशिष्ट सरलता से उपलब्ध होते हैं। कुछ समय पूर्व तक इन्हें सीधे जलाकर ऊर्जा प्राप्त की जाती थी। किन्तु इससे वायु प्रदूषण होता था और ऊर्जा की हानि भी। अतः अब इनके द्वारा उत्तम गैसीय ईंधन प्राप्त किया जाता है। इन्हें बायोगैस या जैव गैस कहते हैं।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 17.
ध्वनि प्रदूषण से आप क्या समझते हैं? इसके प्रमुख कारणों को लिखिए।
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ठ- 457 देखें।

प्रश्न 18.
ऊर्जा संरक्षण के उपाय लिखिए।
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ठ- 459 देखें।

प्रश्न 19.
एड्स कैसे फैलता है ? इसके बचाव के उपाय बताइए।
उत्तर:
विद्यार्थी पृष्ठ- 460 देखें।

We hope the UP Board Class 8 Environment Model Paper पर्यावरण : हमारा पर्यावरण, help you. If you have any query regarding UP Board Class 8 Environment Model Paper पर्यावरण : हमारा पर्यावरण, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

UP Board Class 8 History and Civics Model Paper इतिहास : हमारा इतिहास और नागरिक जीवन

UP Board Class 8 History and Civics Model Paper are part of UP Board Class 8 Model Papers. Here we have given UP Board Class 8 History and Civics Model Paper.

Board UP Board
Class Class 8
Subject History and Civics
Model Paper Paper 1
Category UP Board Model Papers

UP Board Class 8 History and Civics Model Paper इतिहास : हमारा इतिहास और नागरिक जीवन

सत्र-परीक्षा प्रश्न-पत्र
कक्षा-8
विषय – हमारा इतिहास और नागरिक जीवन

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
19वीं शताब्दी से यूरोपीय शक्तियों ने भारत आना क्यों प्रारम्भ किया?
उत्तर:
19वीं शताब्दी से भारत में व्यापार करने के लिए यूरोपीय शक्तियों ने भारत आना प्रारम्भ किया।

प्रश्न 2.
किन्हीं चार यूरोपीय देशों के नाम लिखें जो व्यापार करने भारत आएँ।
उत्तर:
पुर्तगाल, फ्रांस, हॉलैण्ड और ब्रिटेन।

प्रश्न 3.
भारत आने वाला प्रथम यूरोपियन कौन था?
उत्तर:
पुर्तगाल निवासी वास्कोडिगामा भारत आने वाली प्रथम यूरोपियन था।

प्रश्न 4.
फरमान क्या होते थे?
उत्तर:
राजाओं द्वारा विदेशी कम्पनियों को दिए गए अधिकार पत्र फरमान कहलाते थे।

प्रश्न 5.
ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कम्पनी की ताकत बढ़ाने में किसका विशेष योगदान था?
उत्तर:
ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कम्पनी की ताकत बढ़ाने में लार्ड क्लाइव का विशेष योगदान था।’

प्रश्न 6.
डलहौजी की राज्य हड़पने की नीति क्या थी?
उत्तर:
डलहौजी की राज्य हड़पने की विलय नीति थी।

प्रश्न 7.
मैसूर के दो शक्तिशाली शासकों के नाम लिखिए।
उत्तर:
मैसूर के दो शक्तिशाली शासक हैदरअली एवं उसका बेटा टीपू सुल्तान थे।

प्रश्न 8.
किस नीति द्वारा वेलेजली ने भारत के अनेक राजाओं को अपने नियन्त्रण में लिया था?
उत्तर:
सहायक सन्धि नीति द्वारा वेलेजली ने भारत के अनेक राजाओं को अपने नियन्त्रण में लिया था।

प्रश्न 9.
मराठा शक्ति के क्षीण होने के क्या कारण थे?
उत्तर:
अफगान शासक अहमदशाह अब्दाली ने मराठा संघ की सेनाओं को सन 1769 में पानीपत के तृतीय युद्ध में पराजित किया, जिससे मराठा शक्ति बहुत क्षीण हो गई।

प्रश्न 10.
लोकतन्त्र से क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
लोकतन्त्र का तात्पर्य ऐसी शासन व्यवस्था से है, जिसमें देश के लोग परोक्ष या अपरोक्ष रूप से शासन व्यवस्था में समान भागीदार हों।

प्रश्न 11.
लोकतन्त्र का पहला आवश्यक आधार स्तम्भ क्या है?
उत्तर:
लोकतन्त्र का पहला आवश्यक आधार स्तम्भ है- स्वतन्त्र और निष्पक्ष चुनाव।

प्रश्न 12.
सैन्य अनुसंधान और प्रशिक्षण केन्द्र क्यों स्थापित किए गए?
उत्तर:
सेना को आधुनिक बनाने, सैन्य बल की स्थापना बढ़ाने तथा सेना की नई जरूरतों को पूरा करने के लिए सैन्य अनुसंधान और प्रशिक्षण केन्द्र स्थापित किए गए।

प्रश्न 13.
भारतीय सेना का सर्वोच्च सेनापति कौन है?
उत्तर:
भारतीय सेना का सर्वोच्च सेनापति राष्ट्रपति है।

प्रश्न 14.
कर किसे कहा जाता था?
उत्तर:
कर- विदेशी कम्पनियों द्वारा भारत में सामान बेचने पर प्राप्त लाभ का कुछ हिस्सा राजाओं को देना पड़ता था, जिसे शुल्क या कर कहा जाता था।

प्रश्न 15.
गुट निरपेक्षता की परिभाषा दीजिए।
उत्तर:
गुट निरपेक्षता- राजनैतिक दृष्टि से बने गुयें तथा सैन्य गुटों में शामिल न होने को गुटनिरपेक्षता कहा जाता है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 16.
विदेशी कम्पनियों ने व्यापार में लाभ के लिए कौन-से तरीके अपनाए?
उत्तर:
विदेशी कम्पनियों ने व्यापार में लाभ के लिए साम, दाम, दण्ड व भेद के सभी तरीके अपनाए। राजाओं से अनुमति माँगी, खुशामद की और कुछ भेंट भी दी। इन नीतियों के कारण उनका व्यापार खूब बढ़ा।।

प्रश्न 17.
बक्सर के युद्ध का महत्त्व बताइए?
उत्तर:
बक्सर के युद्ध का भारतीय इतिहास में बहुत महत्व है। जहाँ प्लासी की जीत ने अंग्रेजों की आर्थिक स्थिति मजबूत की, वहीं बक्सर की जीत ने अंग्रेजों के पैर भारत में और मजबूत कर दिए।

प्रश्न 18.
सहायक संधि क्या थी?
उत्तर:
सहायक संधि के अंतर्गत देशी राजाओं पर यह दबाव डाला गया कि वे अंग्रेजों के संरक्षण । में आ जाएँ और उसके बदले में अंग्रेजी राज्य उनकी आंतरिक सुरक्षा एवं वाह्य शक्तियों से रक्षा करने का उत्तरदायित्व अपने ऊपर लेगा।

प्रश्न 19.
व्यापारिक कंपनी से आप क्या समझते हो?
उत्तर:
व्यापारिक कंपनियों का अर्थ है- व्यापार में कई लोगों की हिस्सेदारी। सभी हिस्सेदार व्यापार में अपनी-अपनी पूँजी लगाते थे और लगाई गई पूँजी के अनुपात में व्यापार से होने वाले . मुनाफे को आपस में बाँट लेते थे।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 20.
डलहौजी की राज्य हड़पने की नीति क्या थी? इस नीति के क्या उद्देश्य थे?

प्रश्न 21.
पुराने यूरोपीय व्यापारिक मार्ग कौन से थे? नये व्यापारिक मार्गों की खोज क्यों शुरू हुई?

प्रश्न 22.
1857 की क्रान्ति के चार कारण विस्तार पूर्वक लिखिए

 

अर्द्धवार्षिक-परीक्षा प्रश्न-पत्र
कक्षा-8
विषय – हमारा इतिहास और नागरिक जीवन

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
किस अधिनियम के द्वारा सभी उच्च वेतने वाले पदों पर सिर्फ ब्रिटिश नागरिक ही नियुक्त हो सकते थे?
उत्तर:
इण्डियन कौंसिल एक्ट 1861 के द्वारा।

प्रश्न 2.
किस अधिनियम के द्वारा वायसराय की परिषद् के सदस्यों की संख्या बारह से सोलह करं दी गई?
उत्तर:
इण्डिया कौंसिल एक्ट 1892 के द्वारा।

प्रश्न 3.
किस अधिनियम के द्वारा काउंसिल के सदस्यों को बजट पर विचार करने का अधिकार दिया गया?
उत्तर:
इण्डियन कौंसिल एक्ट 1892 के द्वारा परिषद् के सदस्यों को शासन सम्बन्धी विषयों पर प्रश्न पूछने तथा बजट पर विचार विमर्श करने का अधिकार दिया गया।

प्रश्न 4.
भारतीय विश्वविद्यालय अधिनियम कब पारित हुआ?
उत्तर:
शिक्षा के प्रसार हेतु 1904 में भारतीय विश्वविद्यालय अधिनियम पारित हुआ।

प्रश्न 5.
नि:शस्वीकरण क्या है?
उत्तर:
विनाशकारी अस्त्र-शस्त्रों का प्रचुर मात्रा में संग्रह न करना नि:शस्त्रीकरण है।

प्रश्न 6.
सुप्रीम कोर्ट की स्थापना किस गवर्नर जनरल के समय में हुई?
उत्तर:
सुप्रीम कोर्ट की स्थापना 1774 ई० में वारेन हेस्टिस के समय हुई।

प्रश्न 7.
भारतीयों के लिए नागरिक सेवा प्रतियोगिता कब आरम्भ की गई?
उत्तर:
सन 1853 में।

प्रश्न 8.
भारत में यूरोपीय शैली की शिक्षा प्रणाली किसने आरम्भ की?
उत्तर:
न्नाई मैकाले ने।

प्रश्न 9.
भारत में अंग्रेजों का अन्तिम गर्वनर कान था?
उत्तर:
लार्ड कैनिंग।

प्रश्न 10.
1857 के विद्रोह का प्रतीक क्या था?
उत्तर:
न रोटी तथा कमल का फूल।

प्रश्न 11.
थल सेनाध्यक्ष को क्या कहते हैं?
उत्तर:
जनरल।

प्रश्न 12.
भारतीय सेना को सर्वोच्च कमाण्डर कौन होता है?
उत्तर:
राष्ट्रपति।

प्रश्न 13.
परमाणु परीक्षण किसे कहते हैं?
उत्तर:
परमाणु शक्ति उपकरण की जाँच के लिए किया जाने वाला प्रयोग परमाणु परीक्षण है।

प्रश्न 14.
दक्षेस’ क्या है?
उत्तर:
दक्षेस-इसका पूरा नाम दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन है। अंग्रेजी में इसका सक्षप्त नाम सार्क (SAARC) है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 15.
1835 ई० में कौन-सी भाषा भारतीय प्रशासन की सरकारी भाषा बनी?
उत्तर:
1835 ई० में अंग्रेजी भाषा भारतीय प्रशासन की सरकारी भाषा बनी।

प्रश्न 16.
डाँडी यात्रा किसने और क्यो की थी?
उत्तर:
डाँडी यात्रा गांधी जी ने की। उन्होंने डाँडी नामक स्थान पर नमक बनाया और ब्रिटिश सरकार | के सामने एक बड़ी चुनौती खड़ी कर दी।

प्रश्न 17.
ज्योतिबा फुले ने किस समाज का गठन किया?
उत्तर:
ज्योतिबा फुले ने सत्यशोधक समाज का गठन किया?

प्रश्न 18.
बंगाल में दोहरी शासन व्यवस्था किसने शुरू की?
उत्तर:
बंगाल पर नियंत्रण होने के बाद क्लाइव ने बंगाल में दोहरी शासन व्यवस्था शुरू की।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 19.
अंग्रेजों के व्यापार के लिए भारत की क्या-क्या चीजें महत्त्वपूर्ण थी?

प्रश्न 20.
1857 ई० की क्रांति की असफलता के कारण लिखिए।

प्रश्न 21.
ब्रिटिश संसद द्वारा भारत में किए गए चार प्रशासनिक सुधारों के बारे में लिखिए।

 

वार्षिक परीक्षा प्रश्न-पत्र
कक्षा-8
विषय – हमारा इतिहास और नागरिक जीवन

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
रामकृष्ण मिशन के संस्थापक कौन थे?
उत्तर:
रामकृष्ण मिशन के संस्थापक स्वामी विवेकानन्द थे।

प्रश्न 2.
ब्रह्मसमाज की स्थापना कब और किसने की?
उत्तर:
ब्रह्मसमाज की स्थापना 1828 ई० में राजा राममोहन राय ने की।

प्रश्न 3.
समाज सुधार आन्दोलन में सक्रिय किन्हीं दो महिला सुधारकों के नाम लिखिए।
उत्तर:
दो महिला सुधारक सावित्री फूले व पंडिता रमाबाई सरस्वती।

प्रश्न 4.
‘ट्रेन ऑफ वेल्थ’ नामक पुस्तक किसने लिखी?
उत्तर:
दादाभाई नौराजी ने ‘ड्रेन ऑफ वेल्थ’ नामक पुस्तक लिखी।

प्रश्न 5.
भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस की स्थापना कब र किसने की?
उत्तर:
भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस की स्थापना सन 1885 ई० में ए.ओ. ह्यूम ने की।

प्रश्न 6.
होमरूल आंदोलन किसने प्रारम्भ किया?
उत्तर:
श्रीमती एनीबेसेन्ट एवम् लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने होमरूल आंदोलन प्रारम्भ किया।

प्रश्न 7.
मच्छरों से बचने के लिए किस चीज़ का प्रयोग करना चाहिए?
उत्तर:
मच्छरों से बचने के लिए मच्छरदानी का प्रयोग करना चाहिए।

प्रश्न 8.
भारत में नागरिक सुरक्षा संगठन की स्थापना कब हुई?
उत्तर:
भारत पर चीन के आक्रमण के पश्चात् सन 1962 ई० में नागरिक सुरक्षा संगठन की स्थापना हुई।

प्रश्न 9.
रात में हवाई हमले के समय दुश्मन को भ्रमित करने के लिए क्या किया जाता है?
उत्तर:
रात को हवाई हमले के समय दुश्मन को भ्रमित करने के लिए ब्लैक आउट किया जाता है।

प्रश्न 10.
विकलांगता का सबसे बड़ा कारण क्या है?
उत्तर:
विकलांगता का सबसे बड़ा कारण दुर्घटनाएँ हैं।

प्रश्न 11.
नवजागरण से क्या तात्पर्य है?
उत्तर:
धर्म तथा समाज से सम्बन्धित पुरानी परम्पराओं एवं मान्यताओं में परिवर्तन लाने के लिए किए गए प्रयास।

प्रश्न 12.
पंचशील के पहले सिद्धान्त का वर्णन कीजिए।
उत्तर;
पंचशील का पहला सिद्धान्त- एक-दूसरे राज्य की सीमा एवं उसकी प्रभुसत्ता का सम्मान किया जाए। किसी पर हमला न करके आपसी झगड़ों को शान्तिपूर्ण ढंग से सुलझाया जाए।

प्रश्न 13.
ड्राई पाउडर अग्निशामक यन्त्र का प्रयोग क्यों किया जाता है?
उत्तर;
ड्राई पाउडर अग्निशामक यन्त्र – यह बहते हुए द्रव पदार्थ की आग बुझाने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें मुख्य रूप से सोडियम बाई कार्बोनेट का प्रयोग किया जाता है।

प्रश्न 14.
यूनेस्को किस क्षेत्र में कार्य करती है?
उत्तर:
शिक्षा के क्षेत्र में।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 15.
बंगाल छावनी के किस सिपाही ने कारतूस का प्रयोग करने से मना कर दिया था?
उत्तर:
बंगाल छावनी के सिपाही मंगल पाण्डे ने कारतूस का प्रयोग करने से मना कर दिया था।

प्रश्न 16.
होमरूल लीग स्थापित करने का क्या उद्देश्य था?
उत्तर:
सन् 1914 ई० में लोकमान्य तिलक ने होमरूल लीग की स्थापना की। इसका उद्देश्य अँग्रेजी साम्राज्य के अधीन रहते हुए भारतीयों को अपना शासन करने की स्वतन्त्रता देना था।

प्रश्न 17.
तुम दूसरों की सहायता किस प्रकार कर सकते हो?
उत्तर:
यात्रा करते समय बड़े-बूढ़ों, महिलाओं, विकलांगों तथा बच्चों की मदद उनके लिए सीट खाली करके कर सकते हैं। इन्हें हमारी दया नहीं सहयोग चाहिए।

प्रश्न 18.
मुगल बादशाह जहाँगीर के दरबार में आने वाला प्रथम अंग्रेज राजदूत कौन था?
उत्तर:
मुगल बादशाह जहाँगीर के दरबार में आने वाली प्रथम अंग्रेज राजदूत कैप्टन हॉकिन्स था।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 19.
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना कब और क्यों हुई? स्पष्ट करिए।

प्रश्न 20.
चुनाव की प्रक्रिया का संक्षिप्त वर्णन कीजिए।

प्रश्न 21.
राजनैतिक और सामाजिक अधिकारों के अन्तर्गत किस प्रकार के अधिकार नागरिकों को दिए गए हैं?

 

We hope the UP Board Class 8 History and Civics Model Paper इतिहास : हमारा इतिहास और नागरिक जीवन, help you. If you have any query regarding UP Board Class 8 History and Civics Model Paper इतिहास : हमारा इतिहास और नागरिक जीवन, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.